Divya Himachal Logo Aug 20th, 2017

आस्था


मणिमहेश यात्रा

aasthaहिमाचल की पीर पंजाल की पहाडि़यों के पूर्वी हिस्से में तहसील भरमौर में स्थित है प्रसिद्ध मणिमहेश तीर्थ। यहां स्थित झील समुद्र तल से 15000 फुट की ऊंचाई व कैलाश पर्वत शिखर 19000 फुट की ऊंचाई पर है। मणिमहेश पर्वत के शिखर पर भोर में एक प्रकाश उभरता है, जो तेजी से पर्वत की गोद में बनी झील में प्रवेश कर जाता है। यह इस बात का प्रतीक माना जाता है कि भगवान शंकर कैलाश पर्वत पर बने आसन पर विराजमान होने आ गए हैं तथा यह अलौकिक प्रकाश उनके गले में पहने शेषनाग की मणि का है। मणिमहेश की यात्रा प्रत्येक वर्ष की श्रीकृष्ण जन्माष्टमी से राधा अष्टमी तक चलती है। आसमान छूते हिम शिखरों, फैले हुए ग्लेशियर व अल्हड़ नदी-नालों के बीच से होते हुए श्रद्धालु मणिमहेश पहुंचते हैं, जोकि एक रमणीय घाटी में स्थित है। मणिमहेश पर्वत की गोद में पर्वत शिखर पर प्राकृतिक रूप से 1 किलोमीटर की परिधि में बनी इस झील को देखकर हर कोई विस्मित रह जाता है। झील के किनारे और पर्वत शिखर के नीचे एक मंदिर है, जहां यात्री शीश नवाते हैं। यह मंदिर बिना छत का है। कहते हैं शिव भक्तों ने दो बार मंदिर पर छत का निर्माण करवाया, पर बर्फीले तूफानों में छत उड़ गई। यात्रा शुरू होने पर हड़सर गांव के कुछ पुजारी यहां मूर्तियां लाते हैं और समाप्ति पर वापस ले जाते हैं। हजारों की संख्या में श्रद्धालु मणिमहेश झील में स्नान कर पूजा करते हैं और अपनी इच्छा पूरी होने पर लोहे का त्रिशूल, कड़ी व झंडा इत्यादि चढ़ाते हैं। राधा अष्टमी वाले दिन जब सूरज की किरणें कैलाश शिखर पर पड़ती हैं, तो उस समय स्नान करने से मनुष्यों को अनेक प्रकार के रोगों से मुक्ति मिलती है। मणिमहेश यात्रा चंबा से शुरू होकर राख, खड़ा  मुख इत्यादि स्थानों से होती हुई भरमौर पहुंचती है। यात्रा की खोज का श्रेय सिद्ध योगी चरपटनाथ जी को जाता है। यात्रा शुरू करने से पहले भरमौर से 6 किलोमीटर पहाड़ी के शिखर पर ब्रह्मा जी की पुत्री भ्रमाणी देवी का मंदिर स्थित है। मणिमहेश की यात्रा से पूर्व यहां पर आने से ही यात्रा पूर्ण मानी जाती है। आदिकाल से ही संत महात्मा योगी और भक्तजन मणिमहेश यात्रा की शुरुआत चंबा से ही करते रहे हैं क्योंकि चंबा का ऐतिहासिक प्राचीन लक्ष्मीनारायण मंदिर यात्रा का आधार एवं प्रारंभिक शिविर हुआ करता था। आजकल चंबा से 65 किलोमीटर दूर भरमौर चौरासी में रुक कर यात्री आगे बढ़ते हैं। चौरासी एक धार्मिक स्थल है जो चौरासी सिद्धों की तपोस्थली है, जहां विश्व का एकमात्र धर्मराज मंदिर स्थित है। चंबा से भरमौर 70 किलोमीटर व भरमौर से हड़सर 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है इसके आगे हड़सर से मणिमहेश खड़ी चढ़ाई, संकरे व पथरीले रास्तों वाली 14 मील की पैदल यात्रा है, तंग पहाड़ी में बसा हड़सर इस क्षेत्र का अंतिम गांव है। हड़सर से पैदल चढ़ाई करते हुए पहला पड़ाव आता है धनछो। यह रास्ता बहुत कठिन व मुश्किल है। धनछो से आगे और मणिमहेश झील से लगभग डेढ़-दो किलोमीटर पहले गौरीकुंड आता है। मणिमहेश झील आम यात्रियों व श्रद्धालुओं के लिए यही अंतिम स्थान है। मणिमहेश की डल झील शिव भगवान की स्नान स्थली है। सदियों से चल रही इस यात्रा को तभी सफल माना जाता है, जब यहां रात्रि व्यतीत कर भोर होते ही कैलाश पर्वत के दर्शन कर वहां कुदरती तौर पर उत्पन्न होने वाले दिव्य प्रकाश में झील में स्नान किया जाए।  मणिमहेश यात्रा इस वर्ष 15 अगस्त को प्रारंभ होकर 29 अगस्त तक चलेगी।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

August 19th, 2017

 
 

गर्म पानी के कुंडों का रहस्य

गर्म पानी के कुंडों का रहस्यभारत में कई प्रसिद्ध तीर्थों के आसपास गर्म पानी के कुंड हैं। ये हर सीजन में गर्म क्यों रहते हैं, यह आज भी रहस्य बना हुआ है। आइए जानते हैं कुछ ऐसे ही गर्म पानी के कुंडों के बारे में। यमुनोत्री का कुंड- उत्तराखंड में […] विस्तृत....

August 19th, 2017

 

भद्राचलम का राम मंदिर

भद्राचलम का राम मंदिरभारत की संस्कृति राममय है। यहां रोम-रोम में राम बसे हैं। भारत में अनेक प्राचीन स्थल हैं, जो श्रीराम के जीवन से जुड़े हैं। इसी तरह राम कथा से अभिन्न रूप में जुड़ा है आंध्रप्रदेश के खम्मम जिले में भद्राचलम। इस पुण्य क्षेत्र को दक्षिण […] विस्तृत....

August 19th, 2017

 

बाबा सिद्ध चानो मंदिर

बाबा सिद्ध चानो मंदिरबाबा सिद्ध चानो की उत्तर भारत में बहुत मान्यता है। यहां पर बाबा के बहुत से मंदिर हैं । इनमें कुछ मंदिर जैसे बाबा का आनंदपुर में मंदिर, हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के प्रागपुर का मंदिर और बिलासपुर जिले के समैला का मंदिर और […] विस्तृत....

August 19th, 2017

 

हर भय हरते हैं भगवान वराह

हर भय हरते हैं भगवान वराहवराह भगवान का यह व्रत सुख-संपत्तिदायक एवं कल्याणकारी है।  उनकी उपासना से व्यक्ति सभी भयों से मुक्त होकर निर्भय हो जाता है। जो श्रद्धालु भक्त इस दिन वराह भगवान के नाम से व्रत रखते हैं उनके सोए हुए भाग्य को स्वयं भगवान जागृत कर देते […] विस्तृत....

August 19th, 2017

 

दीपदान की उज्जवल परंपरा

दीपदान की उज्जवल परंपराइस संस्कृति में बाहरी अंधकार के साथ अपने भीतर पसरे अंधकार को दूर कर संसार और अपने जीवन को प्रकाशमय बनाने पर जोर दिया जाता रहा है। इस प्रकाशप्रेमी संस्कृति का एक अहम हिस्सा है-दीपदान। भारतीय संस्कृति में दीपदान व्रत की विशेष महिमा बताई गई […] विस्तृत....

August 19th, 2017

 

भूत शुध्दि की प्रक्रिया है नदी पूजन

भूत शुध्दि की प्रक्रिया है नदी पूजनअगर आप भारतीय संस्कृति में पूजे जाने वाले लोगों को देखें, चाहे वे शिव हों, राम हों या कृष्ण हों, ये वे लोग थे जिनके कदम कभी इस धरती पर पड़े थे। वे सामान्य लोगों से कहीं ज्यादा मुश्किलों और चुनौतियों से गुजरे। हम उनकी […] विस्तृत....

August 19th, 2017

 

अंतहीन तृष्णा अवधेशानंद गिरि

तृष्णा का स्वभाव है कि जैसे-जैसे मनुष्य की कामनाएं पूर्ण होती जाती हैं वैसे-वैसे तृष्णा की लपटें और धधकती जाती हैं। उसे किसी सीमा में नहीं बांधा जा सकता। शुरू में बहुत से लोग कहते हैं कि मेरे पास इतना हो जाए तो बस, लेकिन […] विस्तृत....

August 19th, 2017

 

प्रभु कृपा का एहसास

परमात्मा में हम हैं, परमात्मा से बिलकुल दूरी नहीं है। उसी में पैदा हुए हैं, उसी में जी रहे हैं तो पता नहीं चलता उसका। वायुमंडल का ही उदाहरण ले लो। चारों तरफ  से हम उससे घिरे हुए हैं, क्या उसका एहसास होता है हमें? […] विस्तृत....

August 19th, 2017

 

व्रत एवं त्योहार

20 अगस्त   रविवार, भाद्रपद, कृष्णपक्ष, चतुर्दशी 21 अगस्त सोमवार, भाद्रपद, कृष्णपक्ष, सोमवती अमावस्या 22 अगस्त मंगलवार, भाद्रपद, शुक्लपक्ष, प्रथमा 23 अगस्त बुधवार, भाद्रपद, शुक्लपक्ष, द्वितीया 24 अगस्त बृहस्पतिवार, भाद्रपद,  शुक्लपक्ष, तृतीया, हरितालिका तृतीया 25 अगस्त शुक्रवार, भाद्रपद, शुक्लपक्ष, चतुर्थी, सिद्धि विनायक व्रत, कलंक चतुर्थी 26 […] विस्तृत....

August 19th, 2017

 
Page 1 of 46812345...102030...Last »

पोल

क्या कांग्रेस को विस चुनाव वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में लड़ना चाहिए?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates