विपक्ष बचाओ गठबंधन की जरूरत

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार दिन-प्रतिदिन विपक्ष की संख्या में कमी आ रही है। संख्या के साथ-साथ उनके प्रभाव और रौब में भी कमी आ रही है। सिर्फ संख्या में कमी ही नहीं आ रही है, बल्कि बड़े पैमाने पर सीटें व…

हम भारतीय कितने गरीब हैं

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार बेशक गरीबों तक पहुंचाने के लिए कल्याणकारी योजनाओं का निर्माण होता रहा है तथा हम आगे की ओर कछुआ चाल से बढ़े हैं। कुछ अवसरों पर हमने मनरेगा से धन का आवंटन किया जो कि अस्थायी काम पैदा करता है…

वंशवादी राजनीति की घटती शक्ति

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार इस परंपरा के कारण कांग्रेस में किसी अन्य को उभरने का कोई मौका नहीं मिल पाया। उधर नरेंद्र मोदी, जो कि परिवारवादी राजनीति के खात्मे के लिए कृतसंकल्प हैं, चुनाव में फिर से जीत हासिल करके दमदार…

कांग्रेस की अंदरूनी लड़ाई घातक

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार मैंने जब कांग्रेस के राज्य बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ से इस्तीफा दिया था तो सोनिया गांधी को लिखा था कि पार्टी में ग्रास रूट कैडर के विकास की सख्त जरूरत के साथ यह भी जरूरत है कि इसमें विचार-विनिमय…

राजनीति में युगांतरकारी बदलाव

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार बड़े स्तर पर मुसलमानों ने भी मोदी के पक्ष में मतदान किया, जिन्होंने राजनीति के गांधी मॉडल के स्थान पर मोदी मॉडल स्थापित करने में अहम भूमिका निभाई। इस बात में कोई आश्चर्य नहीं है कि यूपी में…

इस चुनाव के अनसुलझे मसले

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री के लिए ‘चौकीदार चोर है’ का नारा देकर सबसे बुरा नारा गढ़ने का काम किया। इसी नारे पर जब बच्चों ने शोरोगुल किया तो नारे पर हंसकर प्रियंका गांधी ने भी…

दिल्ली है भारत का दिल

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार दिन की समाप्ति के साथ मैं इस बात से हैरान हो गया जब कांग्रेस के कट्टर समर्थकों तक ने माना कि कांग्रेस को दो सीटें मिलेंगी तथा बाकी सभी सीटें एनडीए को चली जाएंगी। मेरा अपना अनुमान भी यह था कि…

चुनाव पर भविष्यवाणी के खतरे

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार अब चुनाव में एक और विवाद उभर कर सामने आया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनाव रैलियों में राजीव गांधी को सर्वाधिक भ्रष्ट प्रधानमंत्री कहा है, जबकि कोर्ट द्वारा उन्हें बरी किया जा…

मोदी की सुनामी में डूबता विपक्ष

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार कुल मिलाकर भाजपा को अपने दम पर 290 सीटें मिल सकती हैं,जबकि एनडीए को कुल तीन सौ से ज्यादा सीटें मिल सकती हैं, जो 320 से 330 सीटें भी हो सकती हैं। कांग्रेस के दुष्प्रचार के बावजूद मोदी इस…

छोटे राज्यों की वैयक्तिक राजनीति

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार राज्य को कुछ चुनिंदा क्षेत्रों में काम करने के लिए एक्शन प्लान बनाने की जरूरत है। मिसाल के तौर पर नंबर-1. पर्यावरण संरक्षण, 2. ईको फ्रेंडली इंडस्ट्री, 3. पर्यटन, 4. जॉब्स उपलब्ध करवाने के…

चुनाव प्रचार में नैतिक सड़ांध

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार कई बार ऐसा देखने में आया कि बेशर्मी के साथ मनघड़ंत खबरें फैलाई गईं। मिसाल के तौर पर अरविंद केजरीवाल ने कुछ लोगों के खिलाफ ऐसे गंभीर आरोप लगाए जिन्हें वह प्रमाणित नहीं कर पाए। बाद में…

वाराणसी में चंदन की खुशबू

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार कुछ ऐसे भी आलोचक हैं जो कहते हैं कि गंगा अभी भी साफ नहीं है तथा न ही वह गंदगी से मुक्त है। यह सत्य है कि गंगा का पानी धीरे-धीरे साफ हो रहा है, किंतु यह पूरी तरह साफ नहीं है क्योंकि अभी इस…

लोकतंत्र और संस्थानों की रक्षा

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार अगर कोई है जिसने संस्थानों की स्वतंत्रता को नष्ट किया है तथा उनकी कार्यशैली को कुप्रभावित किया है, तो यह पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बैनर्जी हैं। उन्होंने विपक्ष को रैलियां करने की…

कीचड़ से सना मोदी का विरोध

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार इसी लेट-लतीफी के कारण गोवा कांग्रेस के हाथ से निकल गया। उत्तरप्रदेश में महागठबंधन नहीं होना कांग्रेस के लिए चिंताजनक है क्योंकि सपा-बसपा ने गठजोड़ करते हुए उसे इससे बाहर ही रखा। उधर कर्नाटक…

सियासी परिदृश्य में महागठबंधन

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार मोदी को रोकने के लिए अथवा भाजपा को पछाड़ने के लिए कांग्रेस ने महागठबंधन बनाने की अवधारणा की परिकल्पना की थी, परंतु यह अभी तक अस्तित्व में नहीं आ पाया है। उधर भाजपा ने, जिसने इस तरह के…