रिजर्व बैंक ने डाला संकट में 

भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक रिजर्व बैंक अपनी आय में से कुछ रकम हर वर्ष रिजर्व में डाल देता है जिसे सुरक्षित रखा जाता है कि किसी संकट के समय उसका उपयोग किया जा सके। वर्ष 2012 में रिजर्व बैंक ने 27 हजार करोड़ रुपए अपनी आय में से रिजर्व…

आसमान छूती सोने-चांदी की कीमतें

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं पिछले साल अगस्त 2018 में सोने के भाव प्रति 10 ग्राम 30,000 रुपए थे और चांदी प्रति किलोग्राम 30,000 रुपए के आसपास थी। इन महंगी धातुओं की कीमतों में बढ़ोतरी के कारण मात्र एक साल के भीतर ही…

अनुच्छेद 370 का सच

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार इस अनुच्छेद को संघीय संविधान में शामिल करने के पीछे तर्क यही था कि जम्मू-कश्मीर में अभी विवाद चला हुआ है। मामला सुरक्षा परिषद में लंबित है। इसलिए अभी संघीय संविधान वहां लागू नहीं किया जाना…

सितारों के उस पार एक संसार

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार नेहरू ने साराभाई, सतीश धवन और भटनागर जैसे कई वैज्ञानिकों को प्रोत्साहित किया और बढ़ावा दिया, जिन्होंने आगे जा कर विभिन्न वैज्ञानिक अनुसंधान के अलावा अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्रों की स्थापना की।…

साई छात्रावास निर्माण में सहयोग करें 

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक प्रशिक्षक 1982 एशियाई खेलों के लिए बने स्टेडियमों के रखरखाव के लिए बने भारतीय खेल प्राधिकरण में राष्ट्रीय क्रीड़ा संस्थान का विलय हो जाने के बाद अब देश में खेलों की सबसे बड़ी संस्था साई ही है। भारतीय खेल…

लोकतंत्र की दशा-दिशा

पीके खुराना वरिष्ठ जनसंपर्क सलाहकार सन1945 में विश्व भर में कुल 12 देशों में लोकतंत्र था। बीसवीं सदी की समाप्ति के समय यह संख्या बढ़कर 87 तक जा पहुंची लेकिन उसके बाद लोकतंत्र का प्रसार रुक गया। कुछ देशों में दक्षिणपंथी…

महिलाओं का घटता श्रम 

. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक 2012 में 31 प्रतिशत एवं 2005 में 43 प्रतिशत महिलाएं कार्यरत थीं। स्पष्ट है कि बीते पंद्रह साल में कार्यरत महिलाओं की संख्या में भारी गिरावट आई है, इस विषय के दो पक्ष हैं। एक पक्ष यह है कि नई…

गरीबों के लिए अभिशाप है महंगी शिक्षा

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं 80 फीसदी से अधिक छात्र-छात्राएं मध्यम वर्गीय अथवा निम्न मध्यम वर्गीय परिवारों से आते हैं और इन सब पर जल्दी नौकरी पाने का भारी दबाव रहता है तो वहीं इनके अभिभावकों के समक्ष इनकी महंगी फीस…

लंदन में पाकिस्तानियों का प्रदर्शन

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार इंग्लैंड के नागरिकों ने भारतीय उच्चायोग पर अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के विरोध में प्रदर्शन किया और वहां तोड़-फोड़ की। ऐसा नहीं कि ब्रिटेन की सरकार को इस प्रदर्शन की सूचना नहीं थी। इसकी कई दिनों…

मोदी का वैश्विक वर्चस्व

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार सम्मान की जिस दृष्टि के साथ विश्व आज हमें देख रहा है, वह सम्मान चंद्रयान जैसी परियोजना के कारण और बढ़ गया है। जब मैंने यूएन सर्विस की यात्रा की अथवा एयर इंडिया के बोर्ड में जब मैं डायरेक्टर…

हिमाचल में फुटबाल का सफर 

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक प्रशिक्षक फुटबाल संघ का इतिहास 1974 से हिमाचल में शुरू होता है जब सुकेत के राजा ललित सेन को अध्यक्ष तथा चेतराम वर्मा को महासचिव बनाया गया था। इसी वर्ष एएन तिवारी की कप्तानी में हिमाचल प्रदेश की टीम ने रोजर…

युवा और बीमार देश का सच

पीके खुराना वरिष्ठ जनसंपर्क सलाहकार मैं जब सवेरे सैर के लिए निकलता हूं तो सैर करते हुए युवाओं को देखकर मन खुशी से भर जाता है लेकिन उनमें से बहुत से ऐसे हैं जो लंबे समय से सैर कर रहे हैं पर स्वस्थ नहीं हैं। खुद मैं भी अज्ञानता का शिकार…

क्यों गिर रहा है रुपया?

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक वर्तमान समय में जो रुपए में गिरावट आ रही है इसका एक प्रमुख कारण तेल के बढ़ते आयात हैं। हमारी ऊर्जा की जरूरतें बढ़ रही हैं और तदानुसार हमें तेल के आयात अधिक करने पड़ रहे हैं। इस समस्या को और…

सप्त-सिंधु क्षेत्र में बदलाव की नींव

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री वरिष्ठ स्तंभकार कश्मीरियों की बड़ी जातियां यह सारा खेल अनुच्छेद 370 की आड़ में खेलती थीं। लेकिन अब 370 की यह छतरी हट जाने के कारण गुज्जरों को भी उनके सभी संवैधानिक अधिकार प्राप्त हो जाएंगे। जम्मू-कश्मीर में…

कश्मीर समस्या का साहसिक समाधान

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार चूंकि भारत का संविधान जम्मू-कश्मीर के संविधान से पूरी तरह अखंडित नहीं था, इसलिए इसे लागू करने के लिए पहले एक आदेश जारी किया गया। दूसरे, बदलाव लाने की शक्ति को कायम रखने के अलावा…