himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

राहुल का ‘मजबूरन परामर्श’

गालियों की राजनीति ने गुजरात चुनाव का माहौल ऐसा बदल दिया है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पार्टी नेताओं के लिए ‘परामर्श’ जारी करना पड़ा है। हिदायत दी गई है कि कोई भी प्रधानमंत्री मोदी के भाषण और बयानों पर टिप्पणी नहीं करे। यदि…

यह नक्शा पर्यटन का नहीं

हिमाचल में पर्यटन के घौंसले में पलते नशे ने जिन स्थानों को बदनाम किया है, उनमें कसोल का जिक्र चिंता से होने लगा है। अपराध की शरण और बदनाम लोगों की बस्ती बनते पर्यटन के रास्ते, हिमाचल की इन्हीं मंजिलों की शिनाख्त अगर आईबी कर रही है, तो…

फिर मैदान हाजिर है

क्रिकेट की अंतरराष्ट्रीय खुमारी के बीच पुनः हिमाचल अपनी गांठें खोलकर, भारत-श्रीलंका वनडे का इंतजार कर रहा है। धर्मशाला क्रिकेट स्टेडियम के लिए कोई भी मैच मन्नत की तरह है, क्योंकि राष्ट्रीय खेल की यह दौलत किसी चमत्कार से कम नहीं। जाहिर है…

मणिशंकर की बोली !

बिन हड्डी की जुबान ऐसी है कि बार-बार फिसलती है और देश के प्रधानमंत्री को गालियां देती है! क्या यह भी अभिव्यक्ति की आजादी है? देश का प्रधानमंत्री एक व्यक्ति, एक पार्टी, एक गठबंधन का नेता नहीं होता। वह देश का सर्वोच्च कार्यकारी पदाधिकारी है।…

हिमाचली ठूंठ के आदर्श

कामकाज के सरकारी नखरों में हिमाचली कार्य संस्कृति का वर्तमान दस्तूर हैरान करता है। कुछ इसी तरह का वाकया मंडी जिला के रक्तदानियों के सामने जब पेश आया, तो हिमाचल का वास्तविक चेहरा भी शर्मिंदा हुआ। आचार संहिता के नाम पर लंबी तान कर सो रही…

हिंदुत्व की त्रासद राजनीति

‘‘मोदी जी हमारी आस्था नहीं हैं। मोदी के कहने से राम मंदिर नहीं बनेगा। मंदिर तभी बनेगा, जब भगवान राम चाहेंगे। हमारी यही आस्था है।’’ यह बयान देते हुए कपिल सिब्बल ने यह भी ऐलान किया कि वह सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील नहीं हैं। सवाल है कि क्या यह…

अयोध्या का चुनावी परिप्रेक्ष्य

राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद पर पांच दिसंबर से सर्वोच्च न्यायालय में रोजाना सुनवाई शुरू होनी थी, लेकिन शुरुआत के बावजूद उसे आठ फरवरी तक टालना पड़ा। आखिर क्यों? दस्तावेजों के अधूरेपन के कारण या अयोध्या विवाद के चुनावी परिप्रेक्ष्य के कारण नई…

जुर्म के खिलाफ

जुर्म के खिलाफ खड़ी जेल की दीवारें फिर हिलीं और कंडा से तीन कैदी फरार हो गए। इससे एक दिन पूर्व ही वनगढ़ उपकारागार में पुलिस कर्मी पर कैदी का हमला भी चिंता का विषय है। बेशक जेल सुधार कार्यक्रम के तहत कैदियों की जिंदगी संवारने की कई…

चारित्रिक सीमा का उल्लंघन

अदालती फैसलों की जद में हिमाचली आचरण और समाज के टूटते आईनों को हम देख सकते हैं, लेकिन नसीहत के शब्द कभी मूर्त नहीं होते। यह विडंबना हमारे सामने राजनीतिक दुकानदारी में सजी अभिलाषा के कारण है या हम सामाजिक तौर पर खुदगर्ज इस लिहाज में हो गए कि…

कांग्रेस में ‘मुगल’ राज !

राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए नामांकन भर दिया है और उनका अध्यक्ष बनना तय है, क्योंकि स्थिति निर्विरोध की है। ऐसी कोई आशंका और संभावना भी नहीं थी कि राहुल गांधी को कोई चुनौती दे सकता है। बेशक यह कांग्रेस का भीतरी चुनाव या चयन है,…

आचार संहिता का मनोविज्ञान

आचार संहिता के मनोविज्ञान में हिमाचली पलकों पर सवार इंतजार, अब यह भी समीक्षा कर रहा है कि राज्य का पुरुषार्थ अपने संयम में कितना साहसी है। इस दौरान एक राष्ट्रीय पत्रिका ने हिमाचल का मूल्यांकन टॉप पर किया, तो अब वेलनेस डेस्टिनेशन में हिमाचल…

बल्लेबाजी के ‘विराट’

कलात्मक बल्लेबाज रहे वीवीएस लक्ष्मण अकसर टिप्प्णी करते हैं कि विराट कोहली पसीना भी सूखने नहीं देते हैं और अगला शतक ठोंक देते हैं। वह शतक-दर-शतक मार रहे हैं। क्रिकेट के टेस्ट और एकदिनी मैचों में अभी तक विराट 52 शतक बना चुके हैं। कीर्तिमान की…

‘करों का आतंकवाद’ कैसे ?

एक शख्स प्रधानमंत्री है-नरेंद्र मोदी और दूसरे शख्स पूर्व प्रधानमंत्री हैं-डा. मनमोहन सिंह। डा. सिंह विश्वविख्यात अर्थशास्त्री भी माने जाते हैं। उन्होंने विश्व बैंक और अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष सरीखे संस्थानों में भी काम किया है। मनमोहन सिंह…

सरकारों का सरकारी ढर्रा

सरकारी ढर्रा बदलने के लिए जनता को जब कभी लोकतांत्रिक अवसर मिलता है, मतदान प्रतिक्रियात्मक होकर बदलाव का शंखनाद करता है, लेकिन धरती पर आकाश उतारने की सारी कोशिश फिर ढर्रा बनकर ही रह जाती है। पिछले काफी समय से हिमाचल एक तरह से गैर राजनीतिक…

युग बदलती सड़कें

बड़ी सड़क परियोजनाओं की करवटों में प्रदेश भविष्य की अधोसंरचना का अनुमान लगा सकता है। यह किसी युग परिवर्तन सरीखा संकल्प है और इस लिहाज से नागरिक समाज के सामने भी प्रश्न और आशाएं उभरेंगी। प्रश्न इसलिए कि विस्थापन की आंच में प्रगति को आसानी से…
?>