दखल

हिमाचल प्रदेश में हर जगह कोचिंग सेंटर्स व अकादमियों की भरमार है। 90 के दशक से इक्का-दुक्का अकादमियों के साथ शुरू हुआ सिलसिला अब सैकड़ों का आंकड़ा पार कर गया है। बड़ी नौकरी की ख्वाहिश लिए बाहर जाने वाले छात्रों के लिए ये अकादमियां कहीं न कहीं उनके लिए घर में तैयारी कर एचएएस-आईएएस-डाक्टर-इंजीनियर बनने

हिमाचल प्रदेश में हर जगह कोचिंग सेंटर्स व अकादमियों की भरमार है। 90 के दशक से इक्का-दुक्का अकादमियों के साथ शुरू हुआ सिलसिला अब सैकड़ों का आंकड़ा पार कर गया है। बड़ी नौकरी की ख्वाहिश लिए बाहर जाने वाले छात्रों के लिए ये अकादमियां कहीं न कहीं उनके लिए घर में तैयारी कर एचएएस-आईएएस-डाक्टर-इंजीनियर बनने

हिमाचल प्रदेश का प्रमुख व्यवसाय खेती है। यह राज्य की अर्थव्यवस्था में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह 69 प्रतिशत कामकाजी आबादी को सीधा रोजगार मुहैया करवाती है। कृषि और उससे संबंधित क्षेत्र से होने वाली आय प्रदेश के कुल घरेलू उत्पाद का 22.1 प्रतिशत है। अहम सवाल यह है कि परंपरागत खेती के लिए मशहूर

हिमाचल प्रदेश में कोचिंग व एकेडमी का चलन बहुत पहले से जारी है, लेकिन अब वक्त के साथ इनकी जरूरत बढ़ने लगी है। 90 के दशक से इक्का-दुक्का अकादमियों के साथ शुरू हुआ सिलसिला अब सैकड़ों का आंकड़ा पार कर गया है। बड़ी नौकरी की ख्वाहिश लिए बाहर जाने वाले छात्रों के लिए ये अकादमियां

हिमाचल प्रदेश में कोचिंग व एकेडमी का चलन बहुत पहले से जारी है, लेकिन अब वक्त के साथ इनकी जरूरत बढ़ने लगी है। 90 के दशक से इक्का-दुक्का अकादमियों के साथ शुरू हुआ सिलसिला अब सैकड़ों का आंकड़ा पार कर गया है। बड़ी नौकरी की ख्वाहिश लिए बाहर जाने वाले छात्रों के लिए ये अकादमियां

हिमाचल प्रदेश में कोचिंग व एकेडमी का चलन बहुत पहले से है, लेकिन अब वक्त के साथ इनकी जरूरत बढ़ने लगी है। 90 के दशक से इक्का-दुक्का अकादमियों के साथ शुरू हुआ सिलसिला अब सैकड़ों का आंकड़ा पार कर गया है। बड़ी नौकरी की ख्वाहिश लिए बाहर जाने वाले छात्रों के लिए ये अकादमियां कहीं

प्रदेश की आर्थिकी मजबूत करने में ‘बागबानी’ बहुत अहम है। पहले से अब की स्थिति देखें, तो बागबानी अपनाने में लोग रुचि दिखा रहे हैं। उस परनई परियोजनाएं भी लोगों के लिए वरदान बन रही हैं। सेब बहुल राज्य हिमाचल में अब अमरूद, लीची और कीवी का भी प्रचलन बढ़ता जा रहा है। हर साल बागबानी का एरिया बढ़ता ही जा रहा है। हिमाचल में क्या है वर्तमान स्थिति...पेश है दखल का भाग-2

हिमाचल की आर्थिकी मजबूत करने में ‘बागबानी’ सबसे अहम है। पहले से अब की स्थिति देखें, तो बागबानी अपनाने में लोग रुचि दिखा रहे हैं। उस पर नई परियोजनाएं भी लोगों के लिए वरदान बन रही हैं। सेब बहुल राज्य हिमाचल में अब अमरूद, लीची और कीवी का भी प्रचलन बढ़ता जा रहा है। हर साल बागबानी का एरिया बढ़ता ही जा रहा है। हिमाचल में क्या है बागबानी की वर्तमान स्थिति...पेश है दखल (भाग-1)

हिमाचल में कोई नया प्रोजेक्ट शुरू करना हो, तो यह वन विभाग की मंजूरी के बिना शुरू हो ही नहीं सकता। पावर प्रोजेक्ट्स हों या हाई-वे बनाना, फोरेस्ट क्लीयरेंस के बिना बात आगे बढ़े, सवाल ही नहीं उठता। फोरेस्ट लैंड पर कोई भी गतिविधि करनी हो, उसके लिए मंजूरी एक कानून के अंतर्गत दी जाती