सोलन-परवाणू सेब मंडी… हर दिन पहुंच रही 40 हजार पेटियां

By: Aug 7th, 2022 12:36 am

सेब सीजन ने पकड़ी रफ्तार,इस बार 50 लाख वाक्स पहुंचने की उम्मीद

राजेंद्र सिंह-सोलन
सेब क ा सीजन दिन प्रतिदिन रफ्तार पकड़ता जा रहा है। एपीएमसी सोलन के अंतर्गत परवाणू और सोलन सेब की दोनों मंडियों में रोजाना करीब 40 हजार सेब की पेटियां पहुंच रही है। प्रत्येक मंडी में रोज करीब 20 हजार पेटी पहुंच रही है। आने वाले एक सप्ताह के भीतर मंडी पहुंचने वाली सेब की पेटियों की संख्या में कई गुणा इजाफा होने का अनुमान है। दोनों मंडियों में इस बार करीब 50 लाख पेटियों का कारोबार होने की संभावना व्यक्त की जा रही है। प्राप्त जानकारी के अनुसार सीजन शुरू होने से लेकर अभी तक छह लाख पेटियां दोनों मंडियों में पहुंच चुकी है। मंडियों में अभी करसोग, ठियोग, चौपाल क्षेत्रों से बागवान अपनी ऊपज लेकर मंडी पहुंच रहे हैं। जबकि शिमला जिला जो कि प्रदेश भर में सेब उत्पादन में सबसे अव्वल है से सेब की खेप भी जल्द मंडियों में पहुंचनी शुरू होगी। गोरतलब है कि प्रदेश भर में जिला शिमला में सबसे अधिक सेब की पैदावार होती है।

पूरे प्रदेश से सेब के कुल उत्पादन पर नजर दौड़ाई जाए तो जिला शिमला से 70 फीसदी सेब का उत्पादन सालाना होता है। शिमला के बाद दूसरे नंबर पर कुल्लू और किन्नौर में सबसे अधिक उत्पादन होता है। अन्य राज्यों की तुलना में हिमाचल प्रदेश का सेब उत्पादन में करीब 40 फीसदी हिस्सेदारी रहती है। बागबानी विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रदेश में करीब दो लाख हैक्टेयर भूमि पर सेब के बागान है। जिससे हर साल छह हजार करोड़ रुपए का कारोबार संभव है। सेब के उत्पादन पर प्रदेश के करीब 1 लाख 75 हजार परिवारों की रोजी रोटी भी निर्भर करती है। वहीं, कारेबारियों और बागबानों की मांग पर मंडी समिति द्वारा बोली के समय में बदलाव किया गया है। बोली के समय में दो घंटे की वृद्धि की गई है। मंडी में बोली का समय सुबह सात से शाम सात बजे तक तय किया गया है। जबकि पहले यह समय सुबह आठ से शाम छह बजे तक तय किया गया था। (एचडीएम)

500 से 2200 तक मिल रहे पेटी के दाम
सोलन सेब मंडी में चल रहे सेब के दामों पर नजर दौड़ाई जाए तो 500 से 2200 रुपए प्रति पेटी बागानों को प्राप्त हुए। हालांकि अधिकतम दाम 2800 रुपए प्रति पेटी भी रहे।

सोलन और परवाणू दोनों सेब मंडियों में अभी तक 5.50 लाख सेब की पेटियां पहुंच चुकी है। इस साल करीब दोनों मंडियों में 40 से 50 लाख सेब की पेटियों का कारोबार होने की संभावाना हैं। बागवानों और कारोबारियों की मांग पर बाली के समय में भी बदलाव किया गया है। बोली का समय सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तय किया गया है।
डा.रविंद्र शर्मा, सचिव, एपीएमसी,सोलन