पाठकों के पत्र

हमारे देश में बहुत से पर्व और त्योहार ऐसे भी हैं जो हमें प्रकृति से बांधने का काम करते हैं और हमें प्रकृति की रक्षा करने का संदेश भी देते हैं। पहले गणेश जी की मूर्ति को मिट्टी से बनाया जाता था और गाय के गोबर को इस पूजा में प्रयोग किया जाता था। इस

डा. भीमराव अंबेडकर प्रमुख नेता थे जिनका योगदान हमारे संविधान को बनाने में बहुत बड़ा है। वह एकमात्र ऐसे नेता थे जिन्होंने समानता, अखंडता, शिक्षा पर अधिक बल दिया और छुआछूत को समाप्त किया। अपने अंतिम भाषण में उन्होंने कहा कि संविधान कितना ही अच्छा हो सकता है, लेकिन अगर इसे लागू करने वाले लोग

स्वच्छता का लक्ष्य और स्वच्छ भारत का सपना तब तक पूरा नहीं हो सकता जब तक प्लास्टिक का प्रयोग शत-प्रतिशत बंद नहीं होता। हमारे देश में प्लास्टिक कचरा भी बढ़ता जा रहा है, कूड़े के ढेर में सबसे ज्यादा पॉलीथिन बैग ही नजर आते हैं। प्लास्टिक के कचरे को जला कर भी नष्ट नहीं किया

पिछले लगभग 15 दिनों से तालिबान और पंजशीर के बहादुर लड़ाकों के बीच भीषण लड़ाई चल रही है। अहमद मसूद और अमरुल्ला सालेह के बहादुर लड़ाकों ने तालिबान का दम घोंट दिया है। तालिबान पंजशीर में कब्जा करने की पूरी कोशिश कर रहा है। इसके विपरीत पंजशीर के लड़ाकों ने कुछ अन्य जिलों पर कब्जा

युवा अभिनेता सिद्धार्थ शुक्ला का निधन बहुत ही चौंकाने वाला है। उनका 40 वर्ष की आयु में निधन हो गया। वह एक उभरते हुए टेलीविजन अभिनेता थे। यह बहुत आश्चर्य की बात है कि एक सितारा जो अपने स्वास्थ्य के बारे में बहुत अधिक जागरूक था और नियमित व्यायाम करता था, फिर उसकी मृत्यु कैसे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार कहा था कि सरकार के प्रयासों में जब जन-भागीदारी जुड़ती है, तब उसकी शक्ति बढ़ जाती है। जन-भागीदारी से ही कर व्यवस्था को सुधारा जा सकता है। मोदी सरकार ने देश में कर प्रणाली में पारदर्शिता लाने के लिए जीएसटी जैसा कड़वा फैसला लिया था, लेकिन इसमें कुछ कमियां

दुनिया, देश, प्रदेश में खानपान के तौर तरीके बदलने लगे हैं। शादी समारोहों में भी खानपान में बदलाव आ रहा है, लेकिन हिमाचली धाम अभी भी एक पहचान बनाए हुए है। हिमाचल प्रदेश देवभूमि के नाम से भी जाना जाता है। यहां के लोग साधारण रहन-सहन और खानपान को अपनाते हैं, हालांकि धीरे-धीरे यहां पर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले कहा कि सबका साथ, सबका विकास, फिर इसमें जोड़ा गया सबका विश्वास और अब इस बार के स्वतंत्रता दिवस पर इसके साथ जोड़ा सबका प्रयास। प्रधानमंत्री को आमजन का साथ मिला और पूर्ण बहुमत से प्रधानमंत्री बनाया। प्रधानमंत्री ने अपनी पहली पारी में कुछ प्रयास किए। आमजन ने फिर इन

गरीबों को आज कई प्रकार के प्रलोभन और हर वस्तु मुफ्त उपलब्ध करवाई जा रही है। मसलन मुफ्त अनाज, बिजली, पानी की आपूर्ति भी मुफ्त की जा रही है। लाभान्वित लोगों में एक भावना पैदा हो रही है कि अगर बिना प्रयास के ही सब कुछ मुफ्त में मिल जाता है तो काम करने की