Browsing Category

अनुज कुमार आचार्य

सैनिक स्कूल छात्रवृत्ति रोकना वाजिब नहीं

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं हिमाचल प्रदेश के निजी शैक्षणिक संस्थानों में अढ़ाई सौ करोड़ के छात्रवृत्ति घोटाले की जांच का जिम्मा तो प्रदेश सरकार ने सीबीआई को सौंप दिया है, लेकिन पिछले तीन शैक्षणिक सत्रों से सैनिक स्कूल सुजानपुर…

नशे में डूबती हिमाचल की जवानी

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं दुख तब और ज्यादा बढ़ जाता है जब हम अपनी युवा पीढ़ी को नशे का आदी बनकर उन्हें बर्बाद होते देखते हैं। हिमाचल का युवा फौज में जाकर राष्ट्र सेवा करने वाला रहा है, लेकिन आजकल सेना की भर्तियों में…

वेतन आयोग के पक्ष में जयराम सरकार

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं हिमाचल प्रदेश में सरकारी कर्मचारियों के परिवारों सहित वोटरों की संख्या काफी ज्यादा है, लिहाजा समय-समय पर प्रदेश  की सरकारें अपने कर्मचारियों के हित में फैसले लेती आई हैं। कर्मचारियों की अन्य…

धूमिल हुए ब्रॉडगेज ट्रेन में सफर के सपने

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं जोगिंद्रनगर-पठानकोट रेल ट्रैक के हवाई सर्वेक्षण के बाद उनकी उसे ब्रॉडगेज में न बदलने की घोषणा चौंकाने वाली है। बेहतर होता पहले वे कांगड़ा-चंबा और मंडी संसदीय क्षेत्रों के अपने सांसदों से राय-मशविरा…

सार्वजनिक वितरण प्रणाली में पारदर्शिता जरूरी

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं आज इन योजनाओं के व्यापक प्रचार-प्रसार की आवश्यकता है, क्योंकि अधिकतर अशिक्षित लोगों को कई योजनाओं की जानकारी ही नहीं होती है और उनको पहुंचने वाले फायदों को चोर बाजारी करने वाले लोग लूट ले जाते…

स्कूली खेलों के आयोजन की चुनौती

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं उम्मीद है सरकार इन युवाओं को खेलों में अधिकाधिक भाग लेने के लिए उचित खेल वातावरण तैयार करेगी व स्कूली खेलों के बजट बढ़ाएगी, क्योंकि स्कूली खिलाडि़यों को सुरक्षा, उचित मात्रा में शौचालय, बिस्तर व…

स्वच्छता अभियान में नागरिक सहभागिता जरूरी

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं समस्या केवल उन डस्टबिन में डाले गए कूड़े-कचरे के निपटान की है। जाहिर है इन डस्टबिन को संबंधित संस्थाओं और नागरिकों को खुद ही साफ-सुथरा भी रखना होगा। स्वच्छता मिशन में अभी भी कुछ दुश्वारियां आ रही…

जयराम सरकार के कार्यकाल में पर्यटन विकास

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं चूंकि हिमाचल प्रदेश में पर्यटन गतिविधियों के विस्तार की अपार संभावनाएं हैं, अतएव इस परियोजना के तहत युवाओं को पर्यटन व संबद्ध क्षेत्रों में रोजगार प्राप्ति हेतु प्रशिक्षित किया जाएगा। मुख्यमंत्री…

पर्यावरण संरक्षण पर निर्भर मानव जीवन

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं जैविक खाद अपनाकर सब्जियां उगानी होंगी और भोजन को व्यर्थ फेंकने से बचाना होगा। अधिक से अधिक सोलर कुकर का इस्तेमाल करना होगा और वाहन प्रदूषण को नियंत्रित रखना होगा। पानी की बूंद-बूंद बचाने तथा कपड़े…

बोझ क्यों है सैनिक स्कूल की छात्रवृत्ति

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार द्वारा पिछले 3 शैक्षणिक सत्रों 2015-16, 2016-17 और 2017-18 के लिए प्रदेश के होनहार विद्यार्थियों जो कि सैनिक स्कूल में पढ़ रहे हैं, को स्कॉलरशिप ही नहीं दी गई है। यह बेहद…

बैंकिंग घोटालों से त्रस्त पब्लिक 

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं भारत में सरकारी इदारों में भ्रष्टाचार का इतिहास वर्षों पुराना रहा है। अपने स्वार्थ एवं महत्त्वाकांक्षाओं की पूर्ति हेतु नैतिक मूल्यों एवं आदर्शों से समझौता कर सुख-सुविधाओं की पूर्ति और धन लाभ हेतु…

आयुर्वेद को मिले सरकार की संजीवनी

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं भारत में आज भी शहरी और ग्रामीण आबादी का 50 फीसदी हिस्सा निजी डाक्टरों और प्राइवेट क्लीनिक तथा अस्पतालों में महंगा इलाज करवाने के लिए अभिशप्त है। इस तथ्य के आधार पर भी लोगों को सस्ती और उचित…

खेल विश्वविद्यालय से रोजगार की डगर

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं खेल विश्वविद्यालय की स्थापना होने से हिमाचली युवाओं को प्रदेश के भीतर ही शारीरिक शिक्षा में स्नातक, स्नातकोत्तर और डिप्लोमा कोर्स करने की सुविधा मिलेगी। पहाड़ी राज्य के प्रतिभाशाली खिलाडि़यों को खेल…

पर्यटन तंत्र को संवारने की चुनौती

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं हिमाचल के प्रमुख पर्यटन केंद्रों में सस्ती पार्किंग सुविधा एवं रात्रि ठहराव की सहूलियतों में सुधार की गुंजाइश है। मनाली के एक होटल में बाहर से आए पर्यटकों को बंद करना एवं धर्मशाला में सैलानियों के…

जल संकट से जूझता हिमाचल

अनुज कुमार आचार्य लेखक, बैजनाथ से हैं आने वाले समय में पानी के लिए जंग अब अवश्यंभावी प्रतीत हो रही है, फिर भी स्वार्थी मानव अपनी प्रवृत्ति से बाज नहीं आ रहा है।  जलविद्युत परियोजनाओं के निर्माण के चलते जलधाराओं का रुख मोड़ने के कारण आज…