वल्ली को चाहने वालियों की लंबी कतार थी

सौंदर्य के क्षेत्र में शहनाज हुसैन एक बड़ी शख्सियत हैं। सौंदर्य के भीतर उनके जीवन संघर्ष की एक लंबी गाथा है। हर किसी के लिए प्रेरणा का काम करने वाला उनका जीवन-वृत्त वास्तव में खुद को संवारने की यात्रा सरीखा भी है। शहनाज हुसैन की बेटी नीलोफर…

दादी मां के नुस्‍खे

* एक गिलास गर्म पानी में दो चम्मच चाय की पत्ती उबालकर ठंडा कर लें और इसमें नींबू निचोड़ लें। इस पानी से बालों को धोने से बाल चमकदार और मुलायम हो जाते हैं और झड़ना बंद हो जाते हैं। * सूखे आंवले को रात को पानी में…

आंखों का यूं रखें ख्‍याल

मौजूदा समय में कम्प्यूटर के बिना काम करना शायद असंभव है, लोग घंटों कम्प्यूटर के सामने बैठकर काम करते हैं। घंटों कम्प्यूटर के सामने बैठने के कारण इससे निकलने वाली नीली रोशनी से सबसे अधिक नुकसान आंखों को होता है। इसके कारण आंखों की रोशनी कम…

मेहनत से काम करना

श्रीराम शर्मा दरिद्रता भयानक अभिशाप है। इससे मनुष्य के शारीरिक, पारिवारिक, सामाजिक, मानसिक एवं आत्मिक स्तर का पतन हो जाता है। कहने को कोई कितना भी संतोषी, त्यागी एवं निस्पृह क्यों न बने, किंतु जब दरिद्रता जन्य अभावों के थपेड़े लगते हैं तब…

आत्म पुराण

वे पंचभूतों के भी दो प्रकार हैं। प्रथम पंचीकृत पंचमहाभूतों का नाम स्थूल है और पंचीकरण से रहित शब्द, स्पर्श, रूप, रस, गंध इन पंचतन्मात्राओं का नाम सूक्ष्म है। प्राण, वायु का नाम क्रिया शक्ति है। यह क्रिया शक्ति रूप प्राण उन आकाशादिक पंचभूतों…

ठंड में शिशु की देखभाल

अगर बात नवजात शिशु की सेहत की हो तो विशेष सावधानी बरतनी जरूरी है, क्योंकि उनकी त्वचा बेहद संवेदनशील और कोमल होती है, जिससे उन्हें निमोनिया या पीलिया होने का खतरा बढ़ जाता है... वैसे तो ठंड के सीजन में सभी को अपनी हैल्थ का ख्याल रखना चाहिए,…

भीतर का विश्वास

बाबा हरदेव हम पाएंगे कि कृत्य बदलने लगते हैं। इनमें से बनावटीपन खोने लगता है और प्रमाणिकता सामने आने लगती है और फिर हमें पता चलता है कि भीतर के प्रकाश ने हमारे बाहर के कृत्यों को आच्छादित कर दिया है अर्थात इनका गुण धर्म पर आधारित हो…

जीवन में जागरूकता

सद्गुरु जग्गी वासुदेव जीवन के संदर्भ में इसका अर्थ ये होता है कि अपनी पांच ज्ञानेंद्रियों से आप को जो भी जानकारी मिलती है वो सामान्य रूप से बाएं दिमाग में जाती है। जो भी जानकारी आप के शरीर के बाकी भागों से मिलती है,जो तार्किक नहीं…

लंका नरेश रावण का साधना स्थलः राक्षसताल

हमने अर्थपूर्ण दृष्टि से एक-दूसरे की ओर देखा। ऐसा लगा कि कोई अज्ञात शक्ति हमें यहां से आगे बढ़ने से मना कर रही हो। ‘कल फिर आने का विचार है क्या?’ वामाखेपा ने पूछा। ‘रात में निर्णय करेंगे।’ हम तेजी से वापस लौटने लगे। हम दोनों वापस आ गए। वापस…

विवाद से परे है ईश्वर का अस्तित्व

कर्मफल न चाहते हुए भी मिलते हैं। कोई नहीं चाहता कि उसे अशुभ कर्मों के फलस्वरूप दंड मिले। कोई नहीं चाहता कि पुरुषार्थ के अनुपात से ही सफलता मिले। हर कोई दुख से बचना और सुख का अधिकाधिक लाभ पाना चाहता है, पर यह इच्छा कहां पूरी होती है? नियामक…

ड्ढकुंडलिनी साधनाएं : कुंडलिनी क्या है

आद्यनतमध्येविदुर्वा स भवेद्बधिरः स्मृतः।। 32।। पंचवर्णों मनुर्यः स्याद्रेफार्केन्दुविवर्जिजतः। नेत्रपाहीनः स विज्ञेयो दुःखशोकामयप्रदः।। 33।। जिस मंत्र के आदि, मध्य और अंत में ही हं वा सं बीज हो, उसे बधिर मंत्र कहते हैं।। 32।। पंचाक्षरात्मक…

किसी अजूबे से कम नहीं हैं महाभारत के पात्र

अपने पुत्र विचित्रवीर्य की मृत्यु के बाद माता सत्यवती अपने सबसे पहले जन्मे पुत्र व्यास के पास गईं। अपनी माता की आज्ञा का पालन करते हुए व्यास मुनि विचित्रवीर्य की दोनों पत्नियों के पास गए और अपनी यौगिक शक्तियों से उन्हें पुत्र उत्पन्न करने…

गीता रहस्य

स्वामी रामस्वरूप श्रीकृष्ण महाराज जी का भाव है कि गृहस्थादि आश्रम में साधक वेद विद्या को ग्रहण करता हुआ यज्ञ, योगाभ्यास आदि साधना करता है तो वह पृथ्वी पर सुर इंद्र लोकम अर्थात एक सुख ऐश्वर्यपूर्वक गृहस्थादि आश्रम का निर्माण करता है...…

अनमोल वचन

* चिंता करोगे तो भटक जाओगे, चिंतन करोगे तो भटके हुए को रास्ता दिखाओगे काम करते रहिए चाहे कोई तारीफ करे या न करे, आधी से ज्यादा दुनिया सोती है, सूरज फिर भी उगता है * अपने मकसद में खुद को इतना व्यस्त कर लो कि…

उल्लास से परिपूर्ण उत्सव है दीपावली

दीपावली अथवा दिवाली भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक है। त्योहारों का जो वातावरण धनतेरस से प्रारंभ होता है, वह आज के दिन पूरे चरम पर आता है। दीपावली की रात्रि को घरों तथा दुकानों पर भारी संख्या में दीपक, मोमबत्तियां और बल्ब जलाए जाते हैं।…