Browsing Category

अपनी माटी

बागबानों को बागबाग करेगा सेब 

2010 में 4 करोड़ सेब पेटी पैदावार हिमाचल में वर्ष 2010 में सेब की बंपर क्रॉप हुई थी। उस दौरान 4 करोड़ के लगभग सेब बॉक्स मार्केट में पहुंचे थे। जबकि 2016 में यह दर 2.35 करोड़ सेब बॉक्स और 2017 में 2.79 करोड़ सेब बॉक्स रहे। अब इसके…

पहली जीरो बजट गेहूं तैयार रेट 50 रुपए किलो

पालमपुर -जीरो बजट प्राकृतिक खेती विधि के तहत गेहूं पर किया गया पहला टयल सफल रहा है। पालमपुर के भट्टूं क्षेत्र में बंसी किस्म की गेहूं का बीज लगाया गया था, जिसके परिणामों से विभाग उत्साहित है। प्रदेश में प्राकृतिक तरीके से…

करंट से मौत पर अब तीन लाख मुआवजा

महकमे की मांग पर प्रदेश सरकार ने बढ़ाया बजट... खेती कार्य के दौरान करंट से मौत पर पीडि़त किसान परिवार को अब तीन लाख रुपए मुआवजा दिया जाएगा। प्रदेश सरकार ने इसके लिए बजट बढ़ा दिया है। अपनी माटी के लिए दिव्य हिमाचल द्वारा जुटाई गई जानकारी के…

सुने लें किसान धान के सबसे बेहतर बीज ये रहे

हिमाचल के मैदानी इलाकों में गेहूं की थ्रेशिंग खत्म हो गई है, जबकि पहाड़ी एरिया में यह काम जोरों से चल रहा है। अब धान का सीजन शुरू होने वाला है। ऐसे में किसान जानना चाह रहे हैं कि वे इस बार धान की कौन सी किस्में रोपें जिससे पैदावार डबल हो…

क्विंटल गेहूं की़ 210 रुपए कटाई किसान बोले, कहां जाएं भाई

प्रदेश में थ्रेशिंग के नाम पर किसानों से लूट का खेल चल रहा है, लेकिन कोई भी उनकी फरियाद सुनने वाला नहीं है। गौर रहे कि इस बार 1840 रुपए प्रति क्विंटल गेहूं बिक रही है... देश में किसानों की आय डबल करने के लिए हमारे नेता हर रोज नए नए…

खोखले बीजों पर किसानों ने पकड़ा सिर महकमे का दावा, ऐसा कुछ नहीं

ऊना के दीनालाल ने लाख कोशिशें कीं, लेकिन खेत में भिंडी नहीं उगी, इसी तरह पांवटा के संतोष ने टमाटर की पनीरी डाली, तो बीज फूट ही नहीं बन पाया। कुछ ऐसी ही कहानी थी कांगड़ा के रमेश की, उनके खेत में इस बार गेहूं का सिल्ला ढाई इंच भी नहीं बन…

डिपुओं में अंग्रेजी खाद खोखला है जीरो बजट खेती का राग

हिमाचल सरकार आए दिन दावा करती है कि किसाना जीरो बजट खेती की तरफ बढ़ रहे हैं, लेकिन अगर आप सरकारी डिपुओं में देखें, तो वहां अंग्रेजी खाद की भरमार में कोई फर्क नजर नहीं आएगा। बेशक, सरकारी आंकड़ाां में अंग्रेजी खादी घटी, है, लेकिन यह समुद्र…

अप्पर में फंसी सेब की सेटिंग

निचले इलाकों में मौसम ने साथ दिया, लेकिन अप्पर में बारिश-धुंध बिगाड़ रही खेल दिव्य हिमाचल वेव टीवी के लिए अपनी माटी की टीम ने इस बार अप्पर शिमला में सेब की विस्तृत पड़ताल की। इस दौरान पता चला कि समुद्रतल से 2200 मीटर तक ऊंचाई वाले इलाकों…

जादुई मशरूम का कैप्सूल तैयार

विटामिन डी की कमी पूरा करने के लिए रामबाग सीएसआईआर के वैज्ञानिकों ने कर दिखाया कमाल नई तकनीक से किसान भी पैदावार कर करेंगे कमाई विटामिन डी की कमी से जूझने वालों के लिए राहत भरी खबर है। सीएसआईआर ( हिमालय जैवसंपदा प्रौद्योगिकी संस्थान)…

बंजर जमीन पर महकी कॉफी

धर्मशाला के एक्सीलेंस अवार्डी परिवार ने माटी को तराशकर बनाया सोना, कॉफी की फसल उगाकर हजारों किसानों को दिखाई कामयाबी की राह हिमाचल में ऐसे हजारों किसान हैं,जो बंजर जमीन पर कुछ भी नहीं उगाते हैं। तो ऐसे किसान भाइयों के लिए एक बड़ी…

चीनी से 300 गुना मीठा पर शुगर का दुश्मन मोंक फ्रूट

वैज्ञानिकों ने चीन में पाए जाने वाले मोंक फ्रूट को स्टीविया की तर्ज पर मिठास के विकल्‍प के तौर पर तैयार किया है। कहने को मॉक फ्रूट चीनी के मुकाबले करीब 300 गुना अधिक मीठा होता है, लेकिन यह शुगर के मरीजों के लिए लाभदायक है भारत में शुगर…

प्लास्टिक की कैद से छूटेंगे दूध-ब्रेड-चिप्स

पालमपुर में आईएचबीटी के वैज्ञानिकों ने खोजा खास तरह का बैक्टीरिया हिमालय जैव संपदा प्रौद्योगिकी संस्थान (आईएचबीटी) के वैज्ञानिकों ने एक ऐसे बैक्टीरिया की पहचान की है जो प्राकृतिक बायो डी-ग्रेडेबल प्लास्टिक बनाता है तथा एक माह की अवधि में…

खुमानी पलम  पर खतरा

लगतार बर्फ और आड़ू पर भी मंडराया संकट हमारी टीम ने पाया कि मौसम के बिगड़े तेवरों का हालांकि ज्यादा असर पहाड़ी एरिया में होने की आशंका है, लेकिन मैदान भी इससे अछूते नहीं रहेंगे। प्रदेश के शिमला, सिरमौर, सोलन समेत निचले इलाकों में स्टोन…

अब एक ही पौधे पर पैदा होंगे आलू व टमाटर

कृषि वैज्ञानकों की मानें तो पोमोटो की खेती अमरीका और यूरोप के कुछ देशों में व्‍यापक स्‍तर पर होती है यह सबसे आसान है। इसे गमले में भी उगाया जा सकता है आलू और टमाटर का गहरा रिश्ता है। दोनों एक ही प्रजाति की सब्जियां हैं। इन दोनों सब्जियों…

बुरांस दिल हो या दिमाग रामबाण है

हिमाचल के पहाड़ी इलाके इन दिनों सुनहरे लाल व गुलाबी रंग के बुरांस के फूलों से गुलजार हो उठे हैं। बुरांस के फूल चार से सात हजार फुट  की ऊंचाई के वनों में फरवरी से अप्रैल मई तक खिलते हैं। बुरांस एक ऐसा वन पुष्प है, जो अपनी लाल, गुलाबी सुंदरता…