न मार्केट कमेटी भंग हुई, न ही ऐसी कोई योजना

By: Apr 3rd, 2024 12:08 am

पंजाब मंडी बोर्ड के चेयरमैन व ’आप’ के महासचिव हरचंद सिंह बरसट का खुलासा, गलत जानकारी का किया खंडन

दिव्य हिमाचल ब्यूरो — चंडीगढ़

पंजाब मंडी बोर्ड के चेयरमैन और आम आदमी पार्टी पंजाब के महासचिव हरचंद सिंह बरसट ने मीडिया के कुछ वर्गों में दी जा रही गलत जानकारी का जोरदार खंडन किया है, जिसमें कहा जा रहा है कि 26 मार्केट कमेटियों को भंग कर दिया गया है और उनका प्रबंधन निजी साइलो को दिया गया है। उन्होंने स्पष्ट किया कि कोई भी मार्केट कमेटी भंग नहीं हुई है और न ही ऐसी कोई योजना है। बरसट ने बताया कि मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान ने निजी साइलो को मंडी यार्ड में बदलने का फैसला रद्द कर दिया है। किसानों की मांगों को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है। उन्होंने कहा कि साइलो को मंडी यार्ड बनाने का फैसला 2013 में अकाली-भाजपा सरकार ने लिया था और तब वे साइलो को खरीद केंद्र बनाते थे, लेकिन इस साल सीएम मान ने इस फैसले को डी-नोटिफाई कर दिया।

मंडी बोर्ड चैयरमेन ने कहा कि जहां तक खरीद केंद्रों की संख्या का सवाल है, तो किसानों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए हर साल नए खरीद केंद्र स्थापित किए जाते हैं। अभी तक पंजाब में कुल 1907 खरीद केंद्र हैं। इस बार 47 नए केंद्र और जुड़े हैं। किसानों की सुविधा को मुख्य रखते हुए हर वर्ष मंडियों की संख्या बढ़ाई जाती है। पिछले वर्ष 1860 खरीद केंद्र थे और इस वर्ष यह संख्या 1907 है, जो पिछले वर्ष से 47 अधिक है। उन्होंने कहा कि 2013 में 3 साइलो, 2014 में 1 साइलोए 2015 में 4 साइलो, 2017 में 1 साइलोए 2018 में 4 साइलो, 2019 में 1 साइलो, 2021 में 1 साइलो, 2023 में 10 साइलो को खरीद केंद्र घोषित किया गया। वर्ष 2024 में 12 साइलो को भी खरीद केंद्र घोषित किया गया थाए लेकिन मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान ने किसी भी निजी साइलो को खरीद केंद्र नहीं बनाने का निर्णय लिया। आप प्रवक्ता मलविंदर कंग ने हरसिमरत बादल और प्रताप बाजवा को उनकी सरकारों के दौरान इसका विरोध नहीं करने और निजी साइलो को मंडियों में बदलने के लिए घेरा। उन्होंने कहा भगवंत मान किसानों का दर्द समझते हैं। उन्होंने प्राथमिकता से इसे डी-नोटिफाई किया।

संजय सिंह की जमानत पर कार्यकर्ताओं को बधाई

मीडिया को संबोधित करते हुए कंग ने आप के वरिष्ठ नेता संजय सिंह की जमानत की खबर पर खुशी जाहिर की। कंग ने कहा कि पंजाब के अकाली और कांग्रेस नेताओं के विपरीत, संजय सिंह ने वास्तव में बड़े उत्साह के साथ किसान विरोधी बिलों का विरोध किया था। उन्होंने कहा कि ईडी के पास उनके या किसी अन्य आप नेता के खिलाफ कोई सबूत नहीं है, क्योंकि कोई घोटाला ही नहीं हुआ है। यह सिर्फ हमें रोकने की साजिश है, लेकिन वे ऐसा नहीं कर पाएंगे, क्योंकि आखिरकार सच्चाई की ही हमेशा जीत होती है।


Keep watching our YouTube Channel ‘Divya Himachal TV’. Also,  Download our Android App