कांगड़ा


न पार्किंग; न पानी, यह है जसूर मंडी की कहानी

नूरपुर— आढ़तियों के पास कारोबार करने का समय बेहद कम होता है, लिहाजा इस थोड़े समय में उन्हें पूरी तरह सजग रहना पड़ता है। नूरपुर क्षेत्र की अग्रणी सब्जी मंडी जसूर में फल-सब्जी बेचने का धंधा सुबह करीब पांच बजे शुरू हो जाता है, जो कि नौ बजे तक चलता है और इन दिनों खीरे का सीजन होने के कारण यह सब्जी मंडी दोपहर दो से शाम पांच बजे तक भी चलती है। जिला कांगड़ा की अग्रणी सब्जी मंडी में शुमार सब्जी मंडी जसूर-नूरपुर क्षेत्र की प्रसिद्ध सब्जी मंडी है। यहां नूरपुर, इंदौरा, फतेहपुर, जवाली, शाहपुर व चुवाड़ी हलकों से लोग अपने फल व सब्जियां बेचने आते हैं, जिससे इस सब्जी मंडी में खूब रौनक रहती है। इस सब्जी मंडी में ज्यादातर फल व सब्जियां पंजाब तथा अन्य राज्यों से आती हैं और स्थानीय क्षेत्रों से भी सब्जियां आती हैं। इन दिनों स्थानीय किसान सब्जियां, जिसमें भिंडी, पंडोल, लौकी, घीया आदि समेत खीरा भारी मात्रा में ला रहे हैं, जिससे इस मंडी में दिन में दो बार मंडी लगती है। मौजूदा समय में इस सब्जी मंडी में कुल्लू व चंबा आदि क्षेत्रों से सेब आ रहा है तथा कुल्लू इलाके से सेब के अलावा नाशपाती, टमाटर, फूलगोभी, पत्तागोभी व अन्य मौसमी सब्जियां भी यहां पहुंच रही हैं। इस सब्जी मंडी में स्थानीय क्षेत्रों नूरपुर, सुल्याली, गनोह, वरंडा, गुडा, सुखार, राजा का तालाब, फतेहपुर, बडूखर व इंदौरा आदि के किसान भी अपनी सब्जियां यहां बेच रहे हैं। यहां माल पहुंचने का सिलसिला देर रात शुरू हो जाता है, जो कि सुबह तक चलता रहता है। तड़के पहले माल उतार लिया जाता है और फिर उसे बिक्री के लिए सजा दिया जाता है। सब्जी मंडी की मुनियाद जनवरी, 1983 में रखी थी, जिसके कुछ समय बाद इसने कार्य करना शुरू कर दिया था। यहां के आढ़ती बडे़ मेहनती व लंबे समय से कार्यरत हैं। यहां के आढ़ती बताते हैं कि पहले यहां ज्यादातर सब्जी पंजाब राज्य की मंडियों से आती थी, परंतु अब स्थानीय क्षेत्रों से किसान भारी मात्रा में सब्जियां यहां लाते हैं, जिससे इस मंडी में स्थानीय सब्जियों की आमद बढ़ी है। नेशनल हाई-वे के किनारे बनी इस सब्जी मंडी में आने व जाने के लिए दो गेट हैं, परंतु संबंधित विभाग द्वारा यहां आने वाले वाहनों पर दस रुपए अंदर आने की फीस रखी है, जो कि वेबजह है, जिससे कारोबार प्रभावित हो रहा है, जबकि संबंधित विभाग यहां पार्किंग की सुविधा देने में असफल रहा है। जिला आढ़ती एसोसिएशन के उपाध्यक्ष रविंद्र गौतम का कहना है कि इस सब्जी मंडी में स्ट्रीट लाइट लगाई जाए, ताकि ग्राहकों को पूरी रोशनी मिले। किसान सरदारी लाल ने बताया कि यहां किसानों के ठहरने की व्यवस्था की जाए और किसानों व बाहर से आए हुए खरीददारों के ठहरने के लिए एक रेस्ट हाउस बनाया जाए। आढ़ती विशाल महाजन का कहना है कि व्यापारियों व यहां आने वाले लोगों के लिए पर्याप्त सुविधाएं उपलब्ध हो तथा स्ट्रीट लाइट लगाई जाए। आढ़ती तिलक राज ने कहा कि यहां पीने के पानी की उचित व्यवस्था की जाए और पार्किंग की व्यवस्था भी उपलब्ध करवाई जाए। आढ़ती मंजीत कुमार ने कहा कि यहां बाहर से आए व्यापारियों के ठहरने की व्यवस्था की जाए व मंडी में आने के लिए वाहनों से ली जा रही एंट्री फीस बंद हो। यहां आने वाले कई किसानों व व्यापारियों ने बताया कि इस मंडी में आने वाले वाहनों से दस रुपए की फीस ली जाती है, जबकि यहां पार्किंग की कोई व्यवस्था नहीं है। इस सब्जी मंडी में शौचालय की व्यवस्था न होने से यहां आने वाले लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। यहां ठहरने के लिए कोई रेस्ट हाउस की व्यवस्था भी नहीं है। इस सब्जी मंडी में पंजाब व हरियाणा राज्यों से खीरा खरीदने के लिए आए हुए व्यापारी भूरा, मोहम्मद गुलजार, देसराज व बबू आदि ने बताया कि उन्हें यहां ठहरने की सुविधा नहीं मिल पाई और न ही यहां शौचालय की सुविधा है, जिससे उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इस सब्जी मंडी में करीब 400 लोगों ने परोक्ष व अपरोक्ष रूप से रोजगार दिया है, जबकि नूरपुर, इंदौरा, फतेहपुर, जवाली, शाहपुर व चुवाड़ी आदि क्षेत्रों से करीब 30 से 40 हजार लोगों को इस सब्जी मंडी का फायदा है, जो यहां अपने फल व सब्जियां बेचते हैं।  इस सब्जी मंडी में पठानकोट समेत पंजाब राज्य की विभिन्न मंडियों से यहां फल व सब्जियां आती हैं, जबकि प्रदेश के कुल्लू व चंबा समेत विभिन्न स्थानों से फल तथा सब्जियां आती हैं और नूरपुर क्षेत्र के गनोह, सुखार, गुडा, फतेहपुर, बडूखर, वरंडा, गंगथ, इंदौरा, राजा का तालाब सहित विभिन्न स्थानों से यहां स्थानीय सब्जियां आती हैं। खासकर इन दिनों यहां खीरे का सीजन चला है, जिससे यह मंडी दिन में दो बार चलती है। लोगों ने इस सब्जी मंडी में पर्याप्त सुविधाएं देने की मांग की है, ताकि यह मंडी और ज्यादा प्रगति कर सके तथा इसका लोगों को और ज्यादा फायदा मिले।

August 21st, 2014

 
 

दरवाजे तोड़ लाखों का सामान ले उड़े चोर

बैजनाथ—जिला कांगड़ा की अति दुर्गम घाटी एवं उपमंडल की दुर्गम पंचायत बड़ा भंगाल में बने वन विभाग के विश्राम गृह से चोर सारा सामान ले उड़े। विश्राम गृह का ऊपर वाला ही रखवाला है, क्योंकि वहां पर न तो विभाग का वनरक्षक है और न ही ब्लॉक अधिकारी जाता है। उस विश्राम गृह में दरवाजे तोड़कर रखा सामान कंबल, चादर, क्रॉकरी, बरतन व अन्य सामान कब चोरी हुए, किसी को कानोंकान खबर नहीं। इस बारे बड़ा भंगाल पंचायत के प्रधान […] विस्तृत....

August 21st, 2014

 

वेरिफिकेशन के बहाने ठगी

धर्मशाला— प्रदेश के सरकारी अधिकारी से बैंक वेरिफिकेशन के बहाने ठगों के गिरोह ने हजारों रुपए का चूना लगा दिया है। बुधवार की सुबह अननाउन नंबर से फोन कर सिक्रेट एटीएम कोड की जानकारी प्राप्त कर 43 हजार 300 रुपए एटीएम से गायब कर एटीएम को खाली कर दिया है, जिससे क्षेत्र में सरकारी अधिकारी को ठगने पर सनसनी फैल गई है। इस संबंध में सरकारी अधिकारी ने पुलिस थाना धर्मशाला में शिकायत दर्ज करवा दी है। मिली जानकारी के […] विस्तृत....

August 21st, 2014

 

छात्रा से छेड़छाड़ के आरोपी हिरासत में

जवाली— पुलिस थाना जवाली के अंतर्गत पुलिस चौकी कोटला में स्कूली छात्रा ने तीन युवकों के खिलाफ अश्लील हरकतें व छेड़छाड़ करने का मामला दर्ज करवाया है। स्कूली छात्रा सुनीता (काल्पनिक नाम) ने मंगलवार को सायंकालीन मामला दर्ज करवाया कि वह स्कूल से बस के माध्यम से अपने घर को जा रही थी, तो तीन युवकों बलबीर कुमार, चुन्नी लाल व अशोक कुमार ने उसके साथ अश्लील हरकतें व छेड़छाड़ की। शिकायतकर्ता ने बताया है कि वह स्कूल से बस […] विस्तृत....

August 21st, 2014

 

सेहत पर भारी पड़ने लगे तबादले

धर्मशाला — क्षेत्रीय अस्पताल धर्मशाला पर डाक्टरों के तबादले भारी पड़ रहे हैं। स्थानीय लोगों सहित छात्रों, कर्मचारियों व सैलानियों से भरे रहने वाले इस अस्पताल में हर दिन 100 से 200 मरीजों की ओपीडी सामान्य तौर पर रहती है। ऐसे में विशेषज्ञ डाक्टरों की कमी होने से मरीज को वापस लौटना पड़ रहा है। गायनी विभाग पहले ही डा. कल्पना नेगी के सहारे चल रहा है। लंबे समय से वहां अतिरिक्त डाक्टर मिलने का इंतजार किया जा रहा है। […] विस्तृत....

August 21st, 2014

 

धरोहर गांव आएं, पर गाड़ी साथ न लाएं

गरली— धरोहर गांव के दीदार को लंबा इंतजार हो रहा है। गरली आने के लिए सैलानियों को यहां की तंग गलियों के बीच ट्रैफिक जाम जैसी दिक्कत से दो चार होना पड़ता है और अगर आप विश्व के पहले धरोहर गांव में पहुंच भी जाते हैं तो वहां गाड़ी की पार्किंग के लिए परेशान होना पड़ता है। गरली के धरोहरों को नजदीक से निहारने के लिए आने वाले सैलानियों को बदहाल व्यवस्था के कारण भारी परेशानी का झेलनी पड़ती है। […] विस्तृत....

August 21st, 2014

 

धर्मशाला के चौराहे होंगे चकाचक

धर्मशाला — धर्मशाला शहर के चौराहों को संवारने की कवायद आखिर शुरू हो गई है। जिला न्यायालय, अस्पताल, पुलिस थाना व मुख्य डाकघर सहित प्रमुख कार्यालयों के साथ सटे रामनगर-शामनगर रोड पर बने चौक को खुला कर सुविधाजनक बनाने का काम जल्द शुरू होगा। करीब दस लाख से अधिक राशि खर्च कर इस चौक पर वाहनों को आने-जाने के लिए अब दो तरफ से जोड़ा जाएगा। इतना ही नहीं, रामनगर की ओर जाने वाली सड़क को भी मुख्य सड़क के […] विस्तृत....

August 21st, 2014

 

रविंद्र ने लिखा सात हजार मीटर लंबा पत्र

 पंचरुखी— इनसान में ऐसे अजब शौक होते हैं कि वह अपने शौक के जुनून में कुछ भी कर गुजरने को उत्सुक रहता है। ऐसा ही शौक रजोट (रक्कड़) निवासी रविंद्र शर्मा पुत्र रमेश चंद को भी है। बचपन से अपना नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज करवाने की चाहत लिए रविंद्र ने आखिरकार विश्व का सबसे लंबा खत लिखने का दावा किया है। यहां उल्लेखनीय है कि रविंद्र कई बार अपने इस अनोखे रिकार्ड के विषय में गिनीज […] विस्तृत....

August 21st, 2014

 

सिर्फ नाम का ही धर्मशाला बस स्टैंड

धर्मशाला—धर्मशाला में यात्री परिवहन का उचित इंतजाम न होना सबसे बड़ी समस्या बन गई है। प्रयाप्त भूमि व संसाधन होने के बावजूद धर्मशाला में न तो सही बस स्टैंड है, न टेक्सी स्टैंड और न ही पार्किंग की उचित व्यवस्था है, जिसके चलते देश-विदेश से आने वाले पर्यटकों सहित स्थानीय लोगों को अकसर परेशान होना पड़ता है। आलम यह है कि धर्मशाला में अलग-अलग स्थानों पर करीब आधा दर्जन टेक्सी स्टैंड सड़कों के किनारे ही चल रहे हैं। अव्यवस्था से […] विस्तृत....

August 21st, 2014

 

15 दिन से पानी नहीं

पंचरुखी— आईपीएच विभाग पंचरुखी के सहायक अभिंयता ने बड़कारी-मछुई के बाशिंदों की पेयजल समस्या के समाधान का आश्वासन दिया है। उक्त गांव का एक प्रतिनिधि मंडल आईपीएच विभाग के सहायक अभियंता से मिला व उक्त गांव में 15 दिनों से पेयजल की सप्लाई ठप होने पर हो रही दिक्कतोें को अवगत करवाया व समस्या के समाधान का आग्रह किया। सहायक अभियंता ने विभागीय कर्मचारियों को दो दिन में व्यवस्था सुचारू करने व रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए हैं। विवित रहे […] विस्तृत....

August 21st, 2014

 
Page 1 of 212

पोल

क्या आम आदमी पार्टी का अस्तित्व खत्म हो गया है?

View Results

Loading ... Loading ...