स्वच्छता के बहुपक्षीय निहितार्थ

Oct 11th, 2019 12:07 am

प्रो. एनके सिंह

अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार

जैसा कि मैंने अपने शोध और किताब ‘ईस्टर्न एंड क्रास कल्चरल मैनेजमेंट’ में निष्कर्ष निकाला है कि भारत ‘चलता है’ वर्क कल्चर से ग्रस्त है। पुराने दिन अच्छे थे जब समुदाय ने गांव और तालुका काम करने के लिए काम किया था, जब हमने अपने तालाबों और कुंडों की सफाई की या बारिश के प्रबंधन के लिए अपने नालों की सफाई की। हमें समाज के प्रति अपने कर्त्तव्यों को समझते हुए अपना काम करना है, बजाय इसके कि हम सरकार का इंतजार करते रहें। लेकिन हमने काम को भागों व मूल्यों को टुकड़ों में बांट दिया है। स्वच्छता अभियान का मतलब है एक स्वच्छ समाज के लिए कार्य करने का नया नजरिया। इसमें बौद्धिक सफाई तथा भ्रष्टाचार का उन्मूलन भी शामिल है। इसलिए यह सभी का काम है…

जिस दिन हमने गांधी जयंती अपने हाथों में झाड़ू लेकर स्वच्छता के साथ मनाई, मेरे मन में कई सवाल आए। जब मैंने 350 की आबादी वाले एक ग्रामीण इलाके में स्थानीय विद्यालय का दौरा किया, तो मुझे देश की ‘ग्रास रूट्स’ का अनुभव था, जिस पर सामान्य रूप से कोई ध्यान नहीं देता है। सुबह के समय मैं स्वच्छता के लिए झाड़ू के साथ उच्च विद्यालय के छात्रों के एक समूह से मिला। मुझे लगा कि यह बहुत अच्छा है कि यह गांव पहले गांधी जी और अब मोदी जी के आह्वान पर जाग गया है। वे कैसे जाग गए, जबकि वे अपनी कंपाउंड वॉल के बगल में पड़े कचरे को साफ  करने के लिए कभी सहमत नहीं थे। मैंने उन्हें बधाई देने के लिए अगले दिन स्कूल का दौरा किया, लेकिन मुझे पता चला कि उनके पास अपने वरिष्ठों से ऐसा करने का निर्देश था और यह अंत है क्योंकि वे हर दिन इस तरह से सफाई नहीं करेंगे। मैंने उन्हें जापानी स्कूलों के छात्रों के बारे में बताया जो अपने शिक्षकों के साथ, अपने स्कूलों को हर दिन साफ  करते हैं। वे हंसे और मुझे बताया कि यह उनका काम नहीं है। लेकिन जब मैंने उनसे सवाल किया कि अब स्कूल के बगल में बहुत सारा कचरा क्यों पड़ा हुआ है तो उन्होंने बड़े आराम से कहा ‘चलता है जी’। मेरे हठ पर उन्होंने मुझे बताया कि निर्देश हैं कि केवल ‘फर्स्ट यूज प्लास्टिक’ को साफ करना है, बाकी सब कुछ अछूता है।

मैंने उनसे पूछा कि उन्होंने पंचायत से क्यों नहीं पूछा और गांव इसमें क्यों नहीं शामिल हुए, तो जवाब मिला कि पंचायत द्वारा कुछ भी नहीं किया गया था क्योंकि जाहिर है कि उनके पास आदेश नहीं थे। मैं इस कहानी को ग्रामीण इलाकों में प्रचलित विशिष्ट दृष्टिकोण को चित्रित करने के लिए कह रहा हूं। गांधी जी ने स्वच्छता के लिए बहुत चिंता व्यक्त की थी और यहां तक कि जमीन खोदकर ठोस कचरे के लिए खाइयों को हटाने के लिए भी तैयार किया था, जहां पृथ्वी ने इसे ढंकने में मदद की। उन्होंने स्वच्छता के लिए व्यापक जुनून दिखाया था। वह एक सुधारक थे, जिन्होंने स्वच्छता के तरीके दिखाए और इनका संपूर्ण तरीके से प्रचार नहीं किया। जब मोदी ने इस मिशन को अपनाया तो उन्होंने लाल किले से इसके महत्त्व के बारे में बताया। मुझे लगा कि उन्हें शौचालय के बजाय महत्त्वपूर्ण मुद्दों पर बोलने के बारे में सोचना चाहिए था। मैं गलत था, जब मैंने यह महसूस किया कि स्वछता मिशन ने 9.16 करोड़ रुपए से शौचालयों का निर्माण किया। यह एक शौचालय क्रांति थी और वह इसके लिए बिल गेट्स से सम्मानित होने योग्य थे। मल त्याग के लिए खेतों में जाना महिलाओं के लिए एक बड़ी शर्मिंदगी थी। अब मेरे छोटे से गांव में भी मुझे लगता है कि जिन घरों में पहले खेत प्रयोग में हुआ करते थे, वहां शौचालय बना दिए गए हैं। जबकि गांधी ने स्वच्छता की शिक्षा दी, वह मोदी ही हैं जिन्होंने इसे अपने व्यवहार और संगठनात्मक कार्यों में विस्तार किया। मोदी ने देश में शौचालय बनाने के लिए प्रचुर मात्रा में ऋण प्रदान किया। मोदी ने लाल किले जैसे ऊंचे चबूतरे से भी शौचालय के बारे में बात करने के लिए सम्माननीयता लाकर लोगों के नजरिए को बदल दिया, यहां तक कि हिंदी फिल्में भी इस बदलाव से निपटने के लिए बनाई गईं। फिर भी सफाई के लिए गंदगी के इलाज के मनोवैज्ञानिक पहलू को अभी तक स्वीकार नहीं किया गया है। उदाहरण के लिए विभागीयकरण के लिए अभी भी नौकरशाही है। फिर भी लोग इस बारे में बात करते हैं कि यह मेरा काम नहीं है, यह उनका काम है, जबकि हम सभी को बिना किसी हिचक के स्वच्छता मिशन में शामिल होना चाहिए।

गांधी जी ने स्वच्छता को जातीय राजनीति से बाहर रखा और मोदी ने इसे जाति, पंथ, धर्म या वर्ग की सार्वभौमिक चिंता के रूप में लिया। स्वच्छता एक महान मिशन है जो जाति-वर्ग समानता जैसे कई महान मूल्यों का प्रतीक है। सफाई के लिए सभी को टीम की तरह शामिल होना पड़ेगा। मैं समझ नहीं पा रहा था कि शिक्षक सरपंच के पास क्यों नहीं जा सकता है? और उसे साथ लेकर गांव में शामिल होने को कह सकता है। यह केवल आदेश का पालन करना नहीं था, बल्कि धर्म की मूल्य प्रणाली का पालन करना भी था। वह ‘फर्स्ट यूज प्लास्टिक’ से निपटने के बजाय कचरा क्यों नहीं एकत्र कर सकते थे? क्या स्वच्छता उनके मूल्य के लिए थी या केवल सरकार का आदेश था। जैसा कि मैंने अपने शोध और किताब ‘ईस्टर्न एंड क्रास कल्चरल मैनेजमेंट’ में निष्कर्ष निकाला है कि भारत ‘चलता है’ वर्क कल्चर से ग्रस्त है। पुराने दिन अच्छे थे जब समुदाय ने गांव और तालुका काम करने के लिए काम किया था, जब हमने अपने तालाबों और कुंडों की सफाई की या बारिश के प्रबंधन के लिए अपने नालों की सफाई की। हमें समाज के प्रति अपने कर्त्तव्यों को समझते हुए अपना काम करना है, बजाय इसके कि हम सरकार का इंतजार करते रहें। लेकिन हमने काम को भागों व मूल्यों को टुकड़ों में बांट दिया है। स्वच्छता अभियान का मतलब है एक स्वच्छ समाज के लिए कार्य करने का नया नजरिया। इसमें बौद्धिक सफाई तथा भ्रष्टाचार का उन्मूलन भी शामिल है। इसलिए यह सभी का काम है।

ई-मेल : singhnk7@gmail.com

Himachal List

Free Classified Advertisements

Property

Land
Buy Land | Sell Land

House | Apartment
Buy / Rent | Sell / Rent

Shop | Office | Factory
Buy / Rent | Sell / Rent

Vehicles

Car | SUV
Buy | Sell

Truck | Bus
Buy | Sell

Two Wheeler
Buy | Sell

Polls

क्या आप स्वयं और बच्चों को संस्कृत भाषा पढ़ाना चाहते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...

Miss Himachal Himachal ki Awaz Dance Himachal Dance Mr. Himachal Epaper Mrs. Himachal Competition Review Astha Divya Himachal TV