राजधानी में जंगल की आग के तांडव से मची अफरा-तफरी

By: May 29th, 2024 12:18 am

बालिका आश्रम और वन्य प्राणी रेस्क्यू सेंटर तक पहुंची जंगल की आग, बच्चियों ने भागकर बचाई जान

सिटी रिपोर्टर—शिमला
राजधानी में जंगल की आग ने इन दिनों रिहायशी इलाकों पर खतरा बना दिया है। मंगलवार को शहर के टूटीकंडी क्षेत्र में स्थित बालिका आश्रम के प्रांगण तक आग पहुंच गई, जिससे यहां पर अफरा-तफरी का माहौल बन गया। बालिका आश्रम में रह रही सभी बालिकाओं सहित स्टाफ सडक़ों पर आ गया। हालांकि अग्निशमन विभाग के जवानों ने समय पर यहां पर आकर आग बुझाने का काम शुरू कर दिया था। आग ने इतना भयानक रूप ले लिया था कि आग की लपटों की तपन 200 मीटर दूर भी महसूस हो रही थी। स्थानीय लोगों सहित अग्निशमन विभाग के जवानों ने यहां पर कड़ी मशक्कत के बाद करीब 4 घंटे में आग पर काबू पा लिया। इसी आग की चपेट में वन्य प्राणी विंग का एनिमल रेस्क्यू सेंटर भी खतरे में आ गया था।

शहर के भराड़ी वार्ड के जंगलों में पिछले दो दिन से लगातार आग ने तांडव मचा रखा है। यहां पर अभी भी आग पर काबू नहीं पाया गया है। मंगलवार को शहर के भराड़ी वार्ड के रिहायशी इलाके तक पहुंच गई। स्थानीय पार्षद के मकान समेत अन्य भवनों की ओर धुआं और आग की लपटें बढ़ती देख लोगों में अफरा-तफरी मच गई। लोग घरों से बाहर निकल आए। अब यह आग केल्टी से कैलस्टन तक पहुंच गई है। मौके पर देर शाम तक स्थानीय लोग और दमकल विभाग की टीमें आग पर काबू पाने के लिए डटे रहीं। भराड़ी की पार्षद मीना चौहान के अनुसार चैड़ी क्षेत्र के जंगल में सोमवार सुबह अचानक आग लग गई थी। यह क्षेत्र भराड़ी से करीब एक किलोमीटर दूर है, लेकिन तेज हवाओं के चलते चंद घंटे में ही आग भराड़ी पहुंच गई। पार्षद और स्थानीय लोगों ने मालरोड स्थित दमकल केंद्र को इसकी सूचना दी और मदद मांगी। दमकल केंद्र से दो गाडिय़ां भराड़ी के लिए भेजी, लेकिन संकरी सडक़ और जगह-जगह अवैध पार्किंग होने के कारण दमकल की गाड़ी एक घंटे बाद भी भराड़ी बाजार नहीं पहुंच पाई। जंगल की आग पुलिस लाइन भराड़ी, रेस्ट हाउस परिसर तक पहुंच गई है, जिसे बुझा दिया गया है। इसके अलावा जंगल में लगी आग अभी बुझ नहीं पाई थी।

हमारे वार्ड के स्थानीय लोगों सहित अग्निशमन विभाग के जवान और वन विभाग के जवान दो दिन से रात-दिन आग बुझाने का कार्य करते रहे और मंगलवार को आग पर काबू पाया गया। गनीमत रही कि लोगों के घरों, बालिका आश्रम और चिडिय़ाघर को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है
उमा कौशल, डिप्टी मेयर नगर निगम शिमला

टूटीकंडी में हमारा फायर सिस्टम लगा है। चारों तरफ इसकी पाइप बिछी हैं, लेकिन आग इतनी ज्यादा थी कि इन सिस्टमों का पानी भी खत्म हो गया। हमारे करीब 30 जवान सहित अग्निशमन विभाग के जवानों के साथ हमने आग पर कड़ी मशक्कत कर काबू पा लिया है। हमारा सभी लोगों से आग्रह है कि इन दिनों खेतों में आग न लगाएं, न ही जंगलों में। इस आग में पेड़ों के साथ-साथ जंगली जानवर भी मर रहे हैं। वहीं, करोड़ों की वन संपदा को भी नुकसान पहुंच रहा है
शहनबाज अहमद, डीएफओ, वाइल्ड लाइफ, शिमला


Keep watching our YouTube Channel ‘Divya Himachal TV’. Also,  Download our Android App