महात्मा गांधी और कश्मीर

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार डोगरा शासक महाराजा प्रताप सिंह ने महात्मा गांधी को 1915 में श्रीनगर आने का निमंत्रण दिया था। ध्यान रहे महाराजा प्रताप सिंह को ब्रिटिश सरकार प्रताडि़त ही नहीं कर रही थी बल्कि उनको पदच्युत करने…

मनमोहन सिंह ने चुकाया कर्ज

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार कांग्रेस और भ्रष्टाचार लगभग पर्यायवाची ही बन गए हैं। सत्ता कांग्रेस की होगी तो जाहिर है वरिष्ठ से लेकर कनिष्ठ कांग्रेसी सत्ताधारी अपने- अपने रुतबे और योग्यता के हिसाब से घोटालों में लग ही…

महाराष्ट्र की नई सरकार

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार जाहिर है मुस्लिम अंडरवर्ल्ड को हिंदू के उत्तर भारतीय होने सा दक्षिण भारतीय होने से कोई मतलब नहीं था। उस कालखंड में शिव सेना ने अपने चिंतन व दृष्टि का विस्तार करना शुरू किया व संगठित मुस्लिम…

नालंदा परंपरा को संभालने के प्रयास

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार मगध से कुछ मील की दूरी पर सटे हुए बिहार शरीफ में ओदांतपुरी या उदांतपुरी नाम से विश्व प्रसिद्ध महाविहार स्थित था। नालंदा के पास ही राजगृह जिसे आज राजगीर कहा जाने लगा है , महात्मा बुद्ध का कर्म…

राहुल गांधी का राफेल

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार कुछ लोग राफेल जहाज खरीदने की प्रक्रिया का मामला उच्चतम न्यायालय में भी ले गए। उनका कहना था कि उच्चतम न्यायालय अपनी निगरानी में इस पूरी प्रक्रिया की जांच करवाए। उच्चतम न्यायालय ने इस मामले में…

हिमाचल में ग्लोबल इन्वेस्टर मीट

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में इस बात का संकेत भी दिया कि निवेशकर्ता, प्रदेश सरकार द्वारा दिए गए किसी पैकेज को देख कर या उसके लालच में आकर निवेश नहीं करता बल्कि वह देखता है कि…

जम्मू-कश्मीर की नई सुबह

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार जिस प्रकार नशे के आदी हो चुके नशेड़ी, यह नहीं समझ पाते कि नशा उनके जीवन के लिए खतरा है, उसी प्रकार अनुच्छेद 370 के ड्रग एडिक्ट हो चुके बहुत से कश्मीरी भी इसके नुकसान को समझ नहीं पा रहे थे। नशे…

हरियाणा से कश्मीर तक चर्चा

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार हरियाणा में यदि भाजपा के चार-पांच मंत्री जीत जाते तो शायद चैनलों पर बहस करने वालों को घंटों निरर्थक मीमांसाएं करने का अवसर न मिलता, लेकिन महाराष्ट्र और हरियाणा के इन चुनावों की गहमा-गहमी में…

लम्हों की खता, सदियों को सजा

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार जम्मू-कश्मीर की नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष मोहम्मद शफी कुरैशी 1963 में ही कह रहे थे कि अनुच्छेद 370 को हटाए जाने से इस राज्य में एक प्रभावशाली लोकतंत्रात्मक विरोधी दल के निर्माण में सहायता…

संघ और भारत की अवधारणा

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार मोहन भागवत के द्वारा लिंचिंग शब्द विदेशी मूल का है, जिसका अर्थ भीड़ द्वारा बिना किसी कारण के मारा जाना होता है। रोम साम्राज्य की स्थापना में ईसाई भीड़ द्वारा निरपराधों की हत्या कर दी जाती थी।…

पाकिस्तान हर द्वार पर

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार ह्युस्टन में भारतीय मूल के लगभग साठ हजार अमरीकी नागरिक एक जनसभा में नरेंद्र मोदी को सुनने के लिए एकत्रित हुए, जो अमरीका के राजनीतिक इतिहास की अकल्पनीय घटना थी। इतना ही नहीं उस जनसभा में अमरीका…

बाहर से आने का भ्रम

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार इस सभ्यता को साधारण भाषा में मोहनजोदड़ो हड़प्पा सभ्यता भी कहा जाता है। यह सप्त सिंधु क्षेत्र या पश्चिमोत्तर भारत में फैली हुई थी। यूरोप के तथाकथित विद्वानों ने यह अफवाह उड़ा दी कि इस क्षेत्र…

कौसरनाग यात्रा रोकने में कश्मीरियत

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार कश्मीर घाटी को नाग भूमि भी कहा जाता है, जिसके कारण घाटी के अनेक तीर्थ पर्यटन स्थलों का नाम नाग शब्द से मिलता है। यह झील दो मील लंबी और तकरीबन आधा मील चौड़ी है। पीर पंजाल की शृंखलाओं में स्थित…

अनुच्छेद 370 का सच

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार इस अनुच्छेद को संघीय संविधान में शामिल करने के पीछे तर्क यही था कि जम्मू-कश्मीर में अभी विवाद चला हुआ है। मामला सुरक्षा परिषद में लंबित है। इसलिए अभी संघीय संविधान वहां लागू नहीं किया जाना…

लंदन में पाकिस्तानियों का प्रदर्शन

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार इंग्लैंड के नागरिकों ने भारतीय उच्चायोग पर अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के विरोध में प्रदर्शन किया और वहां तोड़-फोड़ की। ऐसा नहीं कि ब्रिटेन की सरकार को इस प्रदर्शन की सूचना नहीं थी। इसकी कई दिनों…