ग्रामीण चौपाल से जनमंच तक

जन समस्याओं के निदान की नई रूपरेखा में जयराम सरकार जनमंच के जरिए जो अलख जगा रही है, उसकी ध्वनि में सुशासन की इत्तला है। केंद्र सरकार के चार साल का जश्न जिस हिमाचली जनमंच पर होने जा रहा है, वहां से उम्मीदों की गली शुरू होती है। अगर यह महज…

कितने महीने का गठबंधन

आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी से पूछा कि कर्नाटक में इस शपथ ग्रहण समारोह का संदेश क्या है? इस सवाल पर येचुरी ने खुशी जताई कि विपक्ष ने हार कर भी सरकार बनाई है। एक बार फिर भाजपा की रणनीति को…

राष्ट्रपति की शृंखला में हिमाचल

तिलिस्म बांधकर नाचती वीआईपी मानसिकता के घुंघरू अगर इस बार राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के आगमन पर नहीं टूटे, तो शायद ही ऐसा अवसर फिर कभी लौटेगा। देश के प्रथम नागरिक ने राष्ट्र के आदर्शों की जो शृंखला हिमाचल दौरे पर स्थापित की है, उसमें हम भी…

मोदी हराओ मोर्चा!

सत्ता विरोधी राजनीतिक मोर्चे बनते रहे हैं। एक दौर था, जब प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और कांग्रेस के खिलाफ विपक्षी लामबंदी होती थी। राजीव गांधी प्रधानमंत्री बने, तो बोफोर्स घोटाला ऐसा उभरा कि उन्हीं की कैबिनेट में वित्त मंत्री रहे वीपी सिंह ने…

मिनी बस में मंत्रिमंडल

चिंतन में एक आशा भरना मुश्किल नहीं, लेकिन अंजाम तक पहुंचाना भी आसान नहीं, फिर भी जिरह और जवाब बदलने का हमेशा जिक्र होता है। एक जिक्र इस वक्त हिमाचली सोच की सतह पर प्रशंसा का पात्र बन रहा है, तो यह कहना स्वाभाविक है कि छोटा सा कदम ही नई…

यह संघर्ष विराम बेमानी!

बेशक गोलीबारी सीमापार से हो, पाकिस्तान मोर्टार के गोले दागता रहे और प्रतिक्रिया में बीएसएफ  के जवान पाक रेंजर्स को ढेर करें और उनकी चौकियां तबाह कर दें। दोनों ही स्थितियों में संघर्ष विराम बेमानी साबित होता है। जब रमजान के पाक महीने के…

पीएम मोदी अपराजेय नहीं !

कर्नाटक में सत्ता के समीकरण बदलने के बाद एक नई बहस शुरू हो गई है कि क्या प्रधानमंत्री मोदी को हराने का फार्मूला मिल गया है? क्या 2019 तक मोदी अपराजेय नहीं रह जाएंगे? क्या विपक्षी दलों का महागठबंधन आकार लेगा? यदि विपक्षी दल एकजुट होते हैं,…

कांग्रेस भी पन्ना प्रमुख ढूंढे

हिमाचल कांग्रेस ने सत्ता गंवा कर क्या सीखा, इसकी समीक्षा सहप्रभारी रंजीत रंजन के दौरों से सामने आएगी, फिर भी प्रश्न यह कि भाजपा की जड़ों को समझना पार्टी की सबसे बड़ी चुनौती है। मुकाबला पन्ना प्रमुख तक है, तो कांगे्रस शैली की गंभीर कमजोरियां…

वीआईपी तस्वीर में हिमाचल

यूं तो वीआईपी पर्यटन के नजारों में हिमाचल की ख्याति का उल्लेख हर साल गर्मियों में होता है, फिर भी तस्वीर नहीं बदलती तो कहीं मेहमाननवाजी मौन होकर ही रह जाती है। यह दीगर है कि अटल बिहारी वाजपेयी ने मनाली के प्रीणी को घर माना, तो रोहतांग सुरंग…

अढ़ाई दिन के मुख्यमंत्री

अंततः येदियुरप्पा को कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा। भाजपा ने अपने पूरे घोड़े खोल लिए, लेकिन इस बार वक्त उसके पक्ष में नहीं था, नतीजतन बहुमत का जुगाड़ नहीं किया जा सका। येदियुरप्पा ने सदन में अपना ‘भावुक भाषण’ तो दिया और…

हिंदोस्तान की तुलना पाकिस्तान से

लोकतंत्र खतरे में है, लोकतंत्र की हत्या की जा रही है। संविधान की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं, संविधान को मजाक बना दिया गया है, संविधान की अलग-अलग व्याख्याएं की जा रही हैं, देश के 70 सालों में पहली बार ‘तानाशाही’ का इस्तेमाल किया जा रहा है,…

धरोहर इतिहास बोलेगा

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की घोषणा पर अगर शीघ्र अमल होता है, तो हिमाचल का धरोहर इतिहास मुखातिब होगा। शिमला के बैंटनी कैसल में आयोजित ग्रामीण शिल्प मेले के दौरान मुख्यमंत्री ने इस आशय का विस्तृत स्वरूप पेश करते हुए, पर्यटन की महफिल में जोश भरा…

विकास खातों का विद्रोह

हिमाचली सत्ता किसी कांग्रेसी विधायक के सुझाव-आक्रोश पर पर्दा डाल सकती है, लेकिन जिस अंदाज और तर्क के आधार पर सरकाघाट के विधायक इंद्र सिंह ठाकुर जाहू में हवाई अड्डे की मांग उठा रहे हैं, उसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। इंद्र सिंह ठाकुर…

अंततः ‘भगवा ताजपोशी’!

कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला ने संविधान के अनुच्छेद 167 के तहत अपनी विशेष विवेकाधीन शक्तियों का इस्तेमाल किया, नतीजतन भाजपा नेता येदियुरप्पा कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री बने हैं। सरकारिया आयोग की रपट, जिसका सम्मान संसद और सर्वोच्च न्यायालय…

हिमाचली विभाग खुद से पूछें

हिमाचल के कितने प्रश्न हल हो गए, इसका जवाब नए सवालों को जन्म दे रहा है। बेशक प्रगति की दहाड़ में पर्वत ने पूरे देश को बहुत कुछ बताया है और खुद को साबित करने की परीक्षा में हिमाचल के नाम अग्रणी पर्वतीय प्रदेश का मजबूत तमगा है, फिर भी राज्य…