हमारी भयावह स्वतंत्रता

स्वामी रामस्वरूप योगाचार्य, वेद मंदिर, योल नव मास, नववर्ष, नवनिर्माण, नवशती, जन्मदिवस, विवाह दिवस इत्यादि अनेक उल्लास एवं हर्ष जनित दिवसों से भी कहीं अधिक 15 अगस्त, 1947 का दिन स्वतंत्रता दिवस हम सभी भारतीयों के लिए विशेष महत्त्वपूर्ण…

संदेह के घेरे में पुलिस

जयेश राणे, मुंबई सनातन संस्था का नाम बम के विषय को लेकर देश में सुर्खियों में आ रहा है। बरामद हुए बमों को लेकर मन में सवाल है और उनके उत्तर नहीं मिल रहे हैं। यह सवाल पुलिस ने कार्रवाई में जो चीजें अपनी हिरासत में ली हैं, उन्हें मीडिया के…

पहाड़ न बने जान का दुश्मन

राजेश कुमार चौहान हिमाचल में बरसात के मौसम में पहाड़ जान के दुश्मन बन जाते हैं, लेकिन प्रशासन और सरकार इसके लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाते। बस हर हादसे के बाद कुंभकर्णी नींद से जागते हैं। सतर्कता और समझदारी से पहाड़ों के खिसकने वाले हादसे कुछ…

सेल्फी पर फाइन लगाओ

पूजा चोपड़ा, मटौर कितनी बार विभाग ने अलर्ट किया, लेकिन लोगों पर कोई फर्क नहीं पड़ता। एक तो बरसात का मौसम और ऊपर से लोग पानी किनारे सेल्फी लेकर मौत को दावत दे रहे हैं। इसमें विभाग और अन्य लोग भी क्या करें, जब लोगों को स्वयं अपनी जान की…

71 साल से चले आ रहे नीरस रिश्ते

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं मैं आशा करता हूं कि सीमा पर नरमी होगी तथा स्थिति शांत हो जाएगी ताकि दोनों देशों के बीच शत्रुता को खत्म किया जा सके। मैं उस बस में था, जिसे अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में लाहौर के लिए चलाया गया…

गरीब गुरबत से निकले… यही असली आजादी

 देश की आजादी के बाद भले ही भारत वर्ष अन्य देशों की तर्ज पर विकास की दिशा में आगे बढ़ा हो, परंतु देश के युवाओं को आजादी के 69 वर्ष बाद अभी भी देश व प्रदेश की सरकारों से उनके विचारों के अनुसार सुविधाएं नहीं मिल रही हैं। अभी भी देश का युवा…

गोरों से आजादी मिली…गरीबी से अभी बाकी

इस वर्ष 15 अगस्त को देश जहां 72वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। देश अंग्रेजों की गुलामी से तो आजाद हो गया, लेकिन अभी भी देश राजनीतिक द्वेष, जातपात, भ्रष्टाचार, धर्म की जंजीरों में जकड़ा हुआ है। हिमाचल में युवाओं के लिए आजादी के क्या मायनें…

पुलिस की नाकामी

मानसी जोशी मुंबई आतंकवाद विरोधी दस्ते ने शहर में की कार्रवाई में एक घर से 8 देसी बम बरामद किए हैं। समाचारों से पता चला है कि जिस घर से यह सामान मिला है, वह सनातन संस्था का कार्यकर्ता है, परंतु सनातन संस्था के वकील का कहना है कि इन बरामद…

शिक्षा में हिमाचली युवा

प्रदेश के इंजीनियरिंग कालेजों का सूखा बताता है कि पहाड़ का नौजवान अब इस करियर में रुचि नहीं रखता है। दूसरी ओर... मेडिकल कालेजों में सालाना 700 नए डाक्टरों का तैयार होना दर्शाता है कि मेडिकल लाइन ही राइट च्वाइस है। रैंकिंग की जाए तो इसके बाद…

फर्जी एजेंटों से नहीं निपट रही सरकार

सुखदेव सिंह (नूरपुर) बढ़ती बेरोजगारी किसी अभिशाप से कम नहीं है। शिक्षित बेरोजगार आजकल बेरोजगारी की चक्की में पिस कर आहत हैं। शिक्षा अपने मूल उद्देश्यों पर खरा नहीं उतर पा रही है। नतीजन हर साल युवा डिग्रियां हासिल करके सिवाय घर बैठने के कुछ…

गरीब गुरबत से निकले… वही असली जश्न-ए-आजादी

आजादी किसे अच्छी नहीं लगती। हम सभी खुली हवा में मर्जी से रहना चाहते हैं। आज हम आजाद देश के नागरिक हैं। हमें मर्जी से रहने,खाने,पहनने का अधिकार है। बरस 1947 से पहले ऐसा नहीं था। कड़े  संघर्ष के बाद मिली आजादी के हमारे लिए क्या मायने हैं।…

श्रद्धा-श्रद्धालु के प्रति जवाबदेही

आस्था की आय और मंदिर के व्यय का हिसाब अगर आंका जाए, तो हिमाचल के लिए यह आर्थिकी का नया प्रसाद है। माननीय हाई कोर्ट ने मंदिरों में आस्था का दानपात्र टटोलते हुए जो प्रश्न पूछे हैं, उनकी गहराई में जाना होगा। यह पहला अवसर है जब श्रद्धा से…

गरीब गुरबत से निकले… वही असली जश्न-ए-आजादी

आजादी किसे अच्छी नहीं लगती। हम सभी खुली हवा में मर्जी से रहना चाहते हैं। आज हम आजाद देश के नागरिक हैं। हमें मर्जी से रहने,खाने,पहनने का अधिकार है। बरस 1947 से पहले ऐसा नहीं था। कड़े संघर्ष के बाद मिली आजादी के हमारे लिए क्या मायने हैं।…

‘राम’ का नाम बदनाम न करो

संसद का मानसून सत्र समाप्त हो गया। दोनों सदन अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिए गए हैं। दो संसदीय सत्रों के बीच यह एक तकनीकी परंपरा है। घोर विवादास्पद ‘तीन तलाक’ बिल के पारित होने की उम्मीद थी, लेकिन उसे पेश तक नहीं किया जा सका। अब शीतकालीन…

सरकारी प्रश्रय की आस में फोटो गैलरी

सुरेंद्र शर्मा लेखक, सुंदरनगर से हैं यह फोटो गैलरी पिछले दो दशकों से सरकारी प्रश्रय मांग रही है, परंतु भागीरथी प्रयास को दुलार की एक लोरी भी नसीब नहीं हुई। मुख्यमंत्री, राज्यपाल के अलावा कई नामचीन हस्तियां फोटो गैलरी को निहार चुकी हैं,…