बिलासपुर


आय-व्यय का ब्यौरा मांगा

 बिलासपुर  — राज्य स्तरीय नलवाड़ी मेला संपन्न हुए एक माह बीत हो चुका है, लेकिन प्रशासन अभी तक मेले के आय-व्यय का ब्यौरा देने में नाकाम रहा है। ऐसे में कई सामाजिक संस्थाआें ने भी जिला प्रशासन के इस रवैये पर कई सवालिया निशान खड़े कर दिए हैं। संस्थाआें ने प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोलने को चेताया है। संस्थाआें ने आरोप लगाया है कि जनता का मेला जनता के लिए आयोजित होता है, लेकिन मेले की रूपरेखा को तय करने को जनता से प्रशासन सुझाव तक लेना जरूरी नहीं समझता। पिछले वर्ष जिला प्रशासन ने 15 मार्च, 2013 को मीडिया के माध्यम से जनता के सामने इस ब्यौरे को सार्वजनिक करने की बात कही थी, लेकिन उसके बाद दूसरे वर्ष का भी नलवाड़ी मेला एक महीने से भी ज्यादा समय हो गया है। अभी तक भी प्रशासन ने पिछले मेले के  आयोजन को लेकर कोई हिसाब देने में आनाकानी कर रहा है। इससे यह प्रतीत होता है कि कहीं राज्य स्तरीय मेले के आयोजन को लेकर कहीं कोई धांधली तो नहीं हुई। संस्थाओं का कहना है कि प्रशासन के इस रवैये को लेकर मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से शिकायत की जाएगी। जिला प्रशासन जो मेले को लेकर पैसे का दुरुपयोग किया है, उसमें कड़ी कार्रवाई की मांग की जाएगी। विश्व मानव कल्याण संस्थान के अध्यक्ष डा. टीपी पांडेय, समर्पण सामाजिक संस्था के प्रधान राज वर्मा, ब्यास सिविल सोसायटी के सुरेंद्र गुप्ता का कहना है कि जनता का पैसे को उनकी सुविधाओं व रुचि के मुताबिक नहीं व्यय किया जाता। प्रशासन मनोरंजन के लिए बाहर से आने वाले बड़े कलाकार, हिमाचली कलाकार आदि पर भारी-भरकम रकम खर्च करता है, लेकिन इसमें भी पारदर्शिता और नियमों को दरकिनार किया जाता है। मेले के आयोजन को लेकर प्रशासन टेंडर प्रक्रिया को सही मायनों में पूरा नहीं करता है। टेंडर  लगाए तो जाते हैं, लेकिन इनकी सूचना लोगों तक नहीं पहुंच पाती है। जब मेला आयोजन समिति के अध्यक्ष व उपायुक्त डा. अजय शर्मा ने बात की गई तो उन्होंने कहा कि आपको लोक संपर्क विभाग ही बेहतर बता सकता है। सभी खबरें उन्हीं के माध्यम से मीडिया को दी जाती हैं। जब इस बारे में सदर के विधायक बंबर ठाकुर से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि लोकसभा चुनाव के चलते व्यस्त हूं। मेले का आय-व्यय का ब्यौरा जल्द ही प्रशासन से लिया जाएगा। अगर उसमें कोई अनियमितता पाई गई तो उस अधिकारी के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई के लिए सरकार से अनुरोध किया जाएगा।

April 23rd, 2014

 
 

पोल

Which party will win more Lok Sabha seats in Himachal ?

View Results

Loading ... Loading ...