प्रो. एनके सिंह

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार मैंने जब कांग्रेस के राज्य बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ से इस्तीफा दिया था तो सोनिया गांधी को लिखा था कि पार्टी में ग्रास रूट कैडर के विकास की सख्त जरूरत के साथ यह भी जरूरत है कि इसमें विचार-विनिमय को प्रश्रय दिया जाए, फीडबैक की खुली शेयरिंग  होनी चाहिए जिसकी मुझे

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार बड़े स्तर पर मुसलमानों ने भी मोदी के पक्ष में मतदान किया, जिन्होंने राजनीति के गांधी मॉडल के स्थान पर मोदी मॉडल स्थापित करने में अहम भूमिका निभाई। इस बात में कोई आश्चर्य नहीं है कि यूपी में एक महिला ने मोदी की प्रशंसा में अपने पुत्र का नाम

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार   राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री के लिए ‘चौकीदार चोर है’ का नारा देकर सबसे बुरा नारा गढ़ने का काम किया। इसी नारे पर जब बच्चों ने शोरोगुल किया तो नारे पर हंसकर प्रियंका गांधी ने भी बचकाना हरकत की। विरोधियों को आपत्तिजनक बातें कहना किसी भी तरह से विचार

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार दिन की समाप्ति के साथ मैं इस बात से हैरान हो गया जब कांग्रेस के कट्टर समर्थकों तक ने माना कि कांग्रेस को दो सीटें मिलेंगी तथा बाकी सभी सीटें एनडीए को चली जाएंगी। मेरा अपना अनुमान भी यह था कि कांग्रेस को एक सीट मिलेगी, जबकि आम आदमी

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार अब चुनाव में एक और विवाद उभर कर सामने आया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनाव रैलियों में राजीव गांधी को सर्वाधिक भ्रष्ट प्रधानमंत्री कहा है, जबकि कोर्ट द्वारा उन्हें बरी किया जा चुका है। लेकिन मोदी व शाह को भी क्लीन चिट मिल चुकी है तथा वे चोर व

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार कुल मिलाकर भाजपा को अपने दम पर 290 सीटें मिल सकती हैं,जबकि एनडीए को कुल तीन सौ से ज्यादा सीटें मिल सकती हैं, जो 320 से 330 सीटें भी हो सकती हैं। कांग्रेस के दुष्प्रचार के बावजूद मोदी इस चुनाव में सबसे शक्तिशाली नेता के रूप में उभरेंगे, जबकि

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार राज्य को कुछ चुनिंदा क्षेत्रों में काम करने के लिए एक्शन प्लान बनाने की जरूरत है। मिसाल के तौर पर नंबर-1. पर्यावरण संरक्षण, 2. ईको फ्रेंडली इंडस्ट्री, 3. पर्यटन, 4. जॉब्स उपलब्ध करवाने के लिए स्माल स्केल के इंटरप्राइज का विकास, 5. उद्योग की ओवर रेगुलेटिंग व राजनीतिकरण को

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार कई बार ऐसा देखने में आया कि बेशर्मी के साथ मनघड़ंत खबरें फैलाई गईं। मिसाल के तौर पर अरविंद केजरीवाल ने कुछ लोगों के खिलाफ ऐसे गंभीर आरोप लगाए जिन्हें वह प्रमाणित नहीं कर पाए। बाद में प्रभावित लोग न्याय के लिए अदालत में गए। जब केजरीवाल ने देखा

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार कुछ ऐसे भी आलोचक हैं जो कहते हैं कि गंगा अभी भी साफ नहीं है तथा न ही वह गंदगी से मुक्त है। यह सत्य है कि गंगा का पानी धीरे-धीरे साफ हो रहा है, किंतु यह पूरी तरह साफ नहीं है क्योंकि अभी इस दिशा में बहुत कुछ