Divya Himachal Logo Jun 29th, 2017

विचार


बड़ी ताकतों का मिलन

(वर्षा शर्मा, पालमपुर )

अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हाल में हुई मुलाकात दोनों देशों के रिश्तों के हिसाब से बेहद महत्त्वपूर्ण मानी जा सकती है। ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यह पहली अमरीका यात्रा थी। लंबे वक्त से इस मुलाकात का दोनों ही देशों में बड़ी बेसब्री के साथ इंतजार किया जा रहा था। अमरीका इस समय विश्व की सबसे बड़ी ताकत है और भारत इस समय सबसे अधिक तेजी से आगे बढ़ने वाली अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। ऐसे में न केवल भारत और अमरीका, बल्कि दूसरे देशों की भी इस मुलाकात पर नजरें थीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस यात्रा का मकसद पूरी तरह द्विपक्षीय मुद्दों पर बात करना था, लेकिन इसके साथ-साथ उन्होंने पाकिस्तान की आतंक परस्त नीति और चीन की विस्तारवादी नीति को कोसने का भी कोई मौका हाथ से नहीं जाने दिया। दोनों ही नेता इस मुलाकात के लिए उत्सुक थे और इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि व्हाइट हाउस में मोदी और ट्रंप की बातचीत बीस मिनट तय थी, पर वह अंततः पैंतीस मिनट तक चली। इससे दोनों पक्षों की बढ़ी हुई दिलचस्पी का ही संकेत मिलता है। हालांकि पिछले कुछ समय से ट्रंप प्रशासन ने कुछ ऐसे कदम उठाए या अब उठाने की तैयारी में थे, जिससे भारत की मुश्किलें बढ़ सकती थीं। ऐसे में यह और भी जरूरी था कि मोदी इस संभावित खतरे को टालने के लिए अपने स्तर पर प्रयास करते और अब पहली ही मुलाकात में चीजों को व्यवस्थित करने की कोशिश भी की है। उम्मीद की जानी चाहिए कि अपनी पहली मुलाकात में दोनों नेता जिस गर्मजोशी के साथ मिले, आपसी संबंध भी उसी मिजाज के साथ मजबूत होंगे।

भारत मैट्रीमोनी पर अपना सही संगी चुनें – निःशुल्क रजिस्टर करें !

June 29th, 2017

 
 

डिपो होल्डरों का कमीशन बढ़े

(सुशील कतना, कंजयाण ) बड़े हर्ष का विषय है कि प्रदेश सरकार लोगों को महंगाई के इस दौर में भी सस्ता राशन मुहैया करवा रही है। समय-समय पर लोगों को चीनी, आटा, चावल, दालें मिल रही हैं, परंतु इन वस्तुओं की बिक्री करने पर जो […] विस्तृत....

June 29th, 2017

 

पहले बताओ तो सही! जीएसटी है क्या

हिमाचली कारोबार में आजकल एक ही नाम की चर्चा है – जीएसटी। जीएसटी का सीधा सा मतलब है एक देश एक ही कर। इसके बारे में ज्यादा न तो कारोबारियों को पता है और न अधिकारी बताते हैं। स्थिति स्पष्ट नहीं है। व्यापारियों को जीएसटी […] विस्तृत....

June 29th, 2017

 

पत्थरबाजों की खैर नहीं

(सूबेदार मेजर (से.नि.) केसी शर्मा, गगल ) जम्मू-कश्मीर में पिछले कुछ समय से सेना पर पत्थर फेंकने की अजीबो गरीब और घिनौनी सी परंपरा बन चुकी है। हैरानी होती है देखकर कि जो सैनिक जम्मू-कश्मीर समेत पूरे देश की आबादी की रक्षा के लिए तैनात […] विस्तृत....

June 29th, 2017

 

जीएसटी…प्रोफिट कम, टेंशन ज्यादा

पहली जुलाई से देश भर में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू करने जा रही केंद्र सरकार बेशक इसके लिए तैयार हो, लेकिन व्यापारी वर्ग इसके लिए बिलकुल तैयार नजर नहीं आ रहा है। मजेदार बात यह है कि जीएसटी को लेकर फैली भ्रांतियों को […] विस्तृत....

June 29th, 2017

 

जीएसटी…टेंशन, टेंशन और सिर्फ टेंशन

पहली जुलाई से देश भर में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू करने जा रही केंद्र सरकार बेशक इसके लिए तैयार हो, लेकिन व्यापारी वर्ग इसके लिए बिलकुल तैयार नजर नहीं आ रहा है। मजेदार बात यह है कि जीएसटी को लेकर फैली भ्रांतियों को […] विस्तृत....

June 29th, 2017

 

जीएसटीः जनाब! पता तो चले है क्या

हिमाचली कारोबार में आजकल एक ही नाम की चर्चा है – जीएसटी। जीएसटी का सीधा सा मतलब है एक ही कर। इसके बारे में ज्यादा न तो कारोबारियों को पता है और न अधिकारी बताते हैं। स्थिति स्पष्ट नहीं है। व्यापारियों को जीएसटी नंबर भी […] विस्तृत....

June 29th, 2017

 

व्यापारी कंफ्यूज… जीएसटी है क्या बला

हिमाचली कारोबार में आजकल एक ही नाम की चर्चा है – जीएसटी। जीएसटी का सीधा सा मतलब है एक ही कर। इसके बारे में ज्यादा न तो कारोबारियों को पता है और न अधिकारी बताते हैं। स्थिति स्पष्ट नहीं है। व्यापारियों को जीएसटी नंबर भी […] विस्तृत....

June 29th, 2017

 

पहले बताओ तो सही! जीएसटी है क्या

हिमाचली कारोबार में आजकल एक ही नाम की चर्चा है – जीएसटी। जीएसटी का सीधा सा मतलब है एक देश एक ही कर। इसके बारे में ज्यादा न तो कारोबारियों को पता है और न अधिकारी बताते हैं। स्थिति स्पष्ट नहीं है। व्यापारियों को जीएसटी […] विस्तृत....

June 29th, 2017

 

हिमाचली तोहफों का पैकेज

अचानक हिमाचल अंतरराष्ट्रीय सुर्खियों में आया, तो तोहफों के इस पैकेज के अन्वेषण, जिज्ञासा और चर्चा में कुछ अतिरिक्त भी रेखांकित होगा। यह दीगर है कि अमरीकी व्हाइट हाउस की चाय-प्याली में हम कांगड़ा का रंग, मैडम ट्रंप की कलाई में मंडी का ब्रेसलेट, कुल्लू […] विस्तृत....

June 29th, 2017

 
Page 1 of 2,10412345...102030...Last »

पोल

क्रिकेट विवाद के लिए कौन जिम्मेदार है?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates