Divya Himachal Logo May 24th, 2017

संपादकीय


बंदरों के खिलाफ विधायक

बंदर मारने की दुआएं अगर कबूल हों, तो यह पुण्य कमा कर हिमाचल सरकार के एक मुख्य संसदीय सचिव ने उदाहरण पेश कर दिया। सुलाह क्षेत्र के विधायक व सीपीएस जगजीवन पाल ने, अपने सियासी मुहावरों को छोड़ कर सामाजिक प्राथमिकताओं में खुद को आगे करते हुए, खेत से बंदर का नामोनिशान मिटाने की प्रतिज्ञा ली है। अपने उद्देश्य की बागडोर में विधायक जगजीवन पाल ने बाकायदा परौर पंचायत में छह बंदरों को निशाना बनाया। सरकार की ओर से ऐसी कितनी ही पंचायतों को बंदर मारने की स्वीकृति प्रदान है, लेकिन ऐसे अभियान का नेतृत्व कहीं नहीं हो रहा। ऐसे में एक विधायक अगर किसान के खेत पर खड़ा हो रहा है और उसके निशाने पर उत्पाती बंदर हैं, तो जगजीवन पाल के साहस को साधुवाद। हिमाचल प्रदेश में चर्चा का सबसे बड़ा विषय होने के नाते बंदर को हम किसी भी सूरत और पैमाने से हरगिज बदारस्त नहीं कर सकते। कई तहसीलों में बंदर के खिलाफ सजा-ए-मौत का फैसला आने के बावजूद हमारे पास वे हाथ नहीं, जो गोली दाग दें। बेशक सरकारी चिट्ठियों के मार्फत बंदर से किसान को बचाने की घोषणाएं सिर चढ़ कर बोलीं, लेकिन ऐसे इंतकाम की कहीं से शुरुआत नहीं हुई। ऐसे में जगजीवन पाल ने वह काम करना शुरू कर दिया, जिसे वन मंत्री की फाइलें भी नहीं कर पाईं। अगर वन मंत्री संजीदा होते, तो बाकायदा शिकारी नियुक्त करके बारूद का इतना ढेर लगाते कि बंदर पुनः जंगल में पनाह ढूंढता। यह कार्य एक विशेष टास्क फोर्स के मार्फत ही संभव है और इस दिशा में सुलाह के विधायक ने न केवल हिम्मत दिखाई, बल्कि बंदर मारने का सही तरीका भी प्रदर्शित किया है। विधायक ने इससे पूर्व आवारा पशुओं के खिलाफ भी मुहिम के जरिए गोवंश के पुनर्वास को अमलीजामा पहनाया है। जहां पूरा सियासी अमला आपसी प्रतिस्पर्धा में निरंतर अपनी-अपनी सत्ता का ध्वजवाहक बना हुआ है, वहां अगर एक विधायक बंदरों और आवारा पशुओं से किसान को बचाने में प्रयत्नशील है, तो कहीं आशा की लालटेन जल रही है। यह अलग बात है कि मौजूदा व्यवस्था के बीच जगजीवन पाल को कितनी सफलता मिलती है या उनके प्रयास को जनता किस तरह अंगीकार करती है, लेकिन सार्वजनिक रूप से किसी विधायक का यही तो कर्त्तव्य बनता है। इससे पहले भी विधायक ने सरकारी स्कूलों के वार्षिक समारोहों में अपनी हाजिरी बतौर मुख्यातिथि से हटा कर यह पैगाम दिया कि जनप्रतिनिधि सरकारी संसाधनों की सौगात नहीं। प्रयास के अपने पहरे चुनते हुए जगजीवन पाल ने युवा पीढ़ी को नशे और दोपहिया वाहनों पर बेलगाम घूमने के खिलाफ अभियान छेड़ा। खासतौर पर बिना हेलमेट वाहन सवार युवाओं को अनुशासित जिंदगी का सबब समझाने की कोशिश अगर विधायक कर सकता है, तो समाज के हर शख्स को अपना दायित्व समझना होगा। सरकार के अंगने में तो वनमंत्री की घोषणाओं का लबादा बार-बार उतरा है और यह भी एक हकीकत है कि किसान को निरंतर बंदर ने खेती से महरूम कर दिया है। बंदरों के खिलाफ तमाम नाकामयाबियों का ठीकरा अगर सरकार पर फूटता है, तो भी सुलाह क्षेत्र में हुई विधायक की पहल एक मजबूत संदेश देती रहेगी। क्यों नहीं तमाम जनप्रतिनिधि अपनी कंदराओं से बाहर निकल कर किसान का खेत देखें और जगजीवन पाल का अनुसरण करके बंदर मारने की हिम्मत जुटाएं। निश्चित रूप से किसान का खेत दुआएं देगा।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें !

May 24th, 2017

 
 

तीन तलाक पर हलफनामा

सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को बाध्य किया है कि अब वह तीन तलाक पर यू-टर्न ले रहा है। पर्सनल लॉ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में 13 पन्नों का हलफनामा देकर संविधान पीठ को आश्वस्त करने की कोशिश की है […] विस्तृत....

May 24th, 2017

 

हिंसक छात्रों का परिसर

ये छात्र शिक्षा के नहीं और न ही हिमाचल विश्वविद्यालय शिक्षा के कारण चर्चा में रहा है। हो सकता है हम आज के पत्थरबाजों को कल के नेता के रूप में स्वीकार करें या इनकी मातृ पार्टियां, विश्वविद्यालय कैंपस में हिंसक छात्रों के बीच अपना […] विस्तृत....

May 23rd, 2017

 

आतंक के ‘दलाल’ अलगाववादी

साधुवाद, शाबाश, बधाई, भई! कमाल कर दिया….‘आज तक’ के स्टिंग ‘आपरेशन हुर्रियत’ पर ये शब्द अचानक ही बोलने को मन करता है। उस स्टिंग ने सैयद अली शाह गिलानी,यासीन मलिक और उनके ‘पिल्लों’ को बेनकाब कर दिया है। यदि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने अलगाववादी […] विस्तृत....

May 23rd, 2017

 

मोदी को भ्रष्ट चुनौती

ताजातरीन मामला लालू यादव और उनके परिवार से जुड़ा है। पटना में 71,214 वर्गमीटर भूखंड पर ‘डिलाइट मॉल’ बनाया जा रहा है। इसकी लागत 750 करोड़ रुपए बताई जाती है। लालू की पत्नी राबड़ी देवी और बेटा तेजस्वी प्रसाद इस मॉल की कंपनी के मालिक […] विस्तृत....

May 22nd, 2017

 

हिमाचली कल्पनाओं का रिसाव

हिमाचली क्षमता और मानव संसाधन का रिसाव अगर कोई मसला नहीं, तो आर्थिक और प्रगति के दस्तावेज बनाते वक्त यह गौर करना होगा कि गाहे-बगाहे हम कितनी संभावना खो रहे हैं। उदाहरण के लिए जब वाकनाघाट में एक उपग्रह नगर की कल्पना हो रही थी, […] विस्तृत....

May 22nd, 2017

 

विसंगतियों के खेल संघ

खेल संघों की मर्यादा से जूझते लक्ष्य और फिरकापरस्ती का आलम यह कि नकदी की तरह भुनाए जाते हैं ओहदे। टकराव के सिंहासन पर बैठे हिमाचल कबड्डी संघ के कारण खेल की आबरू कितनी बचेगी। कबड्डी के छोटे ग्राउंड से कहीं विस्तृत है महत्त्वाकांक्षा और […] विस्तृत....

May 20th, 2017

 

जाधव को जस्टिस

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ  जस्टिस (आईसीजे) के 11 जजों की पीठ ने भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के संदर्भ में जो अंतरिम फैसला सुनाया है, वह भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत है। भारत और जाधव के परिजनों के लिए नैतिक और मानसिक राहत है। पाकिस्तान कई स्तरों […] विस्तृत....

May 20th, 2017

 

कालेज के छोर पर

कुछ चुनौतियां समझी गईं और कुछ फासले पर खड़ी उच्च शिक्षा के हालात पर चिंतन हुआ, मगर समस्या की चोटी फिर भी पकड़ी नहीं गई। शिक्षा जा किधर रही है और इसे जाना है किधर। जब तक इस भंवर से बाहर निकल कर क्षितिज नहीं […] विस्तृत....

May 19th, 2017

 

अब की बार, औरतों को अधिकार

3 तलाक पर संविधान पीठ ने कुछ संकेत दिए हैं कि इस कुरीति में सुधार जरूरी हैं। फैसला क्या होगा,अभी मुकम्मल तौर पर नहीं कहा जा सकता,लेकिन संविधान पीठ ने एक सुझाव के तौर पर कहा है कि 3 तलाक में मुस्लिम औरतों को विकल्प […] विस्तृत....

May 19th, 2017

 
Page 1 of 41512345...102030...Last »

पोल

क्या कांग्रेस को हिमाचल में एक नए सीएम चेहरे की जरूरत है?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates