पूजा-पाठ में प्रयोग होने वाले वृक्षों के पत्ते

पेड़-पौधे हमारे जीवन के अभिन्न अंग हैं। इनके बिना हमारा जीवन अधूरा है। पेड़-पौधों से हमें ऑक्सीजन मिलती है और वातावरण हरा-भरा रहता है। इसके अलावा कुछ पेड़ धार्मिक नजरिए से भी काफी महत्त्वपूर्ण हैं। प्राचीन काल से इनकी हिफाजत करना हमारी…

रामटेक मंदिर

राम के जीवन का एक बड़ा हिस्सा सांसारिक कल्याण में बीता, जिनमें वह वन-वन भटकते हुए मनुष्यों का जीवन सुरक्षित बनाने के लिए असुरों का संहार करते रहे। वन में भटकते हुए भगवान राम देवी सीता और लक्ष्मणजी के साथ जिन स्थानों से गुजरे उनमें से कई…

मंगलनाथ मंदिर

विश्वभर में अनेकों धार्मिक स्थल हैं। इन खास स्थानों की अपनी-अपनी खास विशेषता भी है। जिनके चलते ये न केवल अपने देशभर, बल्कि विश्वभर में प्रसिद्धि हासिल किए हुए हैं। यह मंदिर मध्य प्रदेश की धार्मिक राजधानी उज्जैन में स्थित है। पुराणों के…

धर्मराज मंदिर

हिमाचल प्रदेश के चंबा जिला के जनजातीय भरमौर स्थित चौरासी मंदिर समूह में संसार के इकलौते धर्मराज महाराज या मौत के देवता का मंदिर है। इस मंदिर की स्थापना के बाबत किसी को भी सही जानकारी नहीं है। बस इतना जरूर है कि चंबा रियासत के राजा मेरू…

महिषासुरमर्दिनी स्तोत्र

अयि गिरिनन्दिनि नन्दितमेदिनि विश्वविनोदिनि नन्दिनुते गिरिवरविन्ध्यशिरोऽधिनिवासिनि विष्णुविलासिनि जिष्णुनुते। भगवति हे शितिकण्ठकुटुम्बिनि भूरिकुटुम्बिनि भूरिकृते जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥ 1 ॥ सुरवरवर्षिणि…

धर्म के प्रतिनिधि  स्वामी विवेकानंद

गतांक से आगे... प्रर्दशनी के पूछताछ कार्यालय में जाने पर स्वामी जी को बताया गया कि धर्म महासभा सितंबर माह से पहले प्रारंभ न होगी तथा जो लोग इस सभा की नियमावली के अनुसार परिचय पत्र नहीं लाए हैं, वो सभा में प्रतिनिधि के रूप में स्थान…

सफेद दाग की समस्या

मौसम में बदलाव अपने साथ अनेक प्रकार के त्वचा रोग भी लेकर आता है। खासकर सर्दियों का मौसम शुरू होते ही त्वचा रूखी और बेजान होने लगती है। चेहरे की रौनक न जाने कहां उड़ जाती है और हाथ-पैर फटने शुरू हो जाते हैं। ऐसे में हम विभिन्न प्रकार की…

जिज्ञासा की प्रवृत्ति

श्रीश्री रवि शंकर जिज्ञासा की प्रवृत्ति ही इस ग्रह में हो रहे प्रत्येक महान अन्वेषण का कारण है। जब यह जिज्ञासा बाहर की ओर निर्देशित होती है तब, यह क्या है? यह कैसे हुआ? प्रश्न उठते हैं और यही विज्ञान है। जब यह अंदर की ओर निर्देशित होती है…

डब्बल चिन की समस्या

जब हमारा वजन बढ़ता है, तो शरीर के विभिन्न हिस्सों के साथ चेहरे पर भी अतिरिक्त वसा जमने लगता है जिसकी वजह से चिन पर अत्यधिक चर्बी इकठ्ठा होने की वजह से डबल चिन दिखने लगती है, जो चेहरे की खूबसूरती को कम कर देती है। चेहरे के आसपास का हिस्सा…

समर्पण का भाव

ओशो कृष्ण कोई साधक नहीं हैं। उन्हें साधक कह कर संबोधित करना गलत होगा। वे एक सिद्ध हैं, जीवन की कला के एक पारंगत और निपुण कलाकार और जो भी वह इस सिद्धावस्था में, मन की चरम अवस्था में कहते हैं, तुम्हें अहंकारपूर्ण लग सकता है, पर…

नींद की दवाइयों का सेवन कितना सुरक्षित

बहुत दिनों से सही से नींद न आना एक गंभीर समस्या है। कई लोग इस समस्या से मुक्ति पाने के लिए नींद की दवाइयों का सेवन करना शुरू कर देते हैं, क्योंकि उन्हें इसे खाने के बाद बेसुध होकर नींद आ जाती है और उठने के बाद काफी अच्छा भी लगता है, लेकिन…

बथुआ के पौष्टिक गुण

बथुआ सर्दियों में खाया जाने वाला आम साग है। इसमें बहुत सारे विटामिन्स, कैल्शियम, फास्फोरस और पोटाशियम होता है। कई बीमारियों को दूर करने के लिए भी बथुए का प्रयोग किया जाता है। बथुआ एक ऐसी सब्जी है, जिसके गुणों से ज्यादातर लोग अपरिचित हैं। यह…

हमारे ऋषि-मुनि, भागः 18 ऋषि मार्कंडेय

गतांक से आगे... उसने दाहिने पांव के अंगूठे को हाथों में पकड़कर मुंह तक पहुंचाया और चूसने लगा। पूरा दृश्य अद्भुत व अलौकिक था। महर्षि रोमांचित हो उठे,करीब गए। बालक ने सांस ली। महर्षि उसके उदर में सांस के साथ जा पहुंचे। अब वह पूरे…

सर्दियों के पीएं ये ड्रिंक्स

सर्दियों में अकसर लोगों को चाय या कॉफी ज्यादा पसंद आती है, लेकिन इनके अलावा भी सर्दियों में और चीजों का सेवन करके आप अपने आप को सर्दी से बचा सकते हैं। कई बार ऐसा भी होता है कि ज्यादा चाय-कॉफी लोगों को पच नहीं पाती, जिस वजह से उन्हें गैस…

किसी अजूबे से कम नहीं हैं महाभारत के पात्र

प्राचीन काल में कन्नौज में गाधि नाम के एक राजा राज्य करते थे। उनकी सत्यवती नाम की एक अत्यंत रूपवती कन्या थी। राजा गाधि ने सत्यवती का विवाह भृगुनंदन ऋषीक के साथ कर दिया। सत्यवती के विवाह के पश्चात् वहां भृगु ऋषि ने आकर अपनी पुत्रवधू को…