Divya Himachal Logo Aug 20th, 2017

लीपापोती में जुटी योगी सरकार

newsगोरखपुर— यूपी के गोरखपुर में बीआरडी अस्पताल में शुक्रवार को हुई 36 बच्चों की दर्दनाक मौत पर यूपी सरकार लीपापोती में जुटी गई है। यूपी के गोरखपुर में बीआरडी अस्पताल में 36 बच्चों की दर्दनाक मौत पर यूपी सरकार ने सफाई देते हुए कहा कि आक्सीजन सप्लाई की कमी के कारण बच्चों की मौत नहीं हुई है। यूपी के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने शनिवार को घटना की जानकारी देते हुए बताया कि कुछ घंटों के लिए आक्सीजन की सप्लाई जरूर बाधित हुई थी, लेकिन मौत का कारण गैस सप्लाई में बाधा नहीं है। उन्होंने साथ ही कहा कि मामले में लापरवाही बरतने के कारण बीआरडी मेडिकल कालेज के प्रिंसीपल को निलंबित कर दिया गया है। मंत्री ने कहा कि दोषियों के खिलाफ सरकार कड़ी कार्रवाई करेगी। इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा कि वह गोरखपुर की घटना पर नजर बनाए हुए हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि वह केंद्र और यूपी सरकार के अधिकारियों से लगातार संपर्क में हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल और केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव गोरखपुर में मामले पर नजर रखेंगे। इसके अलावा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने राज्य प्रशासन से इस घटना की रिपोर्ट मांगी है। खचाखच भरे संवाददाता सम्मेलन में सिद्धार्थनाथ सिंह को पत्रकारों के कड़े सवालों का सामना करना पड़ा। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि अगस्त के महीने में बच्चों की मौतें होती रही हैं। उन्होंने कहा कि अगस्त, 2014 में 567 बच्चों की मौत हुई थी। उन्होंने कहा कि हम बच्चों की मौत को कम करके नहीं आंक रहे हैं। मेडिकल कालेज में बच्चों के लास्ट स्टेज में लाया जाता है। गैस सप्लाई जरूर रात 11ः30 से सुबह के 1ः30 बजे तक बाधित हुई थी, लेकिन उसके बाद गैस सिलेंडर से सप्लाई जारी है। वहीं  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि गोरखपुर तथा इसके आसपास में बच्चों की मौतें एक्यूट इंसेफिलाटिस से हो रही हैं। उन्होंने कहा कि इंसेफिलाटिस बीमारी गंदगी के कारण फैलती हैं, जिसके कारण भयानक दुष्परिणाम सामने आते हैं। श्री योगी शनिवार को यहां ‘गंगा ग्राम सम्मेलन एवं स्वच्छता रथ कार्यक्रम’ के दौरान कहा कि गंदगी के कारण ही बीमारियां होती हैं। हमारे आसपास गंदगी होने के कारण ही बीमारियां फैल रही हैं। गोरखपुर तथा आसपास के क्षेत्रों में इंसेफिलाइटिस बीमारी का वायरस आसपास की गंदगी तथा गंदे पानी में पनपता है, जिसके कारण लोग बीमार होते हैं। बता दें कि  बीआरडी अस्पताल में पिछले पांच दिनों के अंदर 63 बच्चों की मौत हो चुकी है, जिसकी वजह से पूरे जिला में हाहाकार मचा हुआ है। 36 मौते तो पिछले 48 घंटों में ही हुई हैं, उससे पहले भी तीन दिन के अंदर ही 27 बच्चों ने दम तोड़ दिया था। इन 63 बच्चों में पांच नवजात शिशु भी हैं।

कंपनी पर छापा मालिक फरार

बीआरडी मेडिकल कालेज में आक्सीजन की सप्लाई करने वाली कंपनी पुष्पा सेल्स प्राइवेट लिमिटेड पर पुलिस ने छापे की कार्रवाई की है। कंपनी के मालिक मनीष भंडारी के कई ठिकानों पर छापामारी चल रही है। घटना के बाद से भंडारी फरार चल रहे हैं। बताया जा रहा है कि पुलिस के बड़े अधिकारियों के दबाव के चलते भंडारी सामने नहीं आ रहे हैं। जानकारी के मुताबिक छापे की कार्रवाई शुक्रवार रात ही शुरू कर दी गई थी। हालांकि कंपनी की ओर से दावा किया जा रहा है कि आक्सीजन की सप्लाई रोके जाने से मौतें नहीं हुई हैं। बताया जा रहा है कि पुलिस के रवैये से कंपनी के मालिक मनीष भंडारी काफी डरे हुए हैं।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

August 13th, 2017

 
  • kushal kumar says:

    Very shocking. Pray for peace to the departed souls, while spiritual strength to those who loved them, to bear the tragedy. However, this tragedy and a number of other tragedies taking place, now and then , across the country of 135 crores population , continue to deliver us a mountain-like question : ” Why are we suddenly massively found wanting in so many serious details when any tragedy occurs in the country?”. God forbid , an earthquake happens in a city like Delhi or Kolcatta , the colossal nature of our found wanting could be not be imagined on the ground. We are a great talkers , discussionist , moralist , so called Vikas-lovers , do namaste with folded hands to everyone who meets us or passes across us, but we are superficial- not serious. Tell a date when we will begin to be without superficiality in any of our doings. And that will be the great day when our greatness will begin. This also brings to surface a still bigger question : who has brought about this great superficiality in us? Everyone knows the answer but is taking pleasure in vested interests, forgetting the enormous harm that the superficiality is loaded with.

  •  

    पोल

    क्या कांग्रेस को विस चुनाव वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में लड़ना चाहिए?

    View Results

    Loading ... Loading ...
     
    Lingual Support by India Fascinates