विशेष

महिलाओं में थायराइड होने पर दिखते हैं ये लक्षण, जानिए पूरी जानकारी…

By: Feb 9th, 2024 7:22 pm

थायराइड होने पर शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम होती है, जिससे शरीर में कई तरह की प्रॉब्लम नजर आने लगती है। अधिकतर मामलों में थायराइड के शुरुआती लक्षण का पता आसानी से नहीं चल पाता, क्योंकि गर्दन में आने वाली छोटी सी गांठ को तो अकसर सामान्य समस्या समझ लिया जाता है, लेकिन इसके अलावा और भी कई लक्षण शरीर में बढऩे लगते है, जिनको लेकर हम लोग अकसर लापरवाही बरत देते हंै, जो बाद में गंभीर समस्या बन जाती है…

थायराइड एक ऐसी बीमारी है, जिससे अधिकतर लोग ग्रस्त रहते हैं। पुरुषों के मुकाबले यह बीमारी महिलाओं में ज्यादा देखी जाती है। थायराइड मानव शरीर में पाए जाने वाले एंडोक्राइन ग्लैंड में से एक है। थायराइड ग्रंथि गर्दन में श्वास नली के ऊपर होती है, जिसका आकार तितली जैसा होता है। यह ग्रंथि थायराक्सिन नामक हार्मोन बनाती है, जो शरीर की एनर्जी, प्रोटीन उत्पादन व अन्य हार्मोंस के प्रति होने वाली संवेदनशीलता को कंट्रोल में रखता है। थायराइड होने पर शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम होती है, जिससे शरीर में कई तरह की प्रॉब्लम नजर आने लगती है। अधिकतर मामलों में थायराइड के शुरुआती लक्षण का पता आसानी से नहीं चल पाता, क्योंकि गर्दन में आने वाली छोटी सी गांठ को तो अकसर सामान्य समस्या समझ लिया जाता है, लेकिन इसके अलावा और भी कई लक्षण शरीर में बढऩे लगते है, जिनको लेकर हम लोग अकसर लापरवाही बरत देते हंै, जो बाद में गंभीर समस्या बन जाती है। आज हम आपको महिलाओं में होने वाले थायराइड के कुछ लक्षणों के बारे में बताने जा रहे है, जिन्हें अनदेखा करना मतलब गंभीर समस्या को बुलावा देना होगा। आप इन लक्षणों के पहचानकर कर सही समय पर थायराइड का इलाज करवा सकती हंै।

तेजी से बढ़ता वजन

वैसे तो बढ़ता मोटापा आज हर किसी की समस्या बना हुआ है, लेकिन अगर आपका वजन तेजी से बढ़ रहा है, तो इसे नजरअंदाज करने की गलती न करें, क्योंकि थायराइड के कारण मैटाबॉलिज्म भी प्रभावित होता है। हम जो भी खाते हैं वो पूरी तरह एनर्जी में नहीं बदल पाता और वसा के रूप में शरीर पर जमा होने लगता है।

थकावट रहना

अगर बिना कोई काम किए शरीर थकावट या कमजोरी महसूस करने लगे, तो तुरंत डाक्टर की सलाह लें, क्योंकि मैटाबॉलिज्म पर थायराक्सिन के प्रभाव से खाया गया खाना एनर्जी में नहीं बदल पाता तो शरीर थकावट और कमजोरी महसूस करने लगता है। इसके अलावा थकान का कारण एनीमिया भी हो सकता है।

डिप्रेशन में रहना

अगर थायराइड ग्रंथि कम मात्रा में थायराक्सिन उत्पन्न करती है, तो इससे डिप्रेशन वाले हार्मोन एक्टिव हो जाते हैं। डिप्रेशन से रात में अनिद्रा की प्रॉब्लम होती है। अगर आपको भी डिप्रेशन रहता है तो तुरंत किसी डाक्टर से जांच करवाएं।

सीने में दर्द होना

अगर आपको थायराइड है, तो इससे दिल की धडक़न भी प्रभावित हो सकती है। दिल की धडक़न में होने वाली इसी अनियमितता के कारण सीने में तेज दर्द हो सकता है।

सर्दी या गर्मी बर्दाश्त न होना

थायराइड होने पर मौसम का प्रभाव हमारे शरीर पर अधिक दिखाई देने लगता है। हाइपोथायराइडिज्म होने पर शरीर को न तो ज्यादा ठंड बर्दाश्त होती है और न ही ज्यादा गर्मी का मौसम। अगर आपके साथ भी ऐसा होता है, तो तुरंत डाक्टर से जांच करवाएं।

याददाश्त कम होना

थायराइड के कारण स्मरण शक्ति और सोचने-समझने की क्षमता भी प्रभावित होती है। याददाश्त कमजोर हो सकती है और व्यक्ति का स्वभाव भी चिड़चिड़ा हो सकता है।


Keep watching our YouTube Channel ‘Divya Himachal TV’. Also,  Download our Android App