himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

जरा याद करो कुर्बानी

(प्रताप सिंह पटियाल, बिलासपुर) यदि राष्ट्रभक्ति की बात की जाए, तो पहला नाम भारतीय सैनिकों का ही आना चाहिए, जिन्होंने देश की रक्षा के लिए जान न्योछावर करके बहादुरी की मिसालें पेश की हैं। इनमें से एक वीरगाथा 16 दिसंबर, 1971 को भारतीय सेना ने…

संसद में हल्ले के आसार

(राजेश कुमार चौहान, जालंधर) इस बार के भी संसद के शीतकालीन सत्र पर हंगामे और हो-हल्ले के बादल छा सकते हैं। संसद ऐसा गरिमापूर्ण स्थान है, जहां से देश की आम जनता को सांसदों से कल्याणकारी फैसलों की उम्मीद होती है। अफसोस यह कि देश की संसद में…

सीबीआई की परीक्षा

(ध्रुव, पुराना मटौर,कांगड़ा) कोटखाई प्रकरण की जांच में हर परीक्षा सीबीआई ही क्यों दे? जिन पुलिस वालों को मामले से जुड़ी जानकारी है, उन्होंने अब तक चुप्पी साधी हुई है। उन्होंने अपने जमीर को इस हद तक बेच दिया कि अभी तक मुंह नहीं खोला। अगर वे…

बेलगाम जुबान

(पुष्पांकर पीयूष, केंद्रीय विश्वविद्यालय, धर्मशाला) कुछ दिनों पहले कांग्रेस के एक पूर्व नेता मणिशंकर अय्यर द्वारा प्रधानमंत्री के लिए कुछ असभ्य शब्दों का इस्तेमाल किया। यह उनकी ओछी राजनीति को दर्शाता है, परंतु आज के दौर के राजनीति के…

वृहद् हिमालय की सांस्कृतिक महत्ता

(अंकित कुंवर, नई दिल्ली) ‘हिमालय का सांस्कृतिक अवदान’ शीर्षक से लिखे लेख में कुलभूषण उपमन्यु ने हिमालय को सांस्कृतिक संरचना का मूलभूत केंद्र बताया है। हिमालय की वादियों में भारतीय संस्कृति का उद्भव हुआ। भारत के प्राचीन ग्रंथों की रचना…

डूबे हैं अब फिक्र में

(सुशील भारती, नित्थर, कुल्लू) रातें तड़प-तड़प कटीं, थे दिन को बेचैन, बोतल-बकरे खरीदे, रखी अराजी रहन। परिंदों की तो है जाति, तीतर आध बटेर, उसी ओर घूरते सब, हो जाता जो ढेर। धड़के दिल चुनावों में, किसका होगा ताज, इश्क में धड़के दिल कहां, जैसे…

संकट में भारतीय भाषाएं

ईशानी सेन, केंद्रीय विश्वविद्यालय, धर्मशाला भारत में करीब 780 भाषाएं अस्तित्व में रही हैं। इनमें से लगभग 220 भाषाएं अब तक खत्म हो चुकी हैं। इसके अलावा देश में 197 भाषाएं लुप्त होने की कगार पर हैं। लोग अपनी संस्कृति को छोड़कर पाश्चात्य…

रामसेतु की अमरीकी पुष्टि

अमित पडियार (ई-मेल के मार्फत) भारत और श्रीलंका के बीच स्थित प्राचीन रामसेतु असल में मानव निर्मित है, यह बात अब अमरीकी वैज्ञानिकों ने मानी है। एक अमरीकी विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने अपने शोध में इसे सच पाया है। अफसोस की बात यह है कि जो…

अश्लीलता को बढ़ावा

जयेश राणे, मुंबई, महाराष्ट्र देश में विकास के मामले में सबसे पिछड़े क्षेत्र लिट्टीपाडा के डुमरिया मेला में विधायक साइमन मरांडी ने ‘चुंबन प्रतियोगिता’ का आयोजन किया। जिस विधायक ने ऐसी प्रतियोगिता का आयोजन किया उसकी सोच कितनी गिरी हुई रही…

जल-नमयान

डा. सत्येंद्र शर्मा, चिंबलहार, पालमपुर चीर रहे थे जल अभी, भेद लिया आकाश, मुखिया उड़े विकास को, हुआ विपक्ष हताश। हुआ विपक्ष हताश, बोलती बंद हो गई, हड्डी वाली सख्त जीभ, अब कहां खो गई? जनसेवक मुस्करा रहे, बोल रहा है काम, अब विपक्ष के सामने,…

क्यों पागल हुआ इनसान

डा. सत्येंद्र शर्मा, चिंबलहार, पालमपुर अब हरियाणा में हुआ, वह पागल इनसान, मुंह से लार टपक रही, काट न ले हैवान। क्यों अबोध का रक्त पीना, अब बना रिवाज, मासूमों पर नित्य प्रति, गिरती है क्यों गाज। कन्याओं का प्रांत में, है चंहुओर अकाल, हत्या…

सब जुड़ें सफाई अभियान से

कामिनी, धर्मशाला, कांगड़ा 2019 तक महात्मा गांधी के सपनों का स्वच्छ भारत बनाने के लक्ष्य से दो अक्तूबर, 2014 को स्वच्छ भारत अभियान शुरू किया गया था। महात्मा गांधी जी ने भारत को एक स्वच्छ भारत बनाने का सपना देखा और उसे साकार करने के लिए…

डरो मत, धाकड़ बनो

मनीषा चंदराणा (ईमेल द्वारा) दंगल गर्ल अभिनेत्री जायरा वसीम से दिल्ली. मुंबई विमान में उनके साथ यात्रा कर रहे व्यक्ति ने छेड़छाड़ की। महिला चाहे वह अभिनेत्री हो, छात्रा हो, आफिस वर्कर या गृहिणी हो, उनसे छेड़छाड़ करने वाले बुरे तत्त्व हर जगह…

राजनीति में सोशल मीडिया

ईशानी सेन , केंद्रीय विश्वविद्यालय, धर्मशाला आज का समय नई बुलंदियों पर आ पहुंचा है । जिस में  सोशल मीडिया का बहुत बड़ा योगदान है। जिस सूचना के बारे किसी मीडिया हाउस को या समाचार एजेंसी को मालूम न हो । वह सूचना सोशल मीडिया के जरिए सभी तक…

खाद्य सुरक्षा में सतर्कता

 मानसी जोशी (ईमेल द्वारा) खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण द्वारा खाद्य सुरक्षा मानकों और नियमों के उल्लंघन के लिए खाद्य व्यापार संचालकों पर दर्ज मामलों को रद्द करने का दिया आदेश उचित नहीं है। नियमों के उल्लंघन के लिए उन्हें माफ  करना ही था,…
?>