लाहुल-स्पीति को झटका… कैरोसिन 110 के पार

By: Sep 21st, 2022 12:10 am

पूर्व विधायक रवि ठाकुर बोले, सरकार ने मिट्टी के तेल के दाम बढ़ा लोगों के साथ किया अन्याय

कार्यालय संवाददाता-केलांग
महंगाई की मार झेल रहे लाहुल-स्पीति के लोगों को एक और झटका भाजपा सरकार ने दे डाला है। इस बार ठंड से बचने के लिए अलाव जलाना भी घाटी के लोगों को महंगा पड़ेगा। महज 60 से 70 रुपए प्रति लीटर मिलने वाला मिट्टी का तेल अब लाहुल में 112 रुपए प्रति लीटर पहुंच गया है। बताया जा रहा है कि मिट्टी के तेल की बढ़ी कीमतों का कारण इस पर मिलने वाली सबसिडी को समाप्त करना है। लिहाजा इस बार की सर्दियां लाहुल-स्पीति के लोगों को जहां काफी परेशान करेंगी वहीं अलाव जलाने से पहले भी उन्हें कई बार सोचना पड़ेगा।

जेब पर भारी पडऩे वाली मिट्टी के तेल की कीमत ने जहां जनजातीय जिला लाहुल-स्पीति के लोगों की टेंशन बढ़ा दी है, वहीं लगातार बढ़ रही महंगाई को लेकर अब घाटी के लोगों ने आगामी विधानसभा चुनावों में इसका जवाब सत्ता परिवर्तन करके देने का निर्णय लिया है। उधर, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष एवं लाहुल-स्पीति के पूर्व विधायक रवि ठाकुर का कहना है कि जनजातीय जिला लाहुल-स्पीति में सर्दियों में जहां शून्य से नीचे तापमान रहता है, जो किसी से छिपा नहीं है। ऐसे में ठंड से बचने के लिए आग जलाना भी अब घाटी के लोगों की जेबों पर भारी पड़ेगा। उन्होंने सरकार पर जनजातीय जिला के लोगों की अनदेखी करने के आरोप लगाते हुए कहा है कि इससे पहले केरोसिन तेल पर जहां सबसिडी दी जाती थी और घाटी के लोगों को यह कम दाम पर उपलब्ध करवाया जाता था, उन्होंने कहा कि केरोसिन की कीमत प्रति लीटर घाटी में 110 रुपए से भी ज्यादा पहुंच गई है, जो आम आदमी के बजट से बाहर है। उन्होंने कहा है कि वे सरकार से मांग करते हैं कि जल्द से जल्द मिट्टी के तेल के बढ़े दामों को वापस लिया जाए और पहले की तरह ही इस पर सबसिडी दी जाए। उन्होंने दो टूक शब्दों में सरकार को चेतावनी दी है कि अगर केरोसिन के दाम घटाए नहीं गए तो लाहुल-स्पीति कांग्रेस इसे लेकर सडक़ों पर उतरेगी और सरकार के इस निर्णय के खिलाफ प्रदर्शन करेगी।