कांगड़ा


एयरपोर्ट नहीं, हमें अपनी जमीनें चाहिए

newsधर्मशाला — जिला कांगड़ा में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए गगल हवाई अड्डे के विस्तारीकरण का क्षेत्र के लोगों को मंजूर नहीं है। लोगों का कहना है कि उनको हवाई अड्डा नहीं बल्कि अपनी जमीनें चाहिएं। वहीं गगल में वर्ष 1947 में पाकिस्तान से विस्थापित होकर पहुंचे करीब 100 परिवारों को अपने भविष्य की चिंता सताने लगी है। विस्थापन का तीन बार दंश झेल चुके इन परिवारों का कहना है कि अब हिमाचल में भी उनको उजाड़ा जा रहा है। गगल बाजार में करोड़ों रुपए का कर्ज लेकर लोगों ने अपना कारोबार शुरू किया, लेकिन अब विस्थापन के कारण उनको भी भारी आर्थिक नुकसान झेलना पड़ सकता है। गगल एयरपोर्ट के विस्तारीकरण के विरोध में गगल की नवगठित संघर्ष समिति के अध्यक्ष देवराज, हिंदवीर कोहली, पंचायत प्रधान रविंद्र बाबा, पूर्व प्रधान सतीश कुमार तथा देवेंद्र कोहली की अध्यक्षता में गुरुवार को क्षेत्र के लोगों ने उपायुक्त कांगड़ा को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने कहा कि गगल एयरपोर्ट का क्षेत्र के लोगों द्वारा पूरी तरह से विरोध किया जाता है। साथ ही उन्होंने यह भी मांग की है कि जिला प्रशासन यह भी स्पष्ट करे कि हवाई अड्डे के विस्तारीकरण में कहां तक किया जा रहा है तथा इसकी जद में कौन-कौन से क्षेत्र आ रहे हैं। संघर्ष समिति के प्रधान देवराज ने कहा कि गगल पुराना कस्बा है तथा गगल से ही करोड़ों रुपए रेवन्यू सरकार को जाता है। साथ ही इस बाजार से सैकड़ों परिवारों की रोजी-रोटी जुड़ी है। ऐसे में यदि एयरपोर्ट के विस्तारीकरण में यह क्षेत्र आता है तो उक्त परिवारों का रोजगार समाप्त हो जाएगा। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि इस हवाई अड्डे के विस्तारीकरण की योजना को रद्द कर इसे किसी दूसरे स्थान पर बनाया जाए। गगल निवासी काकू तुल्ली ने बताया कि वर्ष 1947 में  करीब 100 परिवार पाकिस्तान से विस्थापित होकर श्रीनगर पहुंचे थे, लेकिन यहां से भी उन्हें विस्थापन का दंश झेलना पड़ा तथा हिमाचल में आकर उन्होंने अपने आशियाने बनाए। परेशानियों के बीच इन परिवारों ने अपने घर तथा रोजगार स्थापित किया है, लेकिन फिर से उन्हें यहां से विस्थापन की कगार पर खड़ा कर दिया गया है। वहीं, गगल में झुग्गी-झोपड़ी वाले करीब 45 परिवारों के सदस्य भी विस्थापन की प्रक्रिया से सहमे हुए हैं। गगल में इन परिवारों को एक स्थायी स्थान देकर बसाया गया है। गुरुवार को संघर्ष समिति ने उपायुक्त कांगड़ा के माध्यम से प्रधानमंत्री तथा मुख्यमंत्री हिमाचल प्रदेश को ज्ञापन भेजा है।

May 29th, 2015

 
 

कांगड़ा नगर परिषद मैदान की हालत पतली

कांगड़ा नगर परिषद मैदान की हालत पतलीकांगड़ा — कांगड़ा शहर के बीचों बीच स्थित नगर परिषद मैदान की हालत दिन प्रतिदिन बद से बदतर होता जा रही है। यहां खेलने वाले खिलाड़ी मैदान में जगह-जगह बिखरे कांच के टुकड़ों व पत्थरों से परेशान हैं। नगर परिषद के साथ बना स्टेडियम आजकल आवारा पशुओं व भिखारियों की शरणस्थली बना हुआ है। इसी समस्या के मद्देनजर साई फुटबाल अकादमी के प्रधान सुरेश छेछा, प्रवीन कुमार, श्याम वर्मा, नवीन धीमान, रवि चौधरी, बालकृष्ण, ईश्वर दास व अशोक इत्यादि ने […] विस्तृत....

May 29th, 2015

 

भू अधिग्रहण बिल केखिलाफ हल्ला

भू अधिग्रहण बिल केखिलाफ हल्लाज्वालामुखी — केंद्र सरकार के भूमि अधिग्रहण बिल के विरोध में ज्वालामुखी ब्लॉक कांग्रेस और युवा कांग्रेस ने मझीण चौक भड़ोली से ज्वालामुखी तक विधायक संजय रतन की अगआई में पदयात्रा कर विरोध प्रदर्शन किया। इस पदयात्रा में ज्वालामुखी विधान सभा क्षेत्र की सभी पंचायतों से लोगों ने हिस्सा लिया। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने  केंद्र सरकार के भूमि अधिग्रहण बिल के बारे में लोगों को जागरूक किया। लोगों ने रास्ते में ठंडे पानी की छबीलें लगाकर उनका उत्साह बढ़ाया। […] विस्तृत....

May 29th, 2015

 

निगम की भलाई को करें काम

धर्मशाला — बीएसएनएल कर्मचारी संगठन नेशनल फेडरेशन आफ टेलीकाम इंप्लाइज की प्रदेश परिमंडल कार्यकारिणी की बैठक धर्मशाला में हुई, जिसकी अध्यक्षता हिमाचल प्रदेश परिमंडल के अध्यक्ष सत्येंद्र गौतम ने की। गौतम ने अपने अध्यक्षीय भाषण में कर्मचारी नेताओं को कर्मचारियों और प्रशासन के बीच सेतु के रूप में बताया। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों का उद्देश्य निगम की भलाई के लिए काम करना है। इससे पूर्व धर्मशाला जिला प्रधान मेहता राम व महासचिव सत्येन घई ने देश व प्रदेश भर से […] विस्तृत....

May 29th, 2015

 

…तो घेरेंगे सीएमओ ऑफिस

गरली — क्षेत्र की 20 ग्राम पंचायतों के करीब 50 हजार ग्रामीणों की सेहत का जिम्मा संभालने वाला गरली का सिविल अस्पताल पिछले तीन दिनों से  बिना डाक्टरों के चला हुआ है, जिससे यहां स्वास्थ्य सेवाएं पूरी तरह से ठप हो चुकी हैं। प्रतिदिन यहां इलाज को आ रहे मरीजों को दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर होना पड़ रहा है। प्रदेश स्वास्थ्य विभाग की इस नाकामी को लेकर स्थानीय ग्रामीणों का गुस्सा फूटना शुरू हो गया है। मंगलवार को […] विस्तृत....

May 29th, 2015

 

बिना सिंचाई के बंजर होने लगी जमीन

बडूखर  — हिमाचल प्रदेश की सबसे बड़ी शाहनहर परियोजना 387 करोड़ की लागत की महत्त्वाकांक्षी शाहनहर का काम लगभग समाप्त हो चुका है और इसके साथ सफ ल परीक्षा परिणाम निकले हैं । जिला कांगड़ा के विधानसभा क्षेत्र इंदौरा व फ तेहपुर क्षेत्र के 93 गांवों की 15287 हेक्टेयर भूमि को सिंचाई सुविधा से जोड़ने का मार्ग तो प्रशस्त हो गया है परंतु, जब  शाहनहर बनने का कार्य शुरू हुआ था तब किसानों में एक नई आस जगी थी कि […] विस्तृत....

May 29th, 2015

 

बेमौसमी बारिश ने बहाए 82 करोड़

धर्मशाला — प्रदेश में पिछले दिनों हुई बेमौसमी बारिश तथा ओलावृष्टि से बागबानों-किसानों को  करीब 82 करोड़ रुपए का नुकसान विभिन्न क्षेत्रों में हुआ है। बारिश से से पांच व्यक्तियों की मृत्यु हुई, जबकि 39 पशुधन के नुकसान के साथ-साथ 99 कच्चे एवं पक्के मकान पूर्ण रूप से नष्ट हुए हैं। इसके अतिरिक्त 223 भवनों को आंशिक नुकसान हुआ है तथा 182 पशुशालाएं इस बारिश एवं तूफान से क्षतिग्रस्त हुई हैं। लोक निर्माण विभाग से संबंधित संपत्तियों को लगभग 60 […] विस्तृत....

May 29th, 2015

 

स्वास्थ्य उपकेंद्र-उच्च पाठशाला का शुभारंभ

ज्वालामुखी — विधानसभा क्षेत्र की पंचायत अंब पठियार में  25.69 लाख की लागत से बनने वाले  स्वास्थ्य उपकेंद्र का शिलान्यास और राजकीय उच्च पाठशाला अंब सलहेतर के नव स्तरोन्नत किए जाने पर गुरुवार को  स्वतंत्रता सेनानी कल्याण बोर्ड उपाध्यक्ष पं. सुशील रतन और स्थानीय विधायक संजय रतन ने विधिवत शुभारंभ किया। अंब पठियार पहुंचने पर स्वतंत्रता सेनानी कल्याण बोर्ड उपाध्यक्ष पं. सुशील रतन और स्थानीय विधायक संजय रतन का स्थानीय निवासियों और स्कूल प्रबंधन की ओर से  मुख्याध्यापक आरएस राणा […] विस्तृत....

May 29th, 2015

 

पक्के होने के लिए कोर्ट जाएंगे पंचायत सहायक

धर्मशाला  — हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा कैबिनेट में ग्राम रोजगार सेवकों के वेतन में बढ़ोतरी की गई है, लेकिन 22 अप्रैल को उच्च न्यायालय हिमाचल प्रदेश द्वारा पंचायत सहायकों को नियमित किए जाने की प्रक्रिया के दिए गए निर्देशों को सरकार ने मानने से साफ इनकार कर दिया है। प्रदेश सरकार ने पंचायत सहायकों के लिए कैबिनेट में कोई भी अच्छी खबर नहीं दी है। हाई कोर्ट के निर्देशों के बाद नियमितीकरण की प्रक्रिया शुरू किए जाने की राह देख […] विस्तृत....

May 29th, 2015

 

मसरूर में सर्वे ही हुए, विकास नहीं

नगरोटा सूरियां — विकास खंड नगरोटा सूरियां के तहत लंज क्षेत्र की सीमा के साथ लगते मसरूर गांव को, जबसे राज्यसभा सांसद विप्लव ठाकुर ने गोद लिया है, तब से लोगों में कुछ आस जगी थी कि कुछ विकास होगा, लेकिन चार महीने होने के बाद भी धरातल पर कुछ नहीं हुआ है। आज भी इस गांव में सिर्फ सर्वे होने के सिवाय कुछ नहीं किया गया। क्रांति युवक मंडल के प्रधान सुनील कुमार, नेहरू युवा केंद्र से आई रचना […] विस्तृत....

May 29th, 2015

 
Page 1 of 212

पोल

क्या धर्मशाला के कथित गैंगरेप केस पर पर्दा डाला गया?

  • हां (73%, 462 Votes)
  • नहीं (14%, 89 Votes)
  • पता नहीं (13%, 71 Votes)

Total Voters: 632

Loading ... Loading ...