अपनी माटी

हिमाचल में पांच हजार करोड़ रुपए का सेब सीजन फिर संकट में है। पहले प्रोडक्शन, फिर लेबर की कमी रही, और अब ऐन मौके पर सेब के दाम गिर जाने से हजारों बागबान मायूस हैं। बागबानों को आशंका है कि इस सबके पीछे कंपनियां षड्यंत्र रच रही हैं,जबकि आढ़तियों का तर्क कुछ और है। पेश

हिमाचल  में मानसनू ने रौद्र रूप धारण कर दिया है। राज्य में बीते एक सप्ताह से मानसून सक्रिय चल रहा है। झमाझम बारिश होने से नदी-नाले उफान पर आ गए है।  बीते 10-12 दिनों में मानसून सक्रिय रहा है। इस दौरान मैदानी इलाकों सहित मध्यम ऊचांई वाले कई स्थानों पर भारी बारिश हुई है।  लगातार

हिमाचल मे किसानों और बागबानों लिए करोड़ों रुपए की नई परियोजनाओं की नींव पड़ गई। कई नई मंडियां और दफ्तर खोले जा रहे हैं। पेश है शिमला से विशेष संवाददाता की यह रिपोर्ट हिमाचल में किसानों और बागबानों की खातिर 198 करोड़ के प्रोजेक्टों की नींव पड़ गई है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इन प्रोजेक्टों

हिमाचली सेब ने पूरे देश में धमाल मचा दी है। देश भर की मंडियों में पहाड़ का सेब छा गया है। करीब  27  लाख 25 हजार सेब पेटियां अब तक देश की मंडियों में जा चुकी हैं।  हिमाचल प्रदेश में सेब सीजन के रफ्तार पकड़ते ही कुल्लू, शिमला, मंडी सहित किन्नौर से सेब मंडियों में

धान की खेती कर कांगड़ा के किसान खुद को आत्मनिर्भर बना रहे है। कांगड़ा के 2050 हेक्टेयर में धान की खेती की जा रही है। हर सीजन में करीब 4150 मीट्रिक टन धान की पैदावार हो रही है। खास बात यह है कि यहां तैयार होने वाले धान की मांग भी अधिक है। कांगड़ा का

हिमाचल में एक सेब सीजन में पांच हजार करोड़ रुपए का बिजनेस होता है। इस बार कोरोना संकट है। सोशल डिस्टेंसिंग,मास्क और सेनेटाइजेशन को अपनाकर काम करना बड़ा चैलेंज बन गया है।  पेश है सेब बैल्ट नारकंडा से हमारे संवाददाता की यह रिपोर्ट हिमाचल में सबसे बड़े कारोबार यानी सेब सीजन पर कोरोना ने बड़ी

यूं तो हिमाचल को फल राज्य का तमगा मिला है, लेकिन सेब और अन्य फलों को उगाने की पुरानी विधियों से अकसर इस पहाड़ी राज्य की आलोचना होती है। मसलन अब हिमाचल में खेती और बागबानी की नई तकनीकों के इस्तेमाल की मांग उठ रही है,ताकि यह प्रदेश दूसरों को कड़ा कंपीटीशन दे सके। अब

ईवन ईयर होने के चलते हिमाचल में इस बार आम की फसल भरपूर है। लोगों को जी भरके आम चूसने को मिल रहे हैं। कांगड़ा जैसे जिलों में तो आलम यह कि आम मंडियां न सजने से फलों के राजा की बेकद्री भी खूब हो रही है। अब आते हैं जामुन पर। इस बार प्रदेश

बिलासपुर में 25 साल से प्रोडक्शन कर रहे हैं बिलासपुर के सुरेंद्र गुप्ता देवभूमि  हिमाचल  में  ऐसी कई जड़ी.बूटियां मिलती हैं, जिनसे कई रोग ठीक होते हैं। इन्ही में से एक है लेमन ग्रास।  लेमन ग्रास इम्यूनिटी को बढ़ाता है तथा कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी से भी लड़ता है। अपनी माटी टीम आपको ऐसे किसान