तीन माह से छात्रों को वजीफा नहीं; 150 आयुर्वेदिक पीजी स्कॉलर को झटका, घर से मांगने पड़ रहे पैसे

By: Dec 6th, 2023 9:50 pm

स्टाफ रिपोर्टर — शिमला

राजीव गांधी स्नातकोत्तर आयुर्वेदिक शिक्षण संस्थान पपरोला के पीजी स्टूडेंट्स पिछले तीन माह से अपने स्टाइपेंड का इंतजार कर रहे हैं। छात्रों का कहना है कि व्यवस्था परिवर्तन के इस दौर में इस तरह की परेशानी का होना अपेक्षित नहीं है। अब छात्र एसोसिएशन ने पिछले तीन माह से उन्हें वजीफा (स्टाइपेंड) न मिलने पर विभाग और सरकार के प्रति रोष प्रकट किया है। संगठन के अध्यक्ष डा. जसवंत सिंह ने कहा कि संस्थान के स्नातकोत्तर छात्रों को पिछले दो माह से स्टाइपेंड न मिलने के कारण परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सभी विभागों के कर्मचारी और अन्य प्रतिनिधियों को दिवाली पर बोनस और अन्य सुविधा उपलब्ध हुई हैं, वहीं स्नातकोत्तर छात्रों को घरों से अपने अभिभावकों से जेब खर्च और अन्य आवश्यक जरूरत के लिए पैसे मांगने के लिए मजबूर होना पड़ा है। पोस्ट ग्रेजुएट आयुर्वेदिक कालेज पपरोला में करीब 150 स्टूडेंट्स को यह स्टाइपेंड मिलता है। ये सभी पीजी स्कॉलर हैं।

इस राशि को पूर्व सरकार के समय बढ़ाया गया था। फस्र्ट ईयर के छात्रों को 23000 रुपये, सेकेंड ईयर के छात्रों को 24000 और थर्ड ईयर के छात्रों को 25000 रुपए स्टाइपेंड तय किया गया है। अब राजीव गांधी स्नातकोत्तर आयुर्वेदिक शिक्षण संस्थान पीजी स्टूडेंट्स एसोसिएशन ने सरकार से आग्रह कर इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग उठाई है और आयुष मंत्री हर्षवर्धन चौहान और आयुष सचिव से भी पिछले तीन महीने सितंबर अक्टूबर नवंबर का स्टाइपेंड जारी करने का आग्रह किया है। उधर, आयुर्वेद निदेशक विनय सिंह का कहना है कि आयुर्वेद विभाग की ओर से सरकार को यह पत्र भेजा गया है। आयुर्वेद सचिव ने अब वित्त सचिव को यह केस भेजा है। वहां से अनुमति और पैसा आने के बाद इसे जारी कर दिया जाएगा।


Keep watching our YouTube Channel ‘Divya Himachal TV’. Also,  Download our Android App