अगस्ता वेस्टलैंड के घोटाले में नया मोड़

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं पत्रकारों के तीखे प्रश्नों से घबरा कर जोसफ ने एक और जानकारी उगल दी। उसने कहा दुबई में मेरे और मिशेल के एक सांझे दोस्त हैं। उसने मुझे मिशेल के लिए न्यायालय में पेश होने के लिए कहा…

दशगुरु परंपरा ने किया मुगलों का सामना

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं 1200 से लेकर 1800 तक छह सौ साल में इन विदेशी शासकों ने केवल भारत को पददलित ही नहीं किया, बल्कि पूरे पश्चिमोत्तर भारत को साम-दाम-दंड-भेद से इस्लाम मत में दीक्षित करने का मजहबी काम…

जम्मू-कश्मीर विधानसभा का भंग किया जाना

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं आखिर ये तीनों दल जो परस्पर विरोधी ही नहीं, बल्कि जिनके पास एक आसन पर बैठने का एक भी आधार नहीं है, इसके लिए क्यों तैयार हुए? इसका एक कारण पीडीपी और एनसी का स्थानीय निकाय चुनावों के…

उर्दू से लेकर औरंगजेब तक फैली कांग्रेस

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं मुगलों को मराठों, पंजाबियों, राजपूतों ने उखाड़ दिया। भारत के लोग अंततः जीत गए, लेकिन अरबों के उत्तराधिकारी सैयद, तुर्क, मुगल और अफगान अपने मन से शासक होने के भूतकाल को नहीं छोड़…

अयोध्या में राम के घर को कौन दे रहा चुनौती

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं भारतवंशियों ने हिम्मत करके अयोध्या में ही एक बार फिर राम लला के लिए उनका घर बना कर ही दम लिया। चाहे यह छोटा सा घर, तरपैल की छत लिए राम की गरिमा के अनुकूल तो नहीं है, लेकिन विपरीत…

स्मृति ईरानी के साहस को सलाम

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं स्मृति ईरानी के कथन की समीक्षा करनी होगी। स्मृति ईरानी ने कहा कोई अकलमंद व्यक्ति किसी मित्र के घर में ‘खून आलुदा’ कपड़े लेकर नहीं जाता। यह किसी भी सभ्य समाज में मर्यादा के विपरीत माना…

सबरीमाला मंदिर का विवाद और आस्था

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं केरल में सीपीएम की सरकार है। सीपीएम के लिए धर्म अफीम के समान है। इसलिए लोगों के मन से धर्म के प्रभाव को समाप्त करना उनकी विचारधारा का हिस्सा है। शायद इसीलिए कुछ लोग यह भी आरोप लगाते…

मायावती का छूटा साथ

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं यह इलाका मायावती का था, इस इलाके में सोनिया गांधी को मायावती अपनी शर्तों पर चलाना चाहती है, लेकिन सोनिया गांधी यदि इन शर्तों को मानती है तो उसके लिए यह निहायत घाटे का सौदा होगा।…

जम्मू-कश्मीर में पंचायत चुनाव

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं सबसे बड़ी बात यह है कि दोनों दल पंचायतों के चुनावों से उभरे नेतृत्व को कोई अधिकार देने को तैयार नहीं हैं। इसलिए वे भारतीय संविधान में पंचायत प्रतिनिधियों को दिए गए अधिकारों के…

उच्च्तम न्यायालय में लंबित अयोध्या मामला

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं खुदा ही जाने लोग सोलहवीं शताब्दी से चले आ रहे अयोध्या विवाद को अभी किस शताब्दी तक और क्यों लटकाए रखना चाहते हैं? लेकिन 27 सितंबर को उच्चतम न्यायालय की तीन सदस्यीय पीठ ने दो-एक के…

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की संवाद रचना

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने यूरोपीय लोगों द्वारा की गई इस गलती को सुधारने का प्रयास किया। संघ का मानना है कि हिंदू शब्द भारतीय का समानार्थी तो हो सकता है, क्योंकि भारतीय भी राष्ट्रीयता…

शहरी नक्सलवाद पर उठते सवाल

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं ताज्जुब है जिन माओवादियों ने सोनिया कांग्रेस के विद्याचरण शुक्ल और महेंद्र कर्मा की नृशंस हत्या कर दी, उन्हीं षड्यंत्रों में लिप्त लोगों की जांच-पड़ताल जब जांच अभिकरण करना चाहते हैं,…

वासुकि नाग की तीर्थ यात्रा

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं एक बार महाराजा हरि सिंह ने भद्रवाह-चंबा सड़क बनाने की योजना भी बनाई थी, लेकिन तभी सत्ता शेख अब्दुल्ला के हाथ आ गई और उसके बाद यह प्रकल्प ठप हो गया। हिमाचल प्रदेश सरकार के पर्यटक विभाग…

राहुल गांधी और दिल्ली का नरसंहारक

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं दिल्ली में यह नरसंहार कांग्रेस पार्टी द्वारा बाबर से लाए गए अपराधियों एवं बदमाशों ने किया, जिनका नेतृत्व कांग्रेस के उस समय के कुछ जाने-माने नेता कर रहे थे। उन पर अभी भी न्यायालयों…

सेना के प्रधानमंत्री हैं इमरान खान

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं अलबत्ता फांसी, जेल में डालना आदि काम सेना वहां की न्यायपालिका के माध्यम से करवाती है। उसी प्रकार जिस प्रकार वह देश में प्रधानमंत्री चुनवाने का काम वहां की जनता से करवाती है। इमरान खान…