himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

डेट्रॉयट में निकल रही रहस्यमयी आवाजें

डेट्रॉयट शहर में बहती नदी के पास से आती रहस्यमयी आवाजों ने लोगों को दहशत से भर दिया है। कभी छोटी गड़गड़ाहट जैसी और कभी बड़े इंजन जैसी लगने वाली ये आवाजें बीते सात सालों से लोगों को परेशान किए हुए हैं। अब यह आवाजें असहनीय हैं... अगर यह कहा…

कहां से आया यह अकूत खजाना

केरल के हजारों साल पुराने पद्मनाभ स्वामी मंदिर की अकूत दौलत का रहस्य अभी तक बना हुआ है। लाख कोशिशों के बावजूद यह प्रश्न अभी तक नहीं सुलझ पाया है कि इस मंदिर के पास इतनी भारी दौलत कहां से आई। यह मंदिर भारत का सबसे अमीर मंदिर माना जाता है।…

ब्रेन स्ट्रॉक के होते हैं ये लक्षण

रक्त संचार में बाधा के कारण मस्तिष्क की कार्य प्रणाली में क्षरण होने के कारण स्ट्रॉक होता है। ऐसा या तो किसी बाधा के कारण रक्त संचार में कमी या फिर हेमरेज (रक्त स्राव) के कारण होता है। हालांकि सामान्य व्यक्ति को स्ट्रॉक के बारे में पता नहीं…

यहां मेंढक की शादी से होती है बारिश

असम के डिब्रूगढ़ के गांव में उभयचर अनुष्ठान होता है जहां मेंढक का विवाह करवाया जाता है। माना जाता है कि ऐसा करने से सूखे में भी बारिश होने लगती है। अनुष्ठान के दौरान लोग दो मेंढकों के बीच शादी समारोह का आयोजन करते हैं... भारत परंपराओं का…

क्यों होती है स्किन ऑयली

ऑयली स्किन के लिए मुख्य कारण जेनेटिक्स हैं। अगर आपके परिवार में ऑयली स्किन पाई जाती है, तो परिवार के सभी सदस्यों की ऑयली स्किन होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है। ऑयली स्किन की प्रॉब्लम किसी भी मौसम में होने लगती है। अगर सही समय…

दादी मां के नुस्खे

* बेल के पत्तों का रस सूर्योदय के समय पीने से मधुमेह में शर्करा का निष्कासन कम हो जाता है। *  नीम की कोमल पत्तियों को खाने से मधुमेह की बीमारी में लाभ होता है और चीनी की मात्रा शरीर में कम हो जाती है तथा खून साफ होता है। *  करेले का रस आधा…

मौत से भी बचा लेता है यह मंत्र

शिवयोगी ने सुमिति को महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने की सलाह दी। उन्होंने अभिमंत्रित भस्म को बच्चे के शरीर से लगाया, जिससे बच्चा जीवित हो उठा... भारत में आदिकाल से ही तंत्र-मंत्र का प्रयोग होता रहा है। अनेक प्रकार की ब्याधियों से मुक्ति के…

हैरान करता है कोणार्क मंदिर

कोणार्क मंदिर अपनी विशालता, निर्माण-सौष्ठव तथा वास्तु और मूर्ति कला के समन्वय के लिए अद्वितीय है और उड़ीसा की वास्तु और मूर्ति कलाओं की चरम सीमा प्रदर्शित करता है। एक शब्द में यह भारतीय स्थापत्य कला की महानतम विभूतियों में से एक है। मंदिर…

तेजी से बढ़ रही है पैरों की नसें सूजने की बीमारी

एक ताजा शोध में यह बात सामने आई है कि वैरिकोज वेन्स यानी पैरों की नसें सूजने की बीमारी युवाओं में चिंता का कारण बन रही है। करीब 7 प्रतिशत युवा इस स्थिति से परेशान हैं। इस रोग से महिलाओं को चार गुना अधिक खतरा रहता है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन…

फेफड़े का संक्रमण क्या है

फेफेड़े हमारे शरीर के मुख्य अंग होते हैं, जो हमारे शरीर में अहम रोल अदा करते हैं। क्योंकि जीवत रहने के लिए सांस लेना बहुत जरूरी होता है और इसके लिए हमारे फेफड़ों का सेहतमंद होना बहुत जरूरी है। आजकल की जीवनशैली और खान-पान के कारण फेफेड़ों…

क्या है इन्सेफ्लाइटिस

उत्तर प्रदेश में गोरखपुर के बाबा राघवदास मेडिकल कालेज में 35 से ज्यादा मौतों के बाद इन्सेफ्लाइटिस बीमारी सुर्खियों में है। एक रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2016 में बीआरडी मेडिकल कालेज में ही 514 मौतें इन्सेफ्लाइटिस से हुई थीं। दुर्भाग्य से मौतों…

वीर भाव दिव्य भाव का हेतु है

दिव्य भाव का साधक स्त्री जाति मात्र को महाशक्ति की मूर्ति समझता है। वेद, शास्त्र, गुरु, देवता और मंत्र में उसका दृढ़ ज्ञान है तथा शत्रु व मित्र में वह समान भाव वाला है। दूसरा भाव है वीर भाव। इस भाव में परिपूर्णता प्राप्त होने पर ही साधक…

विष्णु पुराण

तब देवताओं की बात सुनकर पितामह ने उनसे कहा-हे देवताओ! तुम दैत्यों का संहार करने वाले भगवान विष्णु की शरण में जाओ जो विश्व की सृष्टि, स्थिति और प्रलय के कारण हैं, किंतु कारण ही नहीं चराचर के स्वामी, प्रजापतियों के अधिपति, सभी प्राणियों में…

राम दर्शन को शिव बने भिक्षुक

श्रीराम का जन्म अयोध्या नगरी में होने के बाद भगवान शंकर उनकी बाल-लीलाओं का दर्शन करने के लिए अयोध्या आते और चले जाते। कभी-कभी अयोध्या में रुक भी जाते। श्रीराम के दर्शनों की अभिलाषा से कभी उन्हें ज्योतिषी तथा कभी भिक्षुक बनना पड़ता। एक बार…

श्री विश्वकर्मा पुराण

विश्वकर्मा अपनी रची हुई सृष्टि के किसी भी जीव को इस समारोह से वंचित नहीं रखना चाहते थे। इससे उन्होंने सृष्टि के सभी जीवों को निमंत्रण भेजा। इस निमंत्रण को पाकर असंख्य जीवात्माओं के टोल के टोल रात और दिन आने लगे। भगवान की आज्ञा से आने वाले…
?>