Browsing Category

अपनी माटी

हिमाचल में धड़ाधड़ लगेंगे किसान मेले, बिलासपुर से होगा आगाज

कृषि मंत्री रामलाल मार्कंडेय हिमाचल में जल्द ही धड़ाधड़ किसान मेले लगने जा रहे हैं। इन किसान मेलों में फार्मर्ज खुद द्वारा तैयार नई फसलों को प्रदर्शित कर पाएंगे। कृषि मंत्री रामलाल मार्कंडेय ने कहा है कि जिनके फल-सब्जियां बेहतर आंके…

एक बंदर  पकड़ने पर मिलेंगे हजार रुपए, लोगों को ट्रेनिंग देगी जयराम सरकार, वन मंत्री ने दिए निर्देश

हिमाचल में एक बंदर पकड़ने पर अब एक हजार रुपए दिए जाएंगे। बंदरों को काबू करने के लिए प्रदेश की जयराम सरकार लोगों को बाकायदा टे्रनिंग भी दिलवाएगी। वन मंत्री गोविंद ठाकुर ने कहा है कि मौजूदा समय में एक बंदर पकड़ने पर एक हजार रुपए दिए जाते हैं,…

रंगड़ बने शिकारी और किसान शिकार

हिमाचल में रंगड़ किसानों के सबसे बड़े दुश्मन बन गए हैं। इस साल रंगड़ों के विषैले डंक से अब तक 11 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। प्रदेश में सालाना 25 लोग रंगड़ों का शिकार बनते हैं, जबकि सैकड़ों जीवन भर के लिए असहाय हो जाते हैं। खास बात यह कि…

हिमाचल के लिए आलू की नई किस्म

सीपीआरआई की कुफरी करण वैरायटी से मालामाल होंगे किसान, बेहतर साइज, रोगमुक्त और गजब का है स्वाद मैदानी राज्यों के लिए दो अलग वैरायटी भी उतारी , प्रदेश के लाखों फार्मर्ज को होगा फायदा हिमाचल में आलू बीजने वाले किसानों के लिए राहत भरी…

हिमाचल में खुलेगी वैटरिनरी यूनिवर्सिटी, जयराम सरकार ने दिए संकेत

हिमाचल में लगभग हर परिवार पशुपालन से किसी न किसी तरह जुड़ा हुआ है। कोई व्यवसाय के लिए, तो कोई शौक के लिए पशु पालता है। लोगों की इसी जरूरत को भांपकर प्रदेश की जयराम सरकार यहां वैटरिनरी यूनिवर्सिटी अलग से खोलने की सोच रही है। अगर ऐसा…

किसान सम्मान के 2-2 हजार नहीं मिले तो यह उपाय करें

मोदी सरकार ने किसानों की आय में बढ़ोतरी के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम शुरू की है, लेकिन हिमाचल में ऐसे कई किसान हैं,जिन्हें आगे की किस्तें नहीं मिल पा रही हैं। अगर आपको किस्त नहीं मिली है,तो फिक्र न करें। हम आपको बताएंगे कि…

आस्ट्रेलिया खाएगा हिमाचल का देसी आम, सैंसोवाल सहकारी सभा से एमओयू साइन

हिमाचल में मुख्यतः चौसा, लंगड़ा, दशहरी व पुराना देसी आम पाया जाता है। आम की सालाना 23 हजार मीट्रिक टन से ज्यादा पैदावार होती है। कुल 38 हजार हेक्टेयर पर मैंगों प्रोडक्शन होती है... भले ही हिमाचल में देसी आम की कद्र न हो, लेकिन आस्ट्रेलिया…

बंपर धान का काले गोले ने बिगाड़ा काम, उपचुनाव में किसानों ने उछाला मसला

प्रो. अश्वनी, डीन पालमपुर डा. प्रवीण भाटिया, विशेषज्ञ आईजीएससी समूचे हिमाचल पर इन दिनों दो बड़ी घटनाएं असर डाल रही हैं। इनमें पहली है उपचुनाव और दूसरा धान की पकी फसल को समेटने का टाइम। इसे संयोग ही कहा जा सकता है…

सब्जी मंडी कूहल ओबीसी भवन के मसलों से गरमाया धर्मशाला उपचुनाव

हिमाचल के पच्छाद और धर्मशाला में हो रहे उपचुनावों पर हजारों किसानों की पैनी नजर है। पिछली बार अपनी माटी टीम ने पच्छाद का दौरा कर हरड़ उगा रहे किसानों का दर्द बयां किया था। इस बार हमने धर्मशाला हलके में किसानों का दर्द बांटने की कोशिश की है।…

पहले मंडियों का पल पल रेट परखें फिर खेत से ही बेच दें फसल

हिमाचल में किसानों को अकसर यह शिकायत रहती है कि मंडियों में उन्हें रेट नहीं मिलता। या फिर मंडी दूर होने से टाइम बर्बाद हो जाता है। तो अपनी माटी में हाजिर है वह समाचार,जो किसी न किसी तरह प्रदेश के 10 लाख किसानों से जुड़ा हुआ है। इसके लिए…

पच्छाद में दूध की सूखी नदियां मांग रहीं हिसाब

हिमाचल में धर्मशाला और पच्छाद विधानसभा हलकों के लिए उपचुनाव हो रहा है। दोनों ही विधानसभा क्षेत्र किसान बहुल हैं । खासकर पच्छाद के तो 113 बूथों में 110 ग्रामीण हैं। पच्छाद हिमाचल के पहले मुख्यमंत्री डा वाईएस परमार का गृहक्षेत्र भी है। डा.…

हरड़-बेहड़ा और गुच्छी बचाने के लिए छिड़ी मुहीम

आपने अकसर लोगों को हरड़-बेहड़ा और आंवला की खूबियां गिनाते सुना होगा, लेकिन क्या आपको पता है ये औषधीय पेड़-पौधे व फसलें धीरे-धीरे लुप्त होते जा रहे हैं। हम आपके लिए यह खास खबर लाए हैं, जिसमें दिव्य हिमाचल बताएगा कि कैसे किन- किन …

प्रदेश में अपग्रेड होंगी 14 सब्जी मंडियां

फल सब्जी उगाकर हिमाचल की इकोनॉमी को चलाने वाले लाखों किसानों के लिए लंबे समय बाद उम्मीदों भरी खबर है। हिमाचल मार्केटिंग बोर्ड 35 करोड़ की लागत से जल्द दो नई सब्जी मंडियां खोलने वाला है,जबकि 14 अन्य मंडियों को अपग्रेड करने की योजना पर तेजी…

लावारिस पशुओं ने कितने मारे जयराम सरकार को नहीं पता

विधानसभा का मानसून सत्र भले ही विधायकों के बढ़े हुए यात्रा भत्ते के लिए चर्चित रहा हो, लेकिन किसान भाइयों के लिए भी इसमें काफी कुछ जानने योग्य रहा। ये वे सूचनाएं हैं, जो यात्रा भत्ते के बवाल में दब गईं। विधानसभा में सबसे बड़ी जानकारी…

हजार हेक्टेयर पर महकते फूलों में नोटों की खुशबू 

मौजूदा समय में पांच सौ हैक्टेयर से अधिक क्षेत्र में मैरीगोल्ड की खेती की जा रही है। वहीं ग्लैड सौ हैक्टेयर में महक रहा है। सिरमौर के बाद कांगड़ा, सोलन, बिलासपुर और चंबा में भी लोग फूलों की खेती को अपना रहे हैं... कभी…