हिमाचल के सूरमा अब देश के रक्षक, प्रदेश के 14 युवा आईएमए की पीओपी में हुए पासआउट

By: Dec 9th, 2023 11:45 pm

दिव्य हिमाचल ब्यूरो— शिमला
शनिवार को देहरादून के आईएमए में आयोजित पासिंग आउट परेड में 343 युवा सेना में अफसर बने हैं। हिमाचल प्रदेश के 14 युवा आईएमए की पीओपी में पासआउट होकर सेना में अफसर बने हैं। हमीरपुर के नादौन के स्वास्तिक शर्मा और पालमपुर के कार्तिक राणा सेना में अफसर बन गए हैं। अवाहदेवी हमीरपुर के आशीष ठाकुर, कुल्लू से सुशांत और ऊना से चिराग वर्मा भी आर्मी में अफसर बने हैं। देहरादून में आयोजित आईएमए पीओपी में लेफ्टिनेंट बनकर उन्होंने देश रक्षा की शपथ ली। भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) में शनिवार को शानदार पासिंग आउट परेड के बाद भारतीय सेना को 343 जांबाज मिल गए।

दादा-पापा के नक्श-ए-कदम पर फतेहपुर के अभिमन्यु

फतेहपुर। हिमाचल में राष्ट्रीय जनसंख्या की 0.57 प्रतिशत हिस्सेदारी है, लेकिन सेना बल के चार प्रतिशत को पूरा करता है। हिमाचल के लोग हमेशा सशस्त्र बलों में सेवा देकर स्वयं पर गर्व करते हैं। शनिवार को भी कांगड़ा जिला कर फतेहपुर तहसील के मनोह सिहाल गांव से अभिमन्यु गुलेरिया लेफ्टिनेंट बने हैं। अभिमन्यु परिवार की तीसरी पीढ़ी हैं, जो देशसेवा कर रही है। अभिमन्यु ने ओटीए गया से राजपूत रेजिमेंट में कमीशन प्राप्त किया है। उनके पिता ब्रिगेडियर विक्रम गुलेरिया, जो कि भारतीय सेना में एक सेवारत अधिकारी हैं और उनके दादा कर्नल एसएस गुलेरिया (सेवानिवृत्त) ने भी राजपूत रेजिमेंट से कमीशन लिया था। अभिमन्यु के तकनीकी पृष्ठभूमि के होने से इंजीनियर रेजिमेंट में शामिल होने का विकल्प था, लेकिन अपने पूर्वजों के पद चिन्हों का अनुसरण करते हुए इन्फ्रैंट्री को चुना।

ऊना के संजय ठाकुर की कामयाबी से परिजन गदगद

ऊना। ऊना मुख्यालय की रक्कड़ कालोनी निवासी संजय ठाकुर आईएमए देहरादून से पास आउट हुए हैं। अब संजय 11 जाट रेजिमेंट में सेवाएं देंगे। संजय ने अपनी पहली से दसवीं तक की पढ़ाई माउंट कार्मल स्कूल ऊना से प्राप्त की। वहीं जमा एक व जमा दो की शिक्षा एसएसआरवीएम स्कूल से हासिल की। इसके बाद डिग्री कालेज ऊना में उच्च शिक्षा प्राप्त की। जहां दूसरे वर्ष ही सेना में भर्ती होकर डोगरा रेजिमेंट में चयनित हुए। 17 डोगरा रेजिमेंट में तीन साल उपरांत कमीशन प्राप्त किया और आईएमए देहरादून में प्रशिक्षण प्राप्त किया। उक्त परिवार की तीसरी पीढ़ी का यह नौंवा सदस्य आईआईएम देहरादून से पासआउट हुआ हैं। बेटे की उपलब्धि पर पिता राजकुमार, माता बीना देवी फूले नहीं समा रहे हैं।

सेना में लेफ्टिनेंट बने पालमपुर के सक्षम कौंडल

पालमपुर। पालमपुर की बंडविहार पंचायत के दरगील गांव के सक्षम कौंडल सेना में लेफ्टिनेंट बने हैं। सक्षम कौंडल की स्कूल शिक्षा केंद्रीय विद्यालय व आर्मी पब्लिक स्कूल मुंबई से और स्नातक डिग्री जामिया मिलिया इस्लामिया, दिल्ली ससे हुई है। उन्होंने भारतीय नौसेना में भी सेवाएं दी हैं। वह भारतीय नौसेना में जूनियर कमीशंड अधिकारी के पद पर थे। उन्होंने सैन्य अधिकारी बनने के लिए नौसेना के सेवाकाल में ही अनिवार्य लिखित परीक्षा व सेवा चयन बोर्ड को उत्तीर्ण किया। फिर उनका चयन एसीसी द्वारा सैन्य आकादमी में हुआ। चार साल की कड़ी मेहनत व सबसे मुश्किल प्रशिक्षण भारत की ख्यातिप्राप्त संगठन, भारतीय सैन्य अकादमी संपन्न करने के बाद उन्होंने शनिवार को लेेफ्टिनेंट के रूप में कमीशन लिया। उनके पिता संतोष कुमार भी भारतीय नौसेना से सेवानिवृत्त हुए हैं व माता सरिता देवी गृहिणी हैं।

देशसेवा के लिए तैयार गलोड़ के स्वास्तिक शर्मा

हमीरपुर। वीरों की धरती कहे जाने वाले जिला हमीरपुर का एक और बेटा सेना में अफसर बनकर देश की सेवा करेगा। नादौन तहसील के लोअर अमरोह (गलोड़) के रहने स्वास्तिक शर्मा सेना में लेफ्टिनेंट बने हैं। वह इंफेंट्री में सेवाएं देंगे। 21 वर्षीय स्वास्तिक के अनुसार, उन्हें सेना में जाने का मोटिवेशन शहीद कैप्टन विक्रम बत्तरा से मिला। इसके अलावा उन्हें एनसीसी और उनके दादा ने भी उन्हें सेना में जाने के लिए प्रेरित किया। स्वास्तिक के पिता तिलक राज, जो कि एक सरकारी अफसर हैं, उनके अनुसार बेटे का आर्मी में 35वां रैंक था और एयरफोर्स में ऑल इंडिया में तीसरा रैंक था, लेकिन बेटे की इच्छा सेना में ही जाने की थी। स्वास्तिक की माता कविता शिक्षिका हैं।


Keep watching our YouTube Channel ‘Divya Himachal TV’. Also,  Download our Android App