ओम की आकृति वाला शिव मंदिर

By: Feb 10th, 2024 12:22 am

भारत के मंदिर, उनकी भव्यता विश्व प्रसिद्ध है। इसलिए देश-दुनिया से लोग इन मंदिरों में दर्शन करने पहुंचते हैं। साथ ही इन मंदिरों की खूबसूरती वास्तुकला भी आत्मिक शांति देने वाली होती है। ओम सिर्फ एक पवित्र ध्वनि ही नहीं, बल्कि अनंत शक्ति का प्रतीक है। क्योंकि धार्मिक और आध्यात्मिक रूप में भी ओम का विशेष महत्त्व है। अनेक मंत्रों की उत्पत्ति भी ओम से ही हुई है। देश-विदेश में भगवान शिव की विशालकाय प्रतिमाएं व मंदिर मौजूद है। लेकिन प्रदेश के पाली जिले में मारवाड़ जंक्शन विधानसभा क्षेत्र के जाडन गांव में स्थित विश्वदीप गुरुकुल में दुनिया का इकलौता ओम आकार का शिव मंदिर बनकर तैयार हुआ है, जो 500 बीघा परिसर में बना है।

बनाने में लगे 28 साल- ओम आकार को भव्य रूप देने के लिए 28 वर्ष का समय लगा। 1995 में मंदिर निर्माण को लेकर भूमि पूजन किया गया था। इसके साथ ही ओम के आकार का यह दुनिया का एकमात्र भव्य मंदिर है, जहां पहाड़ और तालाब भी कृत्रिम बनाए गए हैं। फरवरी में मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी, प्राण प्रतिष्ठा समारोह में देश भर से साधु-संत, अनुयायी व श्रद्धालु कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। यहां 500 बीघा में ओम आकार में बने इस योग मंदिर के परिसर में और भी भवन हैं, जो सनातनी प्रतीकों के रूप में हैं। लोगों को सनातन संस्कृति व योग से जोडऩे के लिए श्री अलखपुरी सिद्धपीठ परंपरा के पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर स्वामी महेश्वरानंद महाराज ने इसे मूर्त रूप दिया है।

108 कमरों से दिया ओम आकार- ओम आकार मंदिर को मूर्त रूप देने के लिए 250 एकड़ में चार मंजिला इमारत में 108 कमरों का इस तरह निर्माण करवाया गया है ताकि ओम आकार साकार हो। इस मंदिर का शिखर 135 फुट ऊंचा है। सबसे ऊपर वाले भाग में शिवलिंग है। शिवलिंग पर ब्रह्मांड की आकृति को जीवंत किया गया है।

12 ज्योतिर्लिंगों के दर्शन- ओम आकार मंदिर में भगवान शिव की 1008 अलग-अलग प्रतिमाओं को नाम सहित स्थापित किया गया। शिव मंदिर में भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग स्वरूप के दर्शन होंगे। साथ ही नंदी की विशाल प्रतिमा बनाई गई है। यहां सूर्य मंदिर भी है, जो अष्टखंड में बना है। शिव मंदिर चार खंडों में बंटा है। एक हिस्सा जमीन के अंदर बना है। जबकि तीन हिस्से जमीन के ऊपर हैं। बीचोंबीच स्वामी माधवानंद की समाधि है। समाधि के चारों तरफ सप्त ऋषियों की मूर्तियां हैं।


Keep watching our YouTube Channel ‘Divya Himachal TV’. Also,  Download our Android App