himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

नहीं रहे कलम के सिपाही सकलानी

पत्रकार-पर्यावरण प्रेमी के निधन पर समाज गमगीन, घर पर ली अंतिम सांस

newsधर्मपुर— मंडी जिला के वरिष्ठ पत्रकार, समाजसेवी और पर्यावरण डीआर सकलानी का निधन हो गया है। उन्होंने शुक्रवार की रात सरकाघाट स्थित अपने गांव सरी में अपने घर पर अंतिम सांस ली। 74 वर्षीय डीआर सकलानी एक वर्ष से बीमार चले हुए थे। हालांकि कुछ समय से उनकी तबीयत में सुधार भी आया था, लेकिन शुक्रवार की रात्रि 12 बजे के लगभग उनका अचानक देहांत हो गया। अग्रणी समाचार पत्र दिव्य हिमाचल के सीएमडी भानु धमीजा , प्रधान संपादक अनिल सोनी  व समस्त परिवार ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है। स्वर्गीय सकलानी जीवन पर्यंत समाजसेवा, पर्यावरण सरंक्षण और पत्रकारिता से जुड़कर लोगों की सेवा करते रहे। पिछले दो दशकों से डीआर सकलानी ‘दिव्य हिमाचल’ के साथ सरकाघाट उपमंडल से पत्रकारिता कर रहे थे। उनके देहांत के सरकाघाट उपमंडल में उनके चाहने वालों व समस्त मीडिया जगत में शोक की लहर है। डीआर सकलानी का शनिवार सुबह उनके गांव में पैतृक श्मशानघाट में अंतिम संस्कार किया गया। डीआर सकलानी का जन्म उपमंडल धर्मपुर के सरी गांव के स्वर्गीय गंगा राम के घर में 1944 में हुआ था। इन्होंने अपनी मैट्रिक की पढ़ाई धर्मपुर से की थी उसके बाद केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल में भर्ती होकर देशसेवा करने के उपरांत 1994 में सीआरपीएफ  से इंस्पेक्टर के पद से रिटायर हुए। रिटायर होने के बाद 1996 में इन्होंने ‘दिव्य हिमाचल’ में सरकाघाट से पत्रकारिता शुरू की । इन्होंने गांव में भी ग्राम विकास समिति बनाकर गांव को निकलने वाली सड़क निर्माण में अहम भूमिका निभाई। इसके साथ ही इन्हें पर्यावरण से भी विशेष लगाव था। जिस कारण इन्होंने पर्यावरण बचाओ समिति का गठन करके गांव गांव में जाकर पर्यावरण को बचाने का संदेश दिया। पत्रकारिता के क्षेत्र में इनके कार्यों को देखते हुए चार मई 2011 में पीटरहॉफ  में सर्वश्रेष्ठ जिला स्तरीय सवांददाता के रूप में प्रदेश सरकार ने पुरस्कृत भी किया गया। डीआर सकलानी के परिवार में पत्नी लाजा देवी, दो पुत्र परम सिंह सकलानी व सुरेश सकलानी व बेटी ललिता देवी को छोड़ गए है। डीआर सकलानी सितंबर 2016 से बीमार थे। आईजीएमसी शिमला और पीजीआई  चंडीगढ़ से इलाज करवाने के बाद इनका देहांत हो गया।  पूर्व परिवहन मंत्री व स्थानीय विधायक महेंद्र सिंह ठाकुर, हस्तशिल्प एवं हस्तकरघा निगम के उपाध्यक्ष चंद्रशेखर, जिला परिषद सदस्य भूपेंद्र सिंह और जिला परिषद सदस्य संतोष कुमार आदि ने गहरा दुख व्यक्त किया है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

You might also like
?>