मौके पर ही काम निपटाएंगी जिप अध्यक्ष अनुराधा

By: Nov 6th, 2021 12:12 am

जिला परिषद अध्यक्ष का पदभार संभालते ही अनुराधा का ऐलान

दिव्य हिमाचल ब्यूरो — केलांग
नवनियुक्त जिला परिषद सदस्य अनुराधा राणा ने शुक्रवार को बतौर जिला परिषद अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभाल ली है। शुक्रवार को जहां जिला परिषद कार्यालय में उनका बतौर अध्यक्ष पहला दिन था, वही उन्हें बधाई देने वालों का भी दिनभर तांता लगा रहा। जिला परिषद का चुनाव लडऩे वाली अनुराधा राणा ने जहां जिला परिषद के चुनावों में रिकार्ड मतों से जीत हासिल की है, वहीं सबसे कम उम्र की आयु में वह जिला परिषद अध्यक्ष बनने वाले भी लाहुल-स्पीति की पहली महिला बन गई हैं। चंद्रा घाटी से संबंध रखने वाली अनुराधा राणा ने पहले ही दिन जहां काम को प्राथमिकता देते हुए कई महत्त्वपूर्ण योजनाओं व मुद्दों पर अपने कार्यालय अधिकारियों कर्मचारियों के साथ बैठक कर रणनीति बनाई, वही अनुराधा राणा ने कहा कि उनकी सबसे पहली प्राथमिकता यह रहेगी कि घाटी के लोगों को किसी भी तरह का जिला परिषद के कार्यालय से संबंधित कार्य को लेकर किसी भी तरह की दिक्कत न देनी पड़े। इसके लिए वह उचित व्यवस्था बनाएंगी। साथ ही साथ उनका यह प्रयास रहेगा कि सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का लाभ घाटी के ग्रामीणों को आसानी से मिल सके। अनुराधा ने कहा है कि घाटी के लोगों को अब जिला परिषद कार्यालय में काम करवाने के लिए बार-बार चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। ग्रामीणों के कार्य मौके पर ही निपटाए जाएं।

उन्होंने कहा कि लोगों ने जिस उम्मीद वह विश्वास से उन्हें भारी मतों से जीत आया है उसे वह कायम रखेंगी और जिला परिषद के माध्यम से लोगों के विकास कार्यों को रफ्तार देंगी। यहां बता दें कि उन्होंने इग्नू दिल्ली से अंग्रेजी में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है तथा इससे पूर्व महा विद्यालय कुल्लू से बीएससी नॉन मेडिकल में ग्रेजुएशन की है। कालेज में रहते वह एनएसएस में महासचिव रह चुकी हैं और इसी दौरान कई तरह के जागरूक अभियानों जैसे कि शिक्षा, स्वास्थ्य, साफ-सफाई एवं पर्यावरण बचाव जैसे अभियानों में इनकी बढ़-चढ़कर भागीदारी रही है, जिसके लिए उन्हें सम्मानित भी किया जा चुका है। ग्रेजुएशन के उपरांत ही राणा ने प्राइवेट स्कूल में अध्यापन का कार्य शुरू किया और अढ़ाई साल तक कार्य किया और इसके साथ अपनी पढ़ाई भी जारी रखी। तत्पश्चात आपदा प्रबंधन में यह गत चार सालों से कार्यरत थी। आपदा प्रबंधन में कार्यरत रहते हुए भी इनकी जन जागरूक अभियानों में भागीदारी हमेशा आगे रहीं, जिसने इन्हें एक अलग पहचान बनाने में सफलता दिलाई। बहरहाल चंद्रा घाटी के वेटी अनुराधा राणा जहां लाहुल की सबसे छोटी उम्र की जिला परिषद अध्यक्ष बनने वाली पहली महिला बन गई हैं, वहीं घाटी के युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत भी बनकर उभरी हैं।