हैदराबाद के राष्ट्रीय भारतीय चिकित्सा विरासत संस्थान को WHO से मान्यता

By: Jun 14th, 2024 5:19 pm

नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने हैदराबाद के राष्ट्रीय भारतीय चिकित्सा विरासत संस्थान को पारंपरिक चिकित्सा में मौलिक और अनुसंधान के लिए सहयोगी केंद्र के रूप में नामित किया है। केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने शुक्रवार को यहां बताया कि यह प्रतिष्ठित मान्यता तीन जून से शुरू होने वाली चार वर्ष की अवधि के लिए दी गई है।

यह मान्यता प्राप्त करने वाला इस तरह का पहला राष्ट्रीय भारतीय चिकित्सा विरासत संस्थान केंद्र है। वर्ष 1956 में स्थापित यह संस्थान आयुर्वेद, योग प्राकृतिक चिकित्सा, यूनानी, सिद्ध, सोवा-रिग्पा, होम्योपैथी, बायोमेडिसिन और अन्य संबंधित स्वास्थ्य सेवा विषयों में अग्रणी है। देश में बायोमेडिसिन और संबद्ध विज्ञान के विभिन्न विषयों में फैले लगभग 58 डब्ल्यूएचओ सहयोगी केंद्र हैं।


Keep watching our YouTube Channel ‘Divya Himachal TV’. Also,  Download our Android App