लंबी पारी न खेलने वाले की लग सकती है लॉटरी, हाइकमान के फरमान पर होगा सीएम का फैसला

By: Nov 25th, 2022 12:08 am

कांग्रेस के सत्ता में आने पर हाइकमान के फरमान पर होगा सीएम का फैसला

राकेश शर्मा — शिमला

मुख्यमंत्री की दौड़ में कांग्रेस के सियासी धड़े अब एक-दूसरे से जुडऩे लगे हैं। दिल्ली में अब तक जो तस्वीर बनी है, उसमें स्थिति काफी हद तक साफ हो चुकी है। कांग्रेस सत्ता में आती है तो होलीलाज की पसंद में कौन नेता फिट बैठेंगे, यह भी लगभग साफ ही है। हालांकि हाइकमान का फरमान सबके लिए मान्य होगा। दरअसल, कांग्रेस में इस बार ऐसे मुख्यमंत्री को अवसर मिल सकता है, जिसकी आगे की पारी लंबी न हो। अब तक के गणित के हिसाब से राजनीतिक जीवन की आखिरी पारी में उलझे वरिष्ठ नेता की लॉटरी लग सकती है। प्रदेश के दो बड़े नेताओं मुकेश अग्रिहोत्री और प्रचार समिति अध्यक्ष सुखविंद्र सिंह सुक्खू का आगामी भविष्य पूरी तरह से केंद्र के फैसले पर टिका है, जबकि पूर्व मंत्री कौल सिंह ठाकुर, रामलाल ठाकुर, आशा कुमारी और हर्षवर्धन चौहान सभी नेताओं को होलीलॉज का पूरा साथ मिल रहा है, लेकिन इनमें से आशा कुमारी और हर्षवर्धन चौहान का यह आखिरी चुनाव नहीं है।

दोनों अभी लंबी पारी खेल सकते हैं, जबकि कौल सिंह ठाकुर और रामलाल ठाकुर ज्यादातर मंचों से आखिरी चुनाव की बात करते रहे हैं। कांग्रेस भले ही परिणाम के इंतजार में बैठी हो, लेकिन रणनीति इस बात को लेकर भी हो रही है कि आगामी मुख्यमंत्री कौन होगा। दिल्ली से मिले इनपुट पर नजर डालें तो सुखविंद्र सिंह सुक्खू अभी तक अलग-अलग विधायकों और उम्मीदवारों के साथ मेलजोल करते नजर आए हैं। उन्हें अब कौल सिंह ठाकुर से टक्कर मिल रही है। कौल सिंह ठाकुर होलीलाज में प्रदेशाध्यक्ष प्रतिभा सिंह से मुलाकात कर चुके हैं। कांग्रेस सरकार बनाने की स्थिति में आती है तो सीएम की रेस में ये दोनों चेहरे आखिरी क्षणों तक बने हुए नजर आएंगे। हालांकि मुकेश अग्रिहोत्री की शुरुआत जबरदस्त रही थी, लेकिन होलीलाज से कौल सिंह ठाकुर की नजदीकियां उनके लिए मुश्किलें खड़ी कर रही हैं। बहरहाल, सीएम की रेस से भले ही नेता इनकार कर रहे हों, लेकिन सियासत में सर्वाेच्च कुर्सी का मोह छोडऩा आसान नहीं है।