पंजाब में हाहाकार, हरियाणा-राजस्थान में पानी की बहार, बलबीर सिंह राजेवाल ने सरकारों पर उठाए सवाल

By: Nov 24th, 2022 12:06 am

राष्ट्रीय किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने सरकारों पर उठाए सवाल, हक के लिए एकजुट होकर लडेंग़े लड़ाई

खन्ना, २३ नवंबर (तेजिंद्र आर्टिस्ट)

भारतीय किसान यूनियन राजेवालए पंजाब की अहम मीटिंग गुरुद्वारा श्री मंजी साहिब कोट्टा में यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष बलबीर सिंह राजेवाल की अध्यक्षता में हुई। मीटिंग में 30 दिसंबर से पानी के मुद्दे पर मोर्चा लगाने संबधी समीक्षा पर चर्चा हुई। निर्णय लिया गया कि लोगों को जागरूक करने के लिए 24 नवंबर को चंडीगढ़, 28 नवंबर को जालंधर और 30 नवंबर को बठिंडा में सेमिनार आयोजित किए जाएंगे और सेमिनार को विशेषज्ञ संबोधित करेंगे। यह भी निर्णय लिया गया कि दो दिसंबर से 15 दिसंबर तक सभी जिले अपने-अपने गांवों में फ्लैग मार्च करेंगे और लोगों को 30 दिसंबर के मोर्चे के लिए प्रेरित करेंगे।

यह भी निर्णय लिया गया कि 30 दिसंबर को रात 12 बजे तक ट्रैक्टर ट्रॉलियों पर लंगर के सामान के साथ गुरुद्वारा श्रीअंब साहिब मोहाली में एकत्रित होकर जुलूस के रूप में चंडीगढ़ की ओर कूच करेंगे और जहां भी सरकार ने रोका किसान वहीं अनिश्चित काल के लिए धरना लगाकर बैठ जाएंगे बुधवार की बैठक में मोर्चे के लिए दूध, सब्जियां और अन्य रसद प्रबंध की ड्यूटियां लगाई गईं। मोर्चा संबंधी यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा कि पंजाब का पानी खत्म होने वाला है, जबकि केंद्र सरकार के दबाव में सरकार अंदरखाते एसवाईएल बनाने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार से यह मांग की जाएगी कि कागजों में जितना पानी पंजाब के किसानों के खेतों तक पहुंचने दिया गया है, वह हर खेत तक पहुंचाया जाए। राजेवाल ने कहा कि पानी राज्यों का विषय है, भले ही कोई पार्टी केंद्र में सरकार में रही हो, उसने हमेशा पंजाब को धोखा दिया है और असंवैधानिक तरीके से पंजाब का पानी हरियाणा, दिल्ली और राजस्थान को दिया है।

उन्होंने कहा कि दूध किसानों का सहायक व्यवसाय है। आज की मीटिंग में पंजाब के वरिष्ठ उपाध्यक्ष बलदेव सिंह मियांपुर, कश्मीरा सिंह जटाना, महासचिव राजिंदर सिंह कोट पनिच, सचिव घुमन सिंह राजगढ़, प्रैट सिंह माखू, संगठन सचिव मनमोहन सिंह थिंड, कोषाध्यक्ष गुलजार सिंह घनौर, प्रत सिंह कोट पंचए गुरमीत सिंह कपियाल, निर्भाई सिंह , ओमराज सिंह धरडीयू, प्रैट सिंह मेहदीपुर, गुरमेल सिंह जिला बठिंडा, रणधीर सिंह चक्रआदि भी मौजूद रहे।