देश का चरित्र बदलने वाले नेता

Nov 22nd, 2019 12:07 am

प्रो. एनके सिंह

अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार

टीएन शेषन, पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त का हाल ही में चेन्नई में उनके घर पर निधन हो गया और उनके अंतिम संस्कार में लगभग एक दर्जन लोग शामिल हुए। मीडिया ने भी उनके बारे में बहुत कम जानकारी दी। शेषन भारत की चुनाव प्रणाली के एक महान, सरल और गतिशील सुधारक थे। 1932 में चेन्नई में जन्मे शेषन ने इस महीने ही अंतिम सांस ली। उनकी पत्नी की पहले ही मौत हो गई थी और उनकी कोई संतान भी नहीं थी…

भगवद गीता से गूंजता है-यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत, अभ्युत्थान धर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम। भावार्थ- हे, भारत! जब-जब धर्म की हानि और अधर्म की वृद्धि होती है, तब-तब ही मैं अपने रूप को रचता हूं। अर्थात साकार रूप से लोगों के सम्मुख प्रकट होता हूं। मैं भविष्य में स्पष्ट रूप से देखता हूं कि कब मोदी को ऐसे सुधारक का सम्मान दिया जाएगा, जो पतन से ऊंचाई पर पहुंचा और उस भ्रष्टाचार को साफ  कर दिया, जिसमें देश डूब गया था। आम तौर पर एक नेता का निधन उनके आजीवन योगदान का आकलन करने का अवसर देता है। यहां तक कि जीवन में भी ऐसे लोग सम्मान प्राप्त करते हैं। ऐसे लोगों की अंतिम झलक देखने लायक होती है। बहुत से लोग अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए आते हैं और अपने स्वयं के क्षेत्रों में गौरव प्राप्त करते हैं, लेकिन उन्हें जीवन में या उसके बाद भी वह हासिल नहीं होता है।

टीएन शेषन, पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त का हाल ही में चेन्नई में उनके घर पर निधन हो गया और उनके अंतिम संस्कार में लगभग एक दर्जन लोग शामिल हुए। मीडिया ने भी उनके बारे में बहुत कम जानकारी दी। शेषन भारत की चुनाव प्रणाली के एक महान, सरल और गतिशील सुधारक थे। 1932 में चेन्नई में जन्मे शेषन ने इस महीने ही अंतिम सांस ली। उनकी पत्नी की पहले ही मौत हो गई थी और उनकी कोई संतान भी नहीं थी। मेरे लिए उन्हें एक दोस्त के रूप में जानना एक सम्मान की बात थी और हमने सामान्य मूल्यों और सोच को आपस में साझा किया। जब मैं नेशनल शिपिंग बोर्ड का चेयरमैन था, मेरा कार्यालय संसद मार्ग पर था और वह निर्वाचन भवन में मुख्य चुनाव आयुक्त के रूप में बैठे थे जो मेरे कार्यालय से कम पैदल दूरी पर था। हम अकसर मिला करते थे और विचारों और दर्शन का आदान-प्रदान किया करते थे। वह एक कट्टर हिंदू थे और एक ऐसे व्यक्ति के मूल्यों का अभ्यास करते थे, जो उनके सूत्र को महत्त्व देते थे। जब टीएन शेषन ने कार्यभार संभाला तो आयोग की पूरी अवधारणा बदल गई। उन्होंने चुनाव प्रक्रिया में पूरी पारदर्शिता लाई, जो कुप्रथाओं और भ्रष्टाचार के दलदल में धंस गई थी। उन्होंने चुनावों के लिए नियमबद्ध प्रणाली को अपनाया, जबकि इससे पहले कोई राजनेताओं के प्रकोप के डर से हिम्मत नहीं करता था। शेषन को परेशान नहीं किया गया क्योंकि वह अपने कार्यालय की सुरक्षा के साथ दृढ़ थे, जिसे संवैधानिक प्रावधानों के कारण आसानी से हिलाया नहीं जा सकता था।

उन्होंने चाइना शॉप में एक बैल की तरह अभिनय किया और चुनावी नियमों की शिष्टता के प्रति लापरवाह व्यवहार को रोक दिया। 1993 में गलत जानकारी देने के लिए उन्होंने 14,000 उम्मीदवारों को अयोग्य घोषित किया था। उन्होंने कदाचार के कारण बिहार और पंजाब के चुनाव रद्द कर दिए। राजनेता हमेशा उनके सामने आने से कतराते थे और उनके साथ पारदर्शिता से समझौता करने के लिए कोई छूट नहीं मिली। वह उन लोगों के लिए आतंक बन गए थे जिन्होंने सोचा था कि वे शासक थे और व्यक्तिगत लाभ के लिए नियम तोड़ने के लिए उनसे मिल सकते थे। सरकार में उनके सहयोगी भी उनसे काफी सावधान थे और निजी तौर पर उन्हें प्रतिकूल राय देते थे। उन्हें अपने समुदाय अर्थात प्रशासनिक सेवा में ‘ए बुल डॉग’ की संज्ञा से बुलाया गया। एक बार मैंने उनसे कहा कि दूसरे क्या सोचते हैं और उन्होंने मुझे यह बताते हुए हंसाया कि वह पहले से ही उनकी छटपटाहट का आनंद लेते हैं, लेकिन मुझे लगता है कि उनके अंदर अपने वर्ग के नौकरशाहों के लिए गुस्सा था जिन्हें वह ‘वेश्या’ कहते थे। मैं एक अंग्रेजी दैनिक के लिए एक कॉलम लिखता था और मैंने इसका उल्लेख किया। उठ गया यह तूफान बाद में शांत हो गया और यहां तक कि उनके सेवा संघ ने भी इसका विरोध किया, लेकिन उन्होंने इसे हंसी में उड़ा दिया। जब मैं उनसे मिला तो मैंने उनसे पूछा कि उनके खिलाफ  विरोध कैसे चल रहा है। उन्होंने गंभीर टिप्पणी की कि ‘अब वेश्याएं मुझसे दुखी हैं’। मैं हैरान था और उनसे इसका कारण पूछा। उन्होंने टिप्पणी की कि वे कहते हैं कि वे काम करते हैं और धन प्राप्त करते हैं, लेकिन आपने हमारी तुलना ऐसे लोगों से की है जो धन प्राप्त करते हैं, लेकिन कार्य नहीं करते हैं।  हम दोनों की एक हार्दिक हंसी थी। उन्होंने सिद्धांतों के साथ समझौता करते हुए चलने वाली जी-हजूरी की हमेशा निंदा की। मैंने प्रबंधन सिखाने के लिए एक रचनात्मक विद्यालय ‘फोर’ की स्थापना की थी और मैंने उन्हें एक मानद विजिटिंग प्रोफेसर के रूप में आमंत्रित किया था, जिसे उन्होंने सहजता से स्वीकार कर लिया। उन्हें दूसरों को उपदेश देना अच्छा लगता था। उनके व्याख्यान युवा लड़कों और लड़कियों के लिए एक व्यवहार थे और कुछ ने इन प्रेरणाओं को वास्तविकता की झलक के रूप में पाया। उन दिनों इस तरह की पारदर्शिता और ईमानदारी ने उन युवाओं को आकर्षित किया जिन्होंने उन्हें हर बार उनके साथ रहने के लिए ‘ओवेशन’ दिया। बाद में शेषन को मैगसैसे पुरस्कार मिला और उन्हें कई मंचों पर सम्मानित किया गया।

निकम्मी नौकरशाही को सुधारने और राजनीतिक नेताओं को अनुशासित करने के लिए उनके द्वारा किए गए काम को हमेशा याद किया जाएगा। चुनाव आयोग में उनके स्मरणीय कार्य के बाद उन्हें नहीं पता था कि क्या करना है। एक दिन उन्होंने मुझे भारत के राष्ट्रपति के रूप में उनका नाम प्रस्तावित करने के लिए कहा। मुझे नहीं पता था कि इसका कोई महत्त्व है, लेकिन मैंने यह उनके लिए किया। मुझे विश्वास है कि उन्होंने कई अन्य लोगों से भी पूछा होगा। वह चुनाव लड़े और हार गए। अगर वह इस चुनाव में जीत जाते तो क्या देश में राष्ट्रपति प्रणाली की पूरी अवधारणा और कार्यप्रणाली ही बदल जाती? आखिरी बार मैं उनसे उनके पंडारा रोड स्थित आवास पर मिला था और वह दिल्ली की गर्मियों में दक्षिण भारतीय लुंगी में आधे नंगे बैठे थे। मैंने उनसे पूछा कि क्या चल रहा है, उन्होंने अपने पेट को देखा और कहा कि मैं अपनी तोंद को निहार रहा हूं।

ई-मेलः singhnk7@gmail.com

Himachal List

Free Classified Advertisements

Property

Land
Buy Land | Sell Land

House | Apartment
Buy / Rent | Sell / Rent

Shop | Office | Factory
Buy / Rent | Sell / Rent

Vehicles

Car | SUV
Buy | Sell

Truck | Bus
Buy | Sell

Two Wheeler
Buy | Sell

Polls

क्या आप स्वयं और बच्चों को संस्कृत भाषा पढ़ाना चाहते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...

Miss Himachal Himachal ki Awaz Dance Himachal Dance Mr. Himachal Epaper Mrs. Himachal Competition Review Astha Divya Himachal TV