नगर निगम के अब 34 वार्डों की बनेगी मतदाता सूचियां

By: Jan 26th, 2023 12:45 am

सुक्खू सरकार ने पलटा पूर्व सरकार का फैसला, नया रोस्टर होगा जारी, आदेश की प्रति मिलते ही राज्य निर्वाचन आयोग करेगा अध्ययन

स्टाफ रिपोर्टर—शिमला
नगर निगम शिमला के वार्डों की संख्या 34 ही रहेगी और इसी के अनुरूप अब मतदाता सूचियां और रोस्टर जारी होगा। नगर निगम शिमला के वार्डों की संख्या 34 से बढ़ाकर 41 की गई थी, लेकिन प्रदेश में नई सरकार बनने के बाद पूर्व सरकार के इस निर्णय पर पलटी हो गई है। चूंकि नगर निगम के बढ़ाए गए वार्डों में न तो नया क्षेत्र मर्ज किया गया था और न ही जनसंख्या में बढ़ोत्तरी हुई थी। ऐसे में पुनर्सीमांकन के पूर्व सरकार के फैसले से कांग्रेस के पार्षद असंतुष्ट थे और इस फैसले को बाकायदा तीन बार उच्च न्यायालय में चैलेंज किया है। कांग्रेस सरकार बनने के बाद से ही इसके संकेत दे दिए गए थे कि पूर्व में लिए गए निर्णय पर रिव्यू किया जाएगा और अब ऐलान कर दिया गया है कि शहर के 34 ही वार्ड रहेंगे। चूंकि वार्डों की संख्या फिर फिर से 34 हो गई है और निर्वाचन आयोग द्वारा 41 वार्डों के अनुरूप मतदाता सूचियां व रोस्टर जारी किया गया है, लेकिन अब स्थिति पहले वाली हो गई है, जिसे लेकर अब 34 वार्डों के अनुरूप वार्डों की मतदाता सूचियां और रोस्टर दोबारा से जारी हो सकता है।

ऐसे में निर्वाचन आयोग को एक बार फिर से 34 वार्डों के अनुरूप चुनाव को लेकर तैयारियां करनी पड़ेगी। बता दें कि नगर निगम शिमला के तहत सात नए वार्डों का निर्माण किया गया था, जिनमें शांकली, लोअर खलीणी, लोअर विकासनगर, ब्रॉकहॉस्ट, कंसुपटी-2, ढिंगूधार, लोअर कृष्णानगर के नाम से वार्डों का निर्माण किया गया था। इसके अलावा अन्य वार्डों की सीमाओं को इधर से उधर किया गया था, जिस पर आपत्तियां जताई गई थी। राज्य चुनाव आयोग के आदेशों के बाद जिला निर्वाचन विभाग द्वारा 41 वार्डों की मतदाता सूचियां बनाने का काम किया गया था, जिसमें से 36 वार्डों की मतदाता सूची तैयार कर ली गई थी, लेकिन पांच वार्डों समरहिल, बालूगंज, टूटीकंडी, नाभा व फागली वार्डों को लेकर निवर्तमान व पूर्व पार्षद ने इसे लेकर उच्च न्यायालय में एक नहीं तीन बार चुनौती दी है।