गर्मियों का रामबाण पुदीना

गर्मियों में पुदीने के रस का सेवन करने से लू नहीं लगती। पुदीने में मौजूद फाइबर कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करते हैं और मैगनीशियम हड्डियों को ताकत देता है। पुदीना खाने में जितना स्वादिष्ट होता है उतने ही पुदीने में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं।…

दादी मां के नुस्‍खे

* दिन में दो बार एलोवेरा जैल से अपने चेहरे पर मसाज करें, यह नुस्खा चेहरे के धब्बों को मिटाने में मदद करेगा। * नारयिल के तेल में नींबू का रस मिलाकर मालिश करें। कुछ ही दिनों में बालों के डैंड्रफ से निजात मिलेगी। * रोजाना अपने चेहरे पर टमाटर…

बींस के फायदे

बींस जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, हरे रंग की फलियां होती हैं। आप इन्हें पैक में, ताजा या सूखा हुआ भी खरीद सकते हैं। पोषण से भरपूर बींस में प्रोटीन तथा घुलनशील फाइबर प्रचुर मात्रा में होता है तथा साथ ही साथ वसा कम होती है, संतृप्त…

आडंबर पर चोट करने वाले संत कवि थे कबीर 

कबीर (जन्म : सन् 1398-काशी, मृत्यु : सन् 1518-मगहर) का नाम कबीरदास, कबीर साहब एवं संत कबीर जैसे रूपों में भी प्रसिद्ध है। ये मध्यकालीन भारत के स्वाधीनचेता महापुरुष थे और इनका परिचय प्रायः इनके जीवनकाल से ही इन्हें सफल साधक, भक्त कवि,…

कोटे वाली माता मंदिर

हिमाचल प्रदेश में देवी-देवताओं का वास होने के कारण हिमाचल को देवभूमि के नाम से जाना जाता है। हिमाचल प्रदेश में कई धार्मिक स्थल हैं, जिनके दर्शनार्थ दूर-दराज से श्रद्धालु आते हैं। ऐसा ही एक ऐतिहासिक स्थल कोटे वाली माता मंदिर राजा का तालाब से…

गुरुवायुर मंदिर

गुरुवायुर केरल में त्रिशूर जिले का एक गांव है, जो कि त्रिशूर नगर से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर है। यह स्थान भगवान कृष्ण के मंदिर की वजह से बहुत खास माना जाता है। गुरुवायुर केरल के लोकप्रिय तीर्थ स्थलों में से एक है। इस मंदिर के देवता भगवान…

ज्वाला माता मंदिर

मां के 51 शक्तिपीठों में से एक कांगड़ा स्थित प्रसिद्ध ज्वाला जी शक्तिपीठ विश्व विख्यात है। ऐसा ही माता ज्वाला का एक मंदिर जिला सिरमौर के पच्छाद विकास खंड के अंतर्गत आने वाली नेरी नावन पंचायत के लाना रावना नामक गांव में भी है, जहां पर माता…

दुर्गा सहस्रनाम स्तोत्रम्

-गतांक से आगे... वराम्बिका गिरेः पुत्री निशुम्भविनिपातिनी। सुवर्णा स्वर्णलसिताऽनंतवर्णा सदाधृता।। 96।। शाङ्करी शांतहृदया अहोरात्रविधायिका। विश्वगोप्त्री गूढ़रूपा गुणपूर्णा च गार्ग्यजा।। 97।। गौरी शाकम्भरी सत्यसंधा संध्यात्रयीधृता।…

अनमोल वचन

* दूर से हमें सभी रास्ते बंद नजर आते हैं, क्योंकि सफलता के रास्ते तभी खुलते हैं, जब हम उनके करीब पहुंच जाते हैं * विचार करने के लिए खूब समय लें, लेकिन जब काम करने का समय आए, तो सोचना बंद करके काम में जुट जाएं * मौन एक साधना है…

विवेक चूड़ामणि

गतांक से आगे... साधनान्यत्र चत्वारि कथितानि मनीषिभिः। येषु सत्स्वेव सन्निष्ठा यदभावे न सिद्धयति।। यहां मनस्वियों ने जिज्ञासा के चार साधन बताए हैं , उनके होने से ही सत्यस्वरूप आत्मा में स्थिति हो सकती है, उनके बिना नहीं। आदौ…

आत्म पुराण

यं न सन्तंन सन्तं नाऽश्रुतं बहुश्रुतं। न सुर्वृतं नदुवृतं वेदकश्चित्स ब्राह्मणः। अर्थात-‘इस जगत में जिस व्यक्ति कोई श्रेष्ठ या अश्रेष्ठ मूर्ख या पंडित शास्त्रानुकूल या शास्त्र विरुद्ध रूप में नहीं जान सकता वही ब्रह्मवेत्ता ब्राह्मण है। इस…

मन का निर्मल होना

बाबा हरदेव अब मन कितना ही शुद्ध किया जाए ये मन ही रहेगा। जैसे जहर को शुद्ध नहीं करना होगा, क्योंकि जहर जितना शुद्ध हो जाएगा ये जहर ही रहेगा और ये जहर और खतरनाक हो जाएगा चूंकि मन का स्वभाव असाध्य है, ये किसी भी तरह से पवित्र नहीं हो सकता।…

किसी अजूबे से कम नहीं हैं महाभारत के पात्र

स्वेदजा 1000 कवच के साथ जन्मा था और रक्तजा 1000 हाथ और 500 धनुष के साथ। स्वेदजा और रुक्तजा में भयंकर युद्ध होता है। स्वेदजा रक्तजा के 998 हाथ काट देता है और 499 धनुष तोड़ देता है। वहीं रक्तजा स्वेदजा के 999 कवच तोड़ देता है। रक्तजा बस हारने…

मृत्युंजय जप कैसे करें

अनंत कोटि ब्राह्मंडात्मक प्रपंच की अधिष्ठान भूता सचिदानंद स्वरूपा भगवती श्री दुर्गा ही संपूर्ण विश्व को सत्ता, स्फूर्ति तथा सरसता प्रदान करती हैं। ये मायावी विश्व उन्हीं से शुरू होकर उन्हीं में लीन हो जाता है। जैसे दर्पण में देखने पर पूरा…

चेतना की गुणवत्ता

श्रीश्री रवि शंकर भगवद्गीता में एक कहानी है। जब भगवान कृष्ण को भोजन परोसा जा रहा था, वे खड़े हुए और बोले, नहीं मुझे जाना है। गोपियों ने उन्हें समझाने की कोशिश की। पहले अपना भोजन तो कर लो उन्होंने विनती की, लेकिन वह बोले नहीं, मेरा एक भक्त…