डा. जयंतीलाल भंडारी

हम उम्मीद करें कि चिकित्सा उपकरणों एवं दवाओं के निर्माण में इस्तेमाल में आने वाले कच्चे माल के अधिक व गुणवत्तापूर्ण उत्पादन के लिए एक फरवरी को वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाले आगामी वर्ष 2022-23 के बजट में देश में लागू उत्पादन आधारित प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना के तहत अधिक आबंटन सुनिश्चित

हम उम्मीद करें कि एक ऐसे समय जब भारत का विदेशी मुद्रा भंडार ऐतिहासिक स्तर पर है, तब सरकार के द्वारा वर्ष 2022 में विदेशी मुद्रा भंडार के रणनीतिक उपयोग की उपयुक्त रणनीति बनाई जाएगी। इस परिप्रेक्ष्य में सरकार के द्वारा बुनियादी ढांचा और चिकित्सा ढांचे को मजबूत करने तथा चीन व पाकिस्तान से मिल

कृषि कानून वापस होने के बाद अब कृषि की विकास दर बढ़ाने और छोटे किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए कृषि सुधारों की जरूरत बनी हुई है। उम्मीद है कि नए बजट से इस दिशा में आगे बढ़ा जाएगा। प्राकृतिक खेती को उच्च प्राथमिकता दी जाएगी। कृषि फसलों के एमएसपी बढ़ाए जाने की नई रूपरेखा

श्रम, भूमि, कारोबार, विदेशी निवेश, कौशल, बैंकिंग और वित्तीय क्षेत्रों में घोषित किए गए सुधारों को कार्यान्वयन की डगर पर तेजी से आगे बढ़ाना होगा।  सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (एमएसएमई) को पटरी पर लाकर रोजगार बढ़ाने के अधिकतम प्रयास किए जाने होंगे। डिजिटल अर्थव्यवस्था के लाभ लेने के लिए डिजिटलीकरण के बुनियादी ढांचे को

हम यह भी उम्मीद करें कि जिस तरह प्रवासी चीनियों ने कोई तीन दशक पहले अपनी कमाई हुई दौलत चीन में लगाकर चीन की चमकीली तस्वीर बनाने में अहम भूमिका निभाई है, वैसी ही भूमिका अब प्रवासी भारतीयों की होगी। प्रवासी भारतीय अपना अमूल्य योगदान देते रहेंगे… हाल ही में विश्व बैंक के द्वारा जारी

निश्चित रूप से कोरोना संक्रमण और आरसेप के कारण बदली हुई वैश्विक व्यापार व कारोबार की पृष्ठभूमि में एफटीए को लेकर भारत की रणनीति में बदलाव का स्वागत किया जाना चाहिए। अब भारत दुनिया के विभिन्न देशों के साथ नए सीमित दायरे वाले मुक्त व्यापार समझौतों की डगर पर और तेजी से आगे बढ़ेगा। विदेश

हम उम्मीद करें कि 9 दिसंबर को किसान आंदोलन की समाप्ति और किसानों की घर वापसी के बाद अब प्रधानमंत्री मोदी के द्वारा गठित की जाने वाली कृषि विकास कमेटी के रणनीतिक कदमों से नए कृषि सुधारों के साथ कृषि विकास का ऐसा नया अध्याय लिखा जाएगा, जिससे छोटे किसानों के चेहरे पर नई मुस्कुराहट

हम उम्मीद करें कि देश में बहुआयामी गरीबी, भूख और कुपोषण खत्म करने के लिए प्रधानमंत्री के द्वारा घोषित नई योजनाओं, सामुदायिक रसोई व्यवस्था तथा पोषण अभियान-2 को पूरी तरह कारगर व सफल बनाया जाएगा। हम उम्मीद करें कि राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण 2019-20 के पांचवें दौर के अंतिम परिणामों के आधार पर जब आगामी

न्यूनतम वैश्विक कारपोरेट टैक्स से टैक्स हेवन देशों में हो रही मनी लॉन्ड्रिंग और कर चोरी जैसी आर्थिक बुराइयों पर न केवल लगाम लगेगी बल्कि कालाधन रोकने में भी मदद मिलेगी… हाल ही में जी-20 शिखर सम्मेलन में सदस्य देशों के बीच निष्पक्ष और प्रभावी अंतरराष्ट्रीय कर प्रणाली को लेकर ऐतिहासिक सहमति बन गई है

इस समय देश में कृषि एवं ग्रामीण विकास की मजबूती के साथ-साथ किसानों की आय बढ़ाने के चार महत्त्वपूर्ण आधार उभरकर दिखाई दे रहे हैं। एक, जन-धन योजना के माध्यम से छोटे किसानों और ग्रामीण गरीबों का सशक्तिकरण। दो, कृषि क्षेत्र में उत्पादन और उत्पादकता बढ़ाने के कार्यक्रम। तीन, कृषि संबंधी नवाचार एवं शोध से