हफ्ते की हस्तियां

भावना सोकटा एशिया बुक ऑफ रिकार्ड्स में कर्म के हर क्षेत्र में अपना डंका बजाने वाली बेटियों की कामयाबी की जितनी खबरें पढ़ें उतनी कम हैं। चाहे वह शिक्षा का क्षेत्र हो या फिर अंतरिक्ष में जाना। एक बार फिर कुछ ऐसा ही कारनामा कर…

जो मिला, काफी है ज्यादा के लिए मेहनत करें

मेरा भविष्‍य मेरे साथ-7 करियर काउंसिलिंग कालेज छूटने को भगवान का अन्याय व बदकिस्मती मान, दुखी मन से मैं, पठानकोट रेलवे स्टेशन पर भीड़, शोर, गर्मी और मच्छरों के बीच सेना ट्रेनिंग सेंटर जाने वाली रेल का इंतजार कर रहा था। प्लेटफार्म पर भीड़…

कहानी : बदल गया जांबाज

एक था घोड़ा। बहुत बलशाली हवा से भी तेज दौड़ता। उसे अपनी चाल पर बहुत घमंड था। उसने अपना नाम जाबांज रख लिया था। उसका दावा था कि दुनिया में कोई भी उससे तेज नहीं दौड़ सकता। उसकी जंगल में जिस भी किसी जानवर से मुलाकात होती उससे दौड़ने की शर्त लगा…

संस्कृत भाषा एक प्राचीन भाषा

संस्कृत में करियर संबंधी विस्तृत जानकारी प्राप्त करने के लिए हमने राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान, वेदव्यास परिसर गरली के प्राचार्य लक्ष्मी निवास पांडे से बातचीत की। प्रस्तुत हैं बातचीत के मुख्य अंश... लक्ष्मी निवास पांडे प्राचार्य…

श्रीखंड में चोटियों के रूप में विराजमान हुए थे सप्तऋषि

एक दंत कथा के अनुसार जब प्रथम पूजन के बाद सब देवताओं के बीच झगड़ा हुआ तो यह निश्चय हुआ कि जो सारी धरती की परिक्रमा कर सबसे पहले लौटेगा, वह प्रथम पूज्य होगा। सभी देवता परिक्रमा करने निकल पड़े तो गणपति ने माता पार्वती से उपाय पूछा तो…

हफ्ते का खास दिन

सीके नायडू जन्मदिवस 13 अक्तूबर सीके नायडू का जन्म 13 अक्तूबर, 1895 को नागपुर, महाराष्ट्र में हुआ। सीके नायडू क्रिकेट के साथ-साथ अपनी बेहतरीन फिटनेस के लिए भी जाने जाते थे। उन्होंने अपना अंतिम मैच 68 वर्ष की उम्र में खेला था। नायडू…

पहेलियां

डाक्टर : कैसे आना हुआ मरीज : डाक्टर साहब, तबीयत ठीक नहीं है, लिवर में दर्द हो रहा है। डाक्टर : दारू पीते हो। मरीज : हां, पर छोटा पैग ही बनाना ? **** पप्पू डाक्टर के पास गया। पप्पू : डाक्टर साहब, जब मैं खड़े होकर फिर थोड़ा झुककर…

बुरा न देखो, न कहो और न सुनो तीन बंदरों का प्रचलन कैसे शुरू हुआ

वर्ष 1617 में जापान के निक्को स्थित तोगोशु की समाधि पर ये तीनों बंदर बने हैं। ऐसा माना जाता है कि ये बंदर जिन सिद्धांतों की ओर इशारा करते हैं, वे बुरा न देखो, बुरा न सुनो, बुरा न बोलो को दर्शाते हैं। मूलतः यह शिक्षा ईसा पूर्व के चीनी…

बच्चे हैं घर की खुशियां

माता-पिता बनने से ज्यादा सुखद एहसास और क्या हो सकता है। पर क्या आप अपने वैवाहिक जीवन की परेशानियों के कारण बच्चा नहीं चाहते हैं। अगर ऐसा है तो अब आप अपना फैसला बदल लें। सच्चाई तो यह है कि बच्चा कई तरह से आपकी वैवाहिक जीवन की परेशानियों को…

पहेलियां

1. खाते नहीं चबाते लोग, काठ में कड़वा रस संयोग। दांत जीभ की करे सफाई बोलो बात समझ में आई। 2. काले वन की रानी है, लाल-पानी पीती है। 3. अपनों के ही घर यह जाए तीन अक्षर का नाम बताए। शुरू के दो अति हो जाए अंतिम दो से तिथि…

नाकाबंदी के दौरान 29 नाका चौकियां स्थापित हुई थी हिमाचल में

नाकाबंदी की इस विस्तृृत कार्यवाही के अंतर्गत कांगड़ा, नूरपुर, बिलासपुर, कुल्लू, चंबा और होशियरपुर-ऊना क्षेत्र में 29 नाका चौकियां स्थापित हुई और सशस्त्र गार्डज तैनात कर दिए गए। प्रत्येक चौकी पर प्रायः एक दफादार और सात गार्डज की नाका…

तापमान कम होने की वजह से सिकुड़ते हैं ग्लेशियर

हिमालयी क्षेत्र के लगातार सिकुड़ते जा रहे ग्लेशियरों की वजह से जहां एक ओर मैदानी क्षेत्रों में पहाड़ों की अपेक्षा तापमान कम होता जा रहा है, वहीं दूसरी ओर पहाड़ों में बर्फबारी कम होने से नदियों के जल स्तर में भी गिरावट आ रही है... गतांक से…

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पूरे विश्व में मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों पर जागरूकता पैदा करने के लिए प्रतिवर्ष 10 अक्तूबर को मनाया जाता है। इस वर्ष विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस का विषय ‘कार्यस्थल में मानसिक स्वास्थ्य’ रखा गया है। इसके अनुसार…

कहलूर के राजा की थी दो रानियां

हिंदूर के इतिहास में उल्लेख मिलता है कि कहलूर के राजा काहन चंद के दो रानिया थीं। एक कुल्लू से और दूसरीं बाघल से। बाघल वाली रानी बाघल के पंवार (परमार) वंश से नहीं हो सकती, किसी और वंश या परिवार से हो सकती है। क्योंकि…