घटिया खेल सामग्री में करोड़ों की बंदरबांट

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक जब सरकारी स्तर पर खेल सामान खरीदा जाता है तो कीमत बढि़या या मध्यम स्तर के सामान की होगी और सामग्री निम्न दर्जे की होगी। इस तरह कीमत उच्च क्वालिटी की तय कर शेष राशि हड़प ली जाती है। व्यापारी व…

एथलेटिक्स में बड़ा नाम जीत राम शर्मा

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक जीत राम शर्मा शिमला जिला के चौपाल उपमंडल के दूरदराज गांव पुरों डाक घर सरैन के निवासी हैं। अपनी प्रारंभिक शिक्षा चौपाल से प्राप्त करने के बाद 1987 में हिमाचल प्रदेश सचिवालय में नौकरी शुरू…

अंतरराष्ट्रीय पैनल में अंपायर वीरेंद्र शर्मा

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक 11 सितंबर 1971 को हमीरपुर जिला के ककड़ क्षेत्र के गांव पुरली में पिता स्वर्गीय रुलिया राम शर्मा व माता शकुंतला देवी शर्मा के घर जन्मे वीरेंद्र शर्मा का पालन-पोषण व शिक्षा दिल्ली में ही…

शारीरिक शिक्षा के ज्ञाता डा. आरसी कपिल

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक राकेश चंद कपिल का जन्म हमीरपुर जिला में भोरंज उपमंडल के बैरी गांव में पिता महंत राम कपिल व माता अजुध्या देवी के घर 12 दिसंबर 1951 को हुआ। पांच बहन-भाइयों में सबसे बडे़ राकेश ने प्रारंभिक शिक्षा…

खेल नीति को आकर्षक बनाएं

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक हिमाचल प्रदेश सरकार को चाहिए कि वह खेल आरक्षण से सरकारी नौकरी लगे खिलाडि़यों के लिए अपनी ट्रेनिंग लगातार जारी रखने के लिए कम से कम पांच वर्षों का समय दिया जाए ताकि वे प्रदेश व देश को पदक जीत…

एथलेटिक्स नर्सरी के बागबान केहर सिंह

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक केहर सिंह पटियाल का जन्म हमीरपुर शहर के साथ लगते गांव वारल में पिता स्वर्गीय मिलखी राम पटियाल व माता स्वर्गीय शाहवो देवी के घर 11 दिसंबर 1959 को हुआ। तत्कालीन राजकीय उच्चतर माध्यमिक बाल पाठशाला…

पटवारी भर्ती में खेल कोटे की बंदरबांट

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक खेल विभाग के आरक्षण सैल की कमेटी खिलाडि़यों की वरिष्ठता सूची तय करती है और फिर इस सूची को वापस उसके विभाग को भेजा जाता है। कैटेगरी चार के खिलाडि़यों को कमीशन या विभाग द्वारा ली गई भर्ती परीक्षा…

उत्कृष्ट प्रदर्शन को खेल छात्रावास जरूरी

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक हिमाचल प्रदेश के स्कूली लड़कों ने भी कुछ वर्ष पहले अडंर 17 वर्ष आयु वर्ग में हिमाचल प्रदेश को राष्ट्रीय स्तर पर रजत पदक हासिल किया था। स्कूल स्तर की राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में हिमाचल प्रदेश का…

क्यों प्रशिक्षण से दूर हैं प्रशिक्षक?

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक हिमाचल प्रदेश में लगातार प्रशिक्षण कार्यक्रम का कोई भी प्रावधान अभी तक नहीं बन पाया है। हिमाचल प्रदेश राज्य युवा सेवाएं एवं खेल विभाग के प्रशिक्षकों को कभी विभिन्न विभागों की भर्तियों में…

प्रदेश पुलिस खेलों के प्रति उदासीन क्यों?

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक हिमाचल प्रदेश में रह कर प्रशिक्षण प्राप्त कर राष्ट्रीय स्तर पर उत्कृष्ट प्रदर्शन करना बहुत कठिन है। यही कारण है कि राज्य में अच्छा प्रशिक्षण कार्यक्रम न होने के कारण प्रतिभाशाली खिलाड़ी अधिकतर…

अंतरराष्ट्रीय खेल ढांचे को संभालो

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक कुछ दशकों से राष्ट्रीय स्तर के खेल परिणामों में काफी उन्नति हुई है। इस का मुख्य कारण खेल ढांचे में वैज्ञानिक तकनीकी से आधुनिकीकरण है। इस बात को ध्यान में रख कर पूर्व मुख्यमंत्री प्रोफेसर प्रेम…

खेलों को खेल की भावना से खेलो

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक प्रशिक्षक खेल चाहे वह क्रिकेट का हो, फुटबाल का हो या फिर एथलेटिक्स का, सभी जगह पैसा ही सब कुछ बनता जा रहा है। इसी व्यवस्था की दौड़ में खेलों में रिश्वत, सट्टे और डोपिंग की नई शब्दावली विकसित हुई है। यह…

वरिष्ठ स्कूल एथलेटिक्स-2019

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक प्रशिक्षक जब किशोर अवस्था से युवा अवस्था की ओर आप अग्रसर हो रहे होते हैं तो इस समय हमारी शारीरिक क्षमता में काफी अंतर होता है। यह अंतर अगर छह महीने से लेकर एक वर्ष तक का हो तो भी यह खेल प्रदर्शन को काफी हद…

उत्कृष्ट खिलाडि़यों को वजीफा क्यों नहीं?

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक प्रशिक्षक भारतीय खेल प्राधिकरण अपने यहां चुनिंदा प्रतिभावान खिलाडि़यों पर सालाना औसतन दो लाख रुपए प्रति खिलाड़ी खर्च करता है। खेल छात्रवासों के अधिकतर खिलाड़ी हिमाचल को राष्ट्रीय स्तर पर पदक देने की बात तो…

खेल में है स्वस्थ पीढ़ी का भविष्य

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक प्रशिक्षक इसमें कोई संदेह नहीं कि ओलंपिक खेलों की लोकप्रियता बढ़ने के साथ-साथ खेलों में राष्ट्रीयता की भावना में बढ़ोतरी हुई है। आज अधिक से अधिक देश ओलांपिक खेलों में भाग ले रहे हैं। इसके…