मेडिकल बिल भुगतान न होने से लोग परेशान, ईएसआई के तहत पंजीकृत कर्मी छह महीने से कर रहे इंतजार

By: Feb 11th, 2024 10:05 pm

स्टाफ रिपोर्टर — शिमला

प्रदेश में विभिन्न कंपनियों के ईएसआई के तहत पंजीकृत कर्मचारियों और श्रमिकों को मेडिकल बिलों का भुगतान नहीं किया जा रहा है। पिछले करीब छह माह से ईएसआई के तहत पंजीकृत लोगों के मेडिकल बिलों का भुगतान नहीं किया गया है। मेडिकल बिलों का भुगतान न होने के कारण लोगों को इलाज करवाने के लिए दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। गौर हो कि जिन मजदूरों या कर्मचारियों का मासिक वेतन 21 हजार रुपए प्रतिमाह या उससे कम है, उन लोगों को ईएसआई स्कीम का फायदा मिल सकता है, जबकि दिव्यांग कर्मचारियों के लिए यह लिमिट 25000 रुपए रखी गई है। ईएसआई प्रतिपूर्ति फार्म जमा करके निजी अस्पताल के बिलों का दावा कर सकते हैं, लेकिन निजी अस्पताल के सटीक बिल राशि नहीं मिलती है, क्योंकि इन बिलों का भुगतान सरकारी अस्पताल की दरों के अनुसार किया जाता है।

जिन कंपनियों या संस्थान में 10 या उससे अधिक कर्मचारी हैं, उनके लिए 21000 रुपए प्रति माह से कम वेतन वाले कर्मचारियों के लिए ईएसआई अनिवार्य किया गया है। ईएसआई के तहत इलाज करवाने के बाद बिलों का भुगतान किया जाता है। प्रदेश में अगस्त माह से ईएसआई के तहत दस हजार अधिक राशि वाले मेडिकल बिल और अक्तूबर माह से दस हजार या इससे कम राशि वाले मेडिकल बिलों का भुगतान नहीं किया जा रहा है। ईएसआई के तहत मेडिकल बिलों का भुगतान न होने से श्रमिकों और कर्मचारियों को आर्थिक तंगी से जूझना पड़ रहा है। उधर, हैल्थ सेफ्टी एंड रेगुलेशन डायरेक्टर नीरज कुमार का कहना है कि मामला उनके ध्यान में आया है। उन्होंने कहा कि बिलों का भुगतान क्यों नहीं हो रहा, इस बारे में अधिकारियों से पता किया जाएगा।


Keep watching our YouTube Channel ‘Divya Himachal TV’. Also,  Download our Android App