प्रदेश के स्परिंटर राष्ट्रीय खेल पटल पर

By: May 31st, 2024 12:05 am

2019 की राष्ट्रीय स्कूली एथलेटिक्स में रोहित ने 400 मीटर के फाइनल में पहुंच कर भविष्य के पदक विजेता होने का परिचय दे दिया। हिमाचल में कुछ और एथलीट भी हैं…

ओलंपिक खेलों में विभिन्न खेलों की कई स्पर्धाएं आयोजित होती हैं, मगर एथलेटिक्स का आकर्षण सबसे अधिक होता है। ओलंपिक में जो धावक सौ मीटर की दौड़ में विजेता बनता है, वह पृथ्वी का तीव्रतम इनसान बनता है। हां, यह सच भी है कि सौ मीटर की दौड़ का अपना ही रोमांच होता है। हिमाचल प्रदेश में तेज गति के बहुत कम धावक व धाविकाएं आज तक सामने आए हैं। सौ मीटर से लेकर चार सौ मीटर की स्पर्धाओं को स्परिंट यानी तेज गति की दौड़ों में रखा जाता है, मगर आजकल आठ सौ मीटर की दौड़ भी बहुत तेज दौड़ी जा रही है। इन स्पर्धाओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने के लिए जहां जन्मजात स्पीड चाहिए होती है, वहीं पर बहुत अधिक स्पीड, इंडोरैंस व स्ट्रैंथ ट्रेनिंग की भी जरूरत होती है। जहां उच्च कोटि का प्रोटीन आम आदमी को आसानी से उपलब्ध होता है, वहीं के लोगों में अच्छी स्पीड जन्म से ही होती है। स्पीड को बहुत छोटी उम्र से ही विकसित करना पड़ता है। इसलिए स्पीड पर प्रशिक्षण दस वर्ष से भी कम आयु में शुरू करना पड़ता है। अगले पांच सालों में स्पीड अपने उच्च स्तर तक विकसित हो जाती है। यह भी कहा जाता है कि स्परिंटर पैदा होते हैं, बनाए नहीं जाते। भारत के अधिकतर स्परिंटर समुद्र तट से संबंध रखते हैं। मछली इन लोगों का मुख्य आहार है। मछली में अच्छी गुणवत्ता का प्रोटीन मिलता है। उत्तर भारत में शाकाहारी अधिक हैं, मगर गेहंू, दूध व उससे बने पदार्थों में भी अच्छी क्वालिटी का प्रोटीन मिलता है। यह भी कारण है कि पंजाब, हरियाणा व पश्चिमी उत्तर प्रदेश से भी समय-समय पर अच्छे स्परिंटर मिलते रहते हैं। हिमाचल प्रदेश से वरिष्ठ राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में पुष्पा ठाकुर ही एकमात्र उदाहरण है जो हिमाचल प्रदेश के लिए 400 मीटर में पदक विजेता है।

एशिया व ओलंपिक खेलों के राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविरों तक पहुंचने वाली इस धाविका के बाद अभी तक कोई भी पुरुष या महिला हिमाचल प्रदेश के लिए वरिष्ठ राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में कोई भी एथलीट पदक नहीं जीत पाया है। पिछले सप्ताह हुए वरिष्ठ राष्ट्रीय फेडरेशन कप में हिमाचल प्रदेश के अंकेश चौधरी ने आठ सौ मीटर में स्वर्ण पदक जीता है। राष्ट्रीय स्तर पर पारस दौ सौ मीटर को 22 सैकिंड से नीचे 21.56 सैकिंड में दौडऩे वाला पहला हिमाचली हो गया है। इस उभरते एथलीट को नौकरी की बहुत जरूरत है। सरकार को इस समय सहायता करनी चाहिए, नहीं तो पलायन तय है। हिमाचल प्रदेश में पहली बार राजकीय महाविद्यालय हमीरपुर के धावक अशोक ठाकुर ने हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय अंतर महाविद्यालय एथलेटिक्स प्रतियोगिता 1994 सुंदरनगर में पहली बार हिमाचल प्रदेश की धरती पर सौ मीटर की दौड़ को 11 सैकिंड से नीचे 10.9 सैकिंड में दौड़ कर वह तीव्रतम धावक बना था। उसके साथ हमीरपुर के राजेश ठाकुर ने भी 11 सैकिंड से नीचे दौड़ कर रजत पदक जीता था। 2012-13 में राजकीय महाविद्यालय हमीरपुर के विद्यार्थी धावक रोहित चौहान ने हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय अंतर महाविद्यालय एथलेटिक्स प्रतियोगिता में अशोक ठाकुर के रिकॉर्ड को तोडक़र 10.83 सैकिंड का नया कीर्तिमान बनाया था। वर्ष 2019 में राजकीय महाविद्यालय धर्मशाला के धावक पारस ने रोहित के रिकॉर्ड को तोड़ा है। हिमाचल प्रदेश पुरुष वर्ग का रिकॉर्ड 10.40 सैकिंड में हमीरपुर के धावक संदीप ने हिमाचल प्रदेश मिनी ओलंपिक 2017 में बनाया है। हिमाचल प्रदेश महिला वर्ग में हमीरपुर की पुष्पा ठाकुर ने पहली बार सौ मीटर दौड़ को 12 सैकिंड से नीचे हिमाचल प्रदेश मिनी ओलंपिक 2004 मंडी में 11.96 सैकिंड में दौड़ कर नया राज्य रिकॉर्ड बनाया था। हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय का रिकॉर्ड हमीरपुर की सोनिका शर्मा के नाम 12.23 सैकिंड अकिंत है। हमीरपुर की ही रिशु ठाकुर ने राष्ट्रीय महिला खेलों की 100 मीटर दौड़ के फाइनल में पहुंच कर चौथा स्थान प्राप्त किया है।

200 मीटर की दौड़ में राजकीय महाविद्यालय हमीरपुर की धाविका प्रोमिला ने राष्ट्रीय महिला खेल रायपुर 2006 में 100 मीटर में रजत व 200 मीटर की दौड़ में हिमाचल के लिए कांस्य पदक जीता था। अंतर विश्वविद्यालय एथलेटिक्स बंगलूरु 2006 में 100 मीटर में चौथा तथा 200 मीटर की दौड़ को 24.93 सैकिंड में दौड़ कर रजत पदक जीता था। प्रोमिला 2010 राष्ट्रमंडल खेलों के लिए लगे प्रशिक्षण शिविर में रही है। राजकीय महाविद्यालय हमीरपुर की ज्योति ने अंतर विश्वविद्यालय एथलेटिक्स प्रतियोगिता 2013 पटियाला में 400 मीटर की दौड़ में कांस्य पदक जीता था। 2012 की राष्ट्रीय महिला खेलों में ज्योति ने 400 मीटर की दौड़ में रजत पदक जीता था। धर्मशाला साई खेल छात्रावास की धाविका रिचा शर्मा ने 2015 राष्ट्रीय महिला खेलों की 200 मीटर दौड़ में रजत पदक जीता है। पिछले शिक्षा सत्र में मंडी की कुसुम ठाकुर ने हिमाचल प्रदेश के रिकॉर्ड में बड़ा सुधार करते हुए अंतर विश्वविद्यालय खेलों में 100 व 200 मीटर की दौड़ों में हिमाचल के लिए पदक जीते हैं। हमीरपुर की प्रिया ठाकुर ने अंतर विश्वविद्यालय खेलो इंडिया में 400 मीटर की दौड़ में कांस्य पदक जीता है तथा 4 गुणा 400 मीटर रिले में हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय टीम ने भी कांस्य पदक जीता है।

हमीरपुर की ही मनीषा भी 400 मीटर में अच्छा प्रदर्शन कर रही है। 20 वर्ष आयु वर्ग में हमीरपुर के विजय कुमार शर्मा ने पहली बार 1981 में राष्ट्रीय स्तर पर हिमाचल प्रदेश के लिए कांस्य पदक 400 मीटर में जीता था। 1985 में सोलन महाविद्यालय के अमरीश जौली ने 400 मीटर दौड़ में अंतर विश्वविद्यालय एथलेटिक्स प्रतियोगिता के फाइनल तक पहुंच बनाई थी। 2005 में हमीरपुर महाविद्यालय का अनिल शर्मा भी अंतर विश्वविद्यालय एथलेटिक्स प्रतियोगिता में 200 मीटर दौड़ के फाइनल में पहुंच गया था। 2019 की राष्ट्रीय स्कूली एथलेटिक्स में रोहित ने 400 मीटर के फाइनल में पहुंच कर भविष्य के पदक विजेता होने का परिचय दे दिया। मेरठ में आयोजित नार्थ जोन एथलेटिक्स प्रतियोगिता में अंबिका राणा ने साठ मीटर की दौड़ में कांस्य पदक जीता है। यही गिनती के हिमाचली हैं जो तेज गति की दौड़ों में हिमाचल प्रदेश को थोड़ी-बहुत पहचान दिला पाए हैं। भविष्य में उभरती प्रतिभाओं से अपेक्षा है कि वे अपने-अपने प्रशिक्षकों के साथ बढिय़ा प्रशिक्षण कार्यक्रम बनाकर हिमाचल व देश को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गौरव दिलाएं।

भूपिंद्र सिंह

अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक

ईमेल: bhupindersinghhmr@gmail.com


Keep watching our YouTube Channel ‘Divya Himachal TV’. Also,  Download our Android App