Divya Himachal Logo Jun 28th, 2017

30 आरोपी दबोचे

पैसे लेकर नकल करवाने का धंधा

12 एक दिन के पुलिस रिमांड पर, 18 परीक्षार्थियों को मिली जमानत

newsपांवटा साहिब — पांवटा साहिब में 10वीं और 12वीं की ओपन स्कूल की परीक्षा में कथित रूप से पैसे लेकर नकल करवाने वाले रैकेट और अवैध डिग्रियां बेचने के मामले में 12 आरोपियों को एक दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा गया है। इसके अलावा मामले में गिरफ्तार किए गए 18 परीक्षार्थियों को जमानत पर रिहा कर दिया गया है। पुलिस ने इस संदर्भ में पावंटा के देवीनगर स्थित डीएवी स्कूल के प्रधानाचार्य समेत स्कूल के लेखाकार, बद्रीपुर एजुकेशन सेंटर के संचालक और धौलाकुआं के एक कोचिंग सेंटर के संचालक सहित कुल 30 लोगों को हिरासत में लिया था। इनमें दो नाबालिग युवक भी शामिल थे। पुलिस ने इन सभी आरोपियों को नाहन में अदालत में पेश किया। वहां कोर्ट ने 18 परीक्षार्थियों को तो जमानत पर छोड़ दिया, जबकि नकल करवाने वाले डीएवी स्टाफ सहित 12 आरोपियों को एक दिन के पुलिस रिमांड पर भेज  दिया। नकल करवाने वाले गिरोह पर कार्रवाई जिला सिरमौर की पुलिस अधीक्षक सौम्या साम्बशिवन और एएसपी विनोद धीमान की अगवाई में हुई। कार्रवाई बुधवार पूरी रात चली और गुरुवार सुबह करीब सात बजे पुलिस वैन में सभी 30 आरोपियों को डीएवी स्कूल से पुलिस थाने लाया गया। प्राप्त जानकारी के मुताबिक बुधवार को बद्रीपुर के एजुकेशन सेंटर के निदेशक को हिरासत में लेने के बाद पुलिस ने उनसे पूछताछ के बाद गुरुवार को डीएवी सिरमौर पब्लिक स्कूल पांवटा के प्रिंसीपल डा. वीके लवानिया समेत डीएवी के कुछ स्टाफ सदस्यों व शिक्षकों को भी हिरासत में ले लिया। बुधवार को सिरमौर पुलिस अधीक्षक ने पहले इस मामले में पूरी छानबीन की। इसके बाद जब पुलिस को पता चला कि डीएवी के प्रिंसीपल नकल करवाते हैं तो पुलिस ने गुपचुप रणनीति तैयार की। इसके तहत एक साथ बद्रीपुर स्थित सेंटर व डीएवी स्कूल में छापामारी की। छापामारी के दौरान डीएवी स्कूल में ओपन स्कूल की 12वीं की परीक्षा चल रही थी। टीम ने जब छापेमारी की तो वहां की गतिविधि से हैरान हो गए। परीक्षा केंद्र में फोटो स्टेट करवाकर उत्तर परीक्षार्थियों को दिए गए थे। कुछ परीक्षार्थियों की जगह पेपर देने कोई और ही बैठा हुआ था। टीम के सामने गड़बड़झाला सामने आने के बाद पुलिस ने डीएवी स्कूल में घेराबंदी कर दी। इससे पहले बद्रीपुर सेंटर से पुलिस ने कई मार्कशीट कब्जे में लीं। इसके बाद ठोस सबूत हाथ आने के बाद पुलिस ने डीएवी स्कूल के प्रिंसीपल पर शिकंजा कसा। पांवटा पुलिस रात भर डीएवी में रिकार्ड खंगालती रही। पुलिस ने प्रधानाचार्य और शिक्षकों से देर रात करीब तीन बजे तक पूछताछ की। उसके बाद सभी के बयान लिए गए। सुबह सभी आरोपियों को पुलिस वैन में भरकर पुलिस थाने ले जाया गया। जब ठोस रिकार्ड हाथ आया तो पुलिस ने डीएवी के प्रधानाचार्य, बद्रीपुर और धौलाकुआं सेंटर के निदेशक, आठ शिक्षकों व अकाउंटेंट को हिरासत में ले लिया। इसके बाद पुलिस ने उन 18 विद्यार्थियों को भी पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया, जो या तो नकल मार रहे थे या जो दूसरे की जगह परीक्षा देने पहुंचे थे। डीएसपी पांवटा प्रमोद चौहान ने बताया कि पांवटा के डीएवी स्कूल में ओपन स्कूल का सेंटर था, इसलिए यहां पर 10वीं व 12वीं के छात्र परीक्षा देते थे। इनको नकल करवाकर या फिर इनके स्थान पर किसी ओर को परीक्षा में बैठाकर पास करवाने का गोरखधंधा चल रहा था।   इसी बीच पांवटा साहिब स्थित डीएवी पब्लिक स्कूल के प्रधानाचार्य डा. वीके लवानिया को डीएवी प्रबंधन दिल्ली द्वारा निलंबित करने की सूचना है। जानकारी के मुताबिक दिल्ली प्रबंधन कार्यालय से स्थानीय स्कूल प्रबंधन को दूरभाष पर इसकी सूचना दी गई है। हालांकि ‘दिव्य हिमाचल’ ने दिल्ली स्थित प्रबंधन के नंबरों 23621284 और 64609773 पर संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन किसी ने फोन नहीं उठाया।

ये किए गए थे गिरफ्तार

नकल के इस गोरखधंधे में गिरफ्तार होने वालों में डीएवी स्कूल के प्रधानाचार्य डा. वीके लवानिया, बद्रीपुर एजुकेशन सेंटर के निदेशक ओम प्रकाश, धौलाकुआं कोचिंग सेंटर के निदेशक शीशपाल, अध्यापकों में पूनम, मोनिका, वीना कुमारी, अल्का, पूनम, कामिनी, रूमा और अमित कुमार तथा परीक्षार्थियों में अनिल कुमार, विक्रमजीत, निशा, नीलम, शशिबाला, शिवानी, बलबीर सिंह, जय सिंह, मनोज कुमार, दुर्गा राम, रवि कुमार, गोपाल चंद, आत्मा राम, प्रेमपाल, रमेश कुमार, गुरनाम सिंह, विनोद व दीपिका शामिल हैं। बताया जा रहा है कि दीपिका यह परीक्षा ममता देवी की जगह दे रही थी। इसी प्रकार एक युवक अपने पिता की जगह परीक्षा दे रहा था, जो कि सरकारी विभाग में तैनात है।

April 21st, 2017

 
 

पोल

क्रिकेट विवाद के लिए कौन जिम्मेदार है?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates