शिमला एयरपोर्ट से हवाई उड़ानें अब 26 से, खराब विजिबलिटी के चलते नहीं हो पाया ट्रायल

By: Sep 9th, 2022 6:01 pm

सोनिया शर्मा—शिमला

शिमला। हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला और दिल्ली के बीच शुरू होने वाली हवाई सेवाओं के लिए मौसम बाधा बन रहा है। शिमला एयरपोर्ट पर खराब विजिबलिटी के चलते फिलहाल ट्रायल लैंडिग भी नहीं हो पा रही। पहले छह सितंबर से उड़ानें शुरू नहीं हो पाई। अब 26 सितंबर को दोबारा से उड़ानों का शेडयूल तय हुआ है।

ट्रायल के लिए कम से कम पांच किलोमीटर की विजिबिलिटी भी मानसून सीजन में नहीं है। गौरतलब है कि एलायंस एयर ने एटीआर विमान इस रूट पर चलाना है। इसे दिल्ली शिमला के साथ शिमला से कांगड़ा और कुल्लू चलाने की भी योजना है। हालांकि इसके बदले कंपनी ने राज्य सरकार से करीब 11 करोड़ की वायबिलिटी गैप फंडिंग भी मांगी है।

यह फाइल वित्त विभाग में पेंडिंग है। इस पर फैसला होना अभी बाकी है। नागर विमानन महानिदेशालय की टीम जुब्बड़हट्टी हवाई अड्डे का निरीक्षण भी कर चुकी है। महा निदेशालय की ओर से हवाई सेवाएं शुरू करने को लेकर मंजूरी दे दी गई है। मंत्रालय की पहले 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर दिल्ली-शिमला हवाई सेवा शुरू करने की योजना थी। महानिदेशालय की मंजूरी नहीं मिलने इसे 22 अगस्त तक टाला था, लेकिन अभी भी इसमें खराब मौसम बाधा बन रहा है। पर्यटन एवं नागरिक उड्डयन के सचिव देवेश कुमार ने बताया कि दोबारा से ट्रायल करने के बाद हवाई सेवाएं शिमला एयरपोर्ट से बहाल हो जाएंगी।

गौर रहे कि शिमला के जुब्बड़हट्टी हवाई अड्डे से हवाई सेवाएं मार्च 2020 से बंद हैं। शिमला से सटे जुब्बड़हट्टी हवाई अड्डे का विस्तारीकरण कार्य पूरा हो चुका है। एयरपोर्ट का रनवे स्ट्रिप बढ़ाकर 1309 मीटर कर दिया है। फरवरी 2020 तक एटीआर 42 (500) विमान की सुविधा मिल रही थी। कोरोना संकट के चलते केंद्र सरकार ने हवाई सेवाओं पर रोक लगाई थी। इसी बीच, एयर इंडिया की एलायंस एयर के एटीआर 42 हवाई जहाज की लीज समाप्त हो गई। 2021 में भी लीज रिन्यू नहीं की गई। मार्च 2020 से पहले जुब्बड़हट्टी हवाई अड्डे पर 42 सीटर विमान में दिल्ली से आने वाली फ्लाइट में 30 से 35 सवारियां आती थीं। शिमला से वापसी के लिए टेक ऑफ रन कम होने से फ्लाइट में सिर्फ 10 सवारियों को ही ले जाता था।