himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

मोगेंबो खुश हुआ

NEWSबालीवुड में अमरीश पुरी को एक ऐसे अभिनेता के तौर पर याद किया जाता है, जिन्होंने अपनी कड़क आवाज, रौबदार भाव-भंगिमाओं और दमदार अभिनय के बल पर खलनायकी को एक नई पहचान दी। रंगमंच से फिल्मों के रूपहले पर्दे तक पहुंचे अमरीश ने करीब तीन दशक में लगभग 250 फिल्मों में अभिनय का जौहर दिखाया। पंजाब के नौशेरां गांव में 22 जून, 1932 में जन्मे अमरीश ने अपने करियर की शुरुआत श्रम मंत्रालय में नौकरी से की। पचास के दशक में अमरीश ने हिमाचल प्रदेश के शिमला से बीए पास करने के बाद मुंबई का रुख किया। अमरीश ने अपने जीवन के 40वें वसंत से अपने फिल्मी जीवन की शुरुआत की थी। वर्ष 1971 में बतौर खलनायक उन्होंने फिल्म रेशमा और शेरा से अपने करियर की शुरुआत की। 1986 में प्रदर्शित सुपरहिट फिल्म ‘नगीना’ में उन्होंने एक सपेरे की भूमिका निभाई, जो लोगों को बहुत भाई।  1987 में शेखर कपूर बच्चों पर केंद्र्रित एक और फिल्म बनाना चाहते थे, जो ‘इनविजबल मैन’ पर आधारित थी। कहानी की मांग को देखते हुए खलनायक के रूप में अमरीश का चुनाव किया। फिल्म में अमरीश पुरी द्वारा निभाए गए किरदार का नाम मोगेंबो’ था। बाद में यही नाम उनकी पहचान बन गया। अमरीश पुरी ने स्टीफन स्पीलबर्ग की मशहूर फिल्म ‘इंडिना जोंस एंड दि टेंपल ऑफ डूम’ में खलनायक के रूप में काली के भक्त का किरदार निभाया। इसके लिए उन्हें अंतरराष्ट्रीय ख्याति भी प्राप्त हुई। अमरीश पुरी 12 जनवरी, 2005 को इस दुनिया से अलविदा कह गए।

You might also like
?>