नए नियम लागू क्यों नहीं?

-डा. राजन मल्होत्रा, पालमपुर केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा पारित नए परिवहन नियम केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी द्वारा देश में तो लागू करवा दिए गए हैं, जिसमें नियम सख्त करते हुए जुर्माना 100 प्रतिशत तक बढ़ा दिया गया है यानी वर्तमान…

ट्रैफिक के नए नियम

-किशन सिंह गतवाल, सतौन, सिरमौर पूरे भारत में ट्रैफिक के नए नियम 31 अगस्त की अर्धरात्रि से लागू हो गए हैं, इन नियमों के अनुसार वाहन चालकों को ट्रैफिक नियमों का पालन करना होगा। आए दिन देश में नियमों की अनुपालना के अभाव में हजारों लोग…

पाक में सब कुछ ठीक नहीं

- डा. राजन मल्होत्रा, पालमपुर विभिन्न-विभिन्न समाचार चैनलों से यह समाचार जानकर बड़ा आश्चर्य हुआ कि संयुक्त राष्ट्रसंघ में भारत के विरुद्ध आग उगलने वाले पाकिस्तान में अपने अंदर ही सब कुछ ठीक नहीं है। जैसा कि पाक विदेश मंत्री शाह महमूद…

त्योहारों में लापरवाह होते लोग

-विजय महाजन प्रेमी, चंबा मध्य प्रदेश की राजधानी में शुक्रवार तड़के गणपति विसर्जन करते समय नाव पलटने का जो हादसा हुआ, उसमें लगभग 11 लोग अपनी जान से हाथ धो बैठे। स्थानीय प्रशासन अपनी बचाव कार्यवाही में जुटा रहा। सभी जानते हैं कि भारत में इस…

भारत दान दे रहा रूस को

-डा. राजन मल्होत्रा, पालमपुर यह समाचार जान कर बड़ा आश्चर्य हुआ कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने रूस दौरे के दौरान रूस को एक अरब डालर सहायता देने की घोषणा की है जो लगभग 7200 करोड़ रुपए बनता है। यह रूस सरकार व उनके…

‘शिक्षक और पुरस्कार’

-नागेंद्र गौतम, सुंदरनगर हिमाचल प्रदेश के लोकप्रिय अखबार ‘दिव्य हिमाचल’ में दिनांक चार सितंबर के अंक में प्रकाशित ‘सरकार एवं शिक्षक पुरस्कार’ संपादकीय पढ़ा, बहुत सराहनीय था। लेखक ने पुरस्कारों के संबंध में सही अवलोकन किया है। यह सच है कि…

जनमंच पर फिजूलखर्ची क्यों?

डा. ओ.पी. शर्मा, नौदान, हमीरपुर जनमंच पर सरकार ने दो करोड़ रुपए खर्च कर डाले हैं। प्रदेश में दस जिलों मे यह कार्यक्रम हुए हैं, जबकि दो जिले लाहौल-स्पीति व किन्नौर में मौसम खराब रहने के कारण कुछ कम ही कार्यक्रम हुए हैं। क्या यह कार्यक्रम…

अफवाह की विभीषिका

-किशन सिंह गतवाल,सतौन, सिरमौर अफवाह एक ऐसी बिना सिर-पैर की चीज है जो कि समाज का सुख-चैन और विश्वास छीन लेती है और बदले में कुछ नहीं देती। कभी अफवाह बच्चा चोर गिरोह के बारे में आती है तो लोगों में बेचैनी और अविश्वास हो जाता है। कोई कहता…

विरोध के लिए विरोध

- डा. विनोद गुलियानी, बैजनाथ पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, राजस्थान व पंजाब की राज्य सरकारों द्वारा मोटर वाहन संशोधन विधेयक 2019 का विरोध करना बड़ा निंदनीय व चिंता का विषय है। काश जनहित से जुडे़ इन नियमों का विरोध करने वाले यह समझ पाते…

परमाणु नीति में हो जरूरी बदलाव

किशन सिंह गतवाल, सतौन, सिरमौर एक ज्वलंत विषय पर पर्याप्त विचार-विमर्श की आवश्यकता है। क्या भारत को पहले नहीं वाली अपनी परमाणु नीति पर विचार करना चाहिए। क्या उस नीति में संशोधन कर ‘अटैक इज दि बैस्ट डिफैंस’ पर आचरण करना चाहिए? विषय बड़ा…

रिजर्व बैंक से पैसा क्यों लिया.

-डा. राजन मल्होत्रा, पालमपुर क्या भारत की अर्थव्यवस्था इतनी बिगड़ गई है या विदेशी कर्जा इतना चढ़ गया है जो रिजर्व बैंक ने भारत के भूतपूर्व आरबीआई गवर्नर विमल जलान के कहने पर 1.76 करोड़ रुपए भारत सरकार के प्रयोग के लिए दे दिए। क्या…

अपना छप्पर खुद मत फाड़ो

डा. विनोद गुलियानी, बैजनाथ जब किसी को अप्रत्याशित अथाह धन मिल जाए तो आम कहा जाता है कि ‘भगवान जब देता है तो छप्पर फाड़ के देता है’, यह धन पाना चाहे लाटरी से हो या रानो मंडल जैसी गायक द्वारा हो, जो फुटपाथ से सीधी महल में आ गई। ठीक…

चंद्रयान-2

जीवन बिलासपुरी, हि.प्र. एक तरफ तो जीत थी, एक तरफ थी हार। जाने क्यों आज हार थी, हारने को बेकरार।। मंजिल के करीब रुक गए कदम तो क्या! बेसब्र था चांद, था उसे मिलन का इंतजार।। हौसले बुलंद अपने, भले मुश्किलें…

बाढ़ की त्रासदी

-किशन सिंह गतवाल,सतौन, सिरमौर हमारे देश में बाढ़ की बड़ी विकट समस्या है। प्रतिवर्ष वर्षा ऋतु भयंकर रूप धारण कर आती है। बिहार, महाराष्ट्र्र, गुजरात, कर्नाटक, गोवा आदि कई प्रांतों में बाढ़ कहर बन टूटती है और…

बैकों के एकीकरण का क्या लाभ

- डा. राजन मल्होत्रा, पालमपुर केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने देश में वित्त फैलाव तथा बैकों में सुधार की कुछ बातें कही हैं। जो हैं तो स्वागत योग्य। पर है संभव से परे। उदाहरणः बैकों का एकीकरण कर उनकी संख्या 21 बैकों से घटाकर 12 कर…