आयुर्वेदिक औषधियां

बदलती हुई जीवन शैली, शारीरिक श्रम न करना और संतुलित आहार न लेने के कारण सही वजन बरकरार रखना मुश्किल होता है। परिणामस्वरूप मोटापा बढ़ जाता है। इस मोटापे को नियंत्रित करने के लिए पुराने जमाने से चली आ रही आयुर्वेदिक औषधियां कारगर हैं।…

आत्मोन्नति की धारणा

स्वामी विवेकानंद गतांक से आगे...  अधिकांश लोगों के विषय में यही दिखाई पड़ता है कि इस पौधे की बाढ़ आगे नहीं हो पाती। किसी संप्रदाय में जन्म लेना अच्छी बात है, पर संप्रदाय में ही मर जाना दुर्भाग्य है। अध्यात्मरूपी पौधे की बाढ़ में मदद…

विष्णु पुराण

अंगुष्ठाददक्षः पूर्व जायो मया श्रुतः। कथ प्राचेतसो भयः समुत्पन्नो महामुने।। एष मे संशये ब्रह्मन्सुमहान्हृदि वर्त्तते। ददयौहित्रश्च गोमस्य पुनः श्वशूरतां गतः।। उत्पत्तिश्च निरधश्च नित्यो भतेष सर्वदा। ऋषयोऽत्र न मुह्मन्सि से चान्ये…

ध्यान किस लिए करें ?

ओशो ओशो से किसी ने एक दिन पूछा, आखिर हम ध्यान क्यों करें? ओशो बोले, ठीक पूछा है, क्योंकि हम तो हर बात के लिए पूछेंगे कि किसलिए? कोई कारण होना जरूरी है, कुछ दिखाई पड़े कि धन मिलेगा, यश मिलेगा, गौरव मिलेगा, कुछ मिलेगा, तो फिर हम कुछ कोशिश…

औषधीय गुणों से भरपूर काफल

यह जंगली फल एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण हमारे शरीर के लिए फायदेमंद है। इसका फल अत्यधिक रस युक्त और पाचक होता है। काफल कई प्राकृतिक औषधीय गुणों से युक्त होता है। यह न सिर्फ  गर्मी से राहत देता है बल्कि सेहत के लिए भी लाभदायक होता है। सिर्फ …

भगवान शिव की उपासना का फल

भद्रायु ने अपने पिता के शत्रुओं पर आक्रमण कर उन्हें मार भगाया और राज्य को अपने अधीन कर अपने पिता को बंदी गृह से मुक्त किया। इसका यश चारों ओर फैल गया। भद्रायु ने वर्षों तक सुखपूर्वक राज्य किया... -गतांक से आगे... मृत्युंजय मंत्र की महिमा…

प्रतीक उपासना

श्रीराम शर्मा प्रतीक उपासना की पार्थिव पूजा के कितने ही कर्मकांडों का प्रचलन है। तीर्थयात्रा, देवदर्शन, स्तवन, पाठ, षोडशोपचार, परिक्रमा, अभिषेक शोभायात्रा, श्रद्धांजलि, रात्रि-जागरण, कीर्तन आदि अनेकों विधियां विभिन्न क्षेत्रों और वर्गों…

टूथपेस्ट के अनेक फायदे

टूथपेस्ट से दांत साफ  करने के बारे में तो हर कोई जानता है और हर कोई साफ  करता भी है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि टूथपेस्ट का इस्तेमाल हम अपने रोजमर्रा के कार्यों में भी कर सकते हैं। आइए जानें टूथपेस्ट के विभिन्न उपयोगों के बारे में।…

जानिए दस सिर वाले रावण के रहस्य

एक बार रावण ने एक सुंदर अप्सरा को देखा। वो अप्सरा नल कुबेर की प्रेयसी थी। रावण ने उस अप्सरा को अपनी राक्षसी प्रवृत्ति का शिकार बना डाला। नल कुबेर ने रावण को श्राप दिया कि यदि वो किसी भी स्त्री को उसकी इच्छा के विरुद्ध छुएगा तो उसके मस्तक के…

कृष्ण का अर्जुन को संदेश

महेश योगी यह अर्जुन के अपरिहार्य गुण का प्रतीक है। गुणाकेश का अर्थ है निद्रा का राजा। वह जिसका निद्रा पर बुद्धि पर जड़ता पर आधिपत्य है। इस शब्द से अर्जुन के बुद्धि की एकाग्राता व्यक्त होती है। कभी विफल न होने वाले धनुर्धर के रूप में अर्जुन…

संसार के श्रेष्ठ धनुर्धर द्रोणाचार्य

द्रुपद  उस समय ऐश्वर्य के मद में चूर थे। उन्होंने द्रोण से कहा, तुम मूढ़ हो, पुरानी लड़कपन की बातों को अब तक ढो रहे हो, सच तो यह है कि दरिद्र मनुष्य धनवान का, मूर्ख विद्वान का तथा कायर शूरवीर का मित्र हो ही नहीं सकता। द्रुपद  की बातों से…

इंद्रियों पर ध्यान

श्रीश्री रविशंकर ज्यादा जरूरी क्या है वस्तुएं, इंद्रियां, मन या बुद्धि? इंद्रिय के साधन से इंद्रियां अधिक जरूरी हैं। टेलीविजन से तुम्हारी आंखें अधिक जरूरी हैं, संगीत या ध्वनि से तुम्हारे कान अधिक जरूरी हैं। स्वादिष्ट खाद्य पदार्थों या आहार…

आप श्रद्धा दें, पितर शक्ति देंगे

-गतांक से आगे... आवश्यकता है मन को संकीर्ण सीमाओं के बंधनों से मुक्त करने की। ऐसा करने पर पानी में तेल की बूंद की तरह प्रत्येक व्यक्ति की अनुभव-संवेदना का क्षेत्र दूर तक फैल जाता है। सामान्यतः अपने शरीर और मन की दीवारों से टकरा-टकराकर ही…

बाहर के खाने से करें परहेज

बाहर का खाना ज्यादा तैलीय और कैलोरी वाला होता है, जिसे खाने से आप बीमारियों को बुलाते हैं। बाहर के खाने से पेट से जुड़ी कई बीमारियां शुरू हो जाती हैं। गर्मियों में फूड प्वाइजनिंग होने की संभावना ज्यादा होती है। इसके अलावा अशुद्ध खाने से…

ये हैं भारत के सबसे बड़े दस अनसुलझे सवाल

यह एक सवाल है कि क्या वास्तव में ताजमहल ही तेजोमहालय है? अगर यकीन मानें तो यह महान इमारत जयपुर के राजा के अधीन थी और जब शाहजहां ने इसे जबरन अपने अधीन किया तो इसमें कुछ बदलाव कर इसे एक मकबरे की शक्ल दे दी गई... भारत एक ऐसा विशाल और प्राचीन…