अंधा आदमी और दीपक

सद्गुरु जग्गी वासुदेव एक अंधा आदमी अपने मित्र के घर कुछ दिनों के लिए रुका और फिर अपने घर वापस जाने के लिए रात के समय निकला। उसके मित्र ने उसे एक लालटेन जला कर हाथ में दे दी। अंधा व्यक्ति विरोध करते हुए बोला, मुझे लालटेन की क्या जरूरत है?…

जीवन का ध्येय

श्रीराम शर्मा मनुष्य की आंतरिक अभिव्यक्ति, उसके काम करने की लगन और भावना से ही परखी जा सकती है। कर्म का सुख वस्तुतः उसकी लगन, भावना और निष्ठा में ही है। इस तरह संपन्न किए गए कर्म प्रफुल्लता दे जाते हैं, किंतु अनुत्साहपूर्वक काम करने से…

जीवन की आकांक्षा

बाबा हरदेव जन्म के बाद जितनी इच्छाएं होती है अथवा वासनाएं हमारे पास होती हैं मृत्यु के समय तक इसमें से एक भी कम नहीं होती अपितु बहुत बढ़ जाती हैं और इस प्रकार इन इच्छाओं व वासनाओं को पूरा करने के लिए तब मरते क्षण हमारे मन में और जन्मों की…

लंका नरेश रावण का साधना स्थलः राक्षसताल

तंत्र-मंत्र में रुचि के कारण रावण का साधना-स्थल तो तुमको देखना ही चाहिए। कोई जाए या न जाए, तुम तो चलो। मानसरोवर की यात्रा तो सभी करते हैं, पर राक्षस ताल...अरे, इसी बहाने मैं भी देख लूंगा। शायद रावण की आत्मा भटकती मिल जाए।’ मैं खिलखिलाकर हंस…

इच्छाओं की पूर्ति

श्रीश्री रवि शंकर आज हममें से हरेक खुशी और शांति की तलाश कर रहा है। यह खोज सर्वव्यापी है। आखिरकार दुखी तो कोई भी नहीं रहना चाहता। लोग अलग-अलग तरीकों से खुशियां ढूंढने की कोशिश करते हैं। कुछ इसे धन-दौलत और दुनियावी चीजों में ढूंढते हैं। कुछ…

विवाद से परे है ईश्वर का अस्तित्व

आइन्स्टाइन के मतानुसार पदार्थ एवं जीवन का स्वरूप समझना ही नहीं, उनका दूरदर्शितापूर्ण सदुपयोग करने का उपाय सोचना भी विज्ञान क्षेत्र में आता है। तत्त्व-दर्शन को विज्ञान की एक शाखा मानते हैं और जीवन क्षेत्र में रुचि रखने वालों को परामर्श देते…

ड्ढकुंडलिनी साधनाएं : कुंडलिनी क्या है

शिव उवाच सम्यगनुष्ठितों मंत्रो यदि सिद्धो न जायते। पुनस्तेनैव कर्त्तव्यं ततः सिद्धो भवेदध्रुवम।। 2।। महादेव जी ने कहा, यदि भली-भांति विधानपूर्वक अनुष्ठान करने पर मंत्र सिद्ध न हो तो फिर उसी मंत्र का विधान से अनुष्ठान करे।। 2।।…

हृदय की वीणा

ओशो गौतम बुद्ध ऐसे हैं जैसे हिमाच्छादित हिमालय। पर्वत तो और भी हैं, हिमाच्छादित पर्वत और भी हैं, पर हिमालय अतुलनीय है। उसकी कोई उपमा नहीं है। हिमालय बस हिमालय जैसा है। गौतम बुद्ध बस गौतम बुद्ध जैसे। पूरी मनुष्य जाति के इतिहास में वैसा…

व्रत एवं त्योहार

6 अक्तूबर रविवार, आश्विन, शुक्लपक्ष, अष्टमी, श्री दुर्गाष्टमी 7 अक्तूबर सोमवार, आश्विन, शुक्लपक्ष, नवमी, नवरात्र समाप्त 8 अक्तूबर मंगलवार, आश्विन,शुक्लपक्ष, दशमी, विजयादशमी 9 अक्तूबर बुधवार, आश्विन, शुक्लपक्ष, एकादशी, पंचक प्रारंभ…

जेन कहानियां : एक बूंद पानी

जेन गुरु गिसान ने अपने एक शिष्य को नहाने का पानी लाने को कहा। गिसान जा चुके थे, तो शिष्य ने बचा हुआ पानी जमीन पर बहा दिया। मूर्ख गिसान ने शिष्य को डांटा, बचा हुआ पानी पौधों में क्यों नहीं दिया? आश्रम का एक बूंद पानी भी बर्बाद करने का…

वैरिकोज वेन्‍स की समस्‍या

वैरिकोज वेन्स एक बहुत ही आम समस्या है, जिसमें पैरों की नसें एक जगह पर इकठ्ठी हो जाती हैं और त्वचा के नीचे से साफ दिखाई देने लगती हैं। जब पैरों की नसों में मौजूद वॉल्व कमजोर हो जाते हैं, तो नसें कमजोर होकर फैलने लगती हैं या फिर ऐंठ…

श्री गोरख महापुराण

गृहस्वामिनी कुछ नर्म भाषा में बोली, तेरे पास रखा ही क्या है जो मेरी मनोकामना पूरी करेगा। गोरखनाथ बोले, माता जी आप एक बार कह कर तो देखें कि मैं क्या कर सकता हूं। गृहस्वामिनी बोली मुझे दही बड़े के बदले तेरी एक आंख चाहिए, बोल देगा। गोरखनाथ…

विष्णु पुराण

वृसद्रथंतरदीनि सामन्यह्न क्षये रविम। अंगमेषां त्रयी विष्णोऋय्यजु सामसंज्ञिता।। विष्णु शक्तिरदोनि सदादित्ये करोति स। न के पल रवेः शक्ति वैष्णवी सा त्रयीमयी।। ब्रह्मथ पुरुषो रुद्रस्वयमेतत्वयीमयम। सर्गादऋङमयीब्रह्मा स्थितौ…

देवगुरु बृहस्पति

हमारे ऋषि-मुनि, भागः 8 सप्तर्षियोंं में एक ऋषि अंगिरा भी हैं, जो भगवान ब्रह्माजी के मानसपुत्रों में से एक हैं। इनके तीन पत्र हुए बृहस्पति,उतध्य तथा संवर्त्त। सबसे ज्येष्ठ पुत्र बृहस्पति जी देवताओं के गुरु हैं। देवताओं में धार्मिक प्रवृत्ति…

हार्ट को स्‍वस्‍थ रखने के उपाय

आजकल दिल से जुड़ी बीमारियां बहुत आम हो चुकी हैं, लेकिन ऐसा नहीं है कि अपने दिल को स्वस्थ रखने के लिए हम कुछ कर ही नहीं सकते हैं। जीवन में थोड़ा अनुशासन और थोड़े बदलाव हमें लंबे समय तक फिट रख सकते हैं और हमारे हार्ट को स्वस्थ भी। हार्ट…