अर्थव्यवस्था की कमजोर स्थिति

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक यह भी सही है कि कभी-कभी मरीज की बीमारी को दूर करने के लिए सर्जरी करनी पड़ती है और इस दौरान मरीज का कष्ट बढ़ता है, लेकिन इस आकलन में संकट यह है कि कष्ट सुधार की ओर ले जा रहा है…

सबसे तेज अर्थव्यवस्था का सच

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक भाजपा का कहना था कि कांग्रेस में निर्णय लेने की क्षमता नहीं रह गई थी। भाजपा अर्थव्यवस्था को तेजी से आगे बढ़ाएगी जिससे कि तमाम रोजगार उत्पन्न होंगे। बीते समय में तमाम अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं…

सार्वभौमिक आय योजना

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक देश की सरकार यदि चाहे तो यूबीआईएस के लिए धन जुटा सकती है। गणित इस प्रकार है। केंद्र सरकार द्वारा कल्याणकारी योजनाओं पर निम्न प्रकार के खर्च किए जा रहे हैं - खाद्य सबसिडी पर 140000 करोड़ रुपए प्रति…

जीएसटी पर पुनर्विचार करें

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक जीएसटी के कारण अर्थव्यवस्था की कुशलता का लाभ नहीं मिल रहा है। जीएसटी लागू होने के कारण साइकिल की उत्पादन लागत कम हुई है, लेकिन आम आदमी के पास साइकिल खरीदने के लिए क्रय शक्ति ही नहीं रही है। यह ऐसे…

 विकास दर के लक्ष्य का रास्ता

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक सरकारी बैंकों को बेचकर उस रकम का सरकार के अधीन ही दूसरे कार्यों में निवेश करने से सरकार की भूमिका छोटी नहीं होती है, बल्कि सरकार की भूमिका में गहराई आएगी। मेरा तर्क अर्थव्यवस्था में सरकार की…

सरकारी बैंकों की सर्जरी

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक कुल आकलन इस प्रकार बैठता है। सरकारी बैंक अकुशल हैं, जबकि प्राइवेट बैंक इनकी तुलना में कुशल हैं। सरकारी बैंक की जवाबदेही आधी है, जबकि प्राइवेट बैंक में इसकी कोई आवश्यकता नहीं होती है। सामाजिक दायित्व…

चुनाव में नोट छापने का खतरा

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक अतः इस समय सही मायने में सरकार के हाथ बंधे हुए हैं। सरकार की पिछले पांच सालों की नीतियों के कारण अर्थव्यवस्था कमजोर है। तदानुसार वित्तीय और मौद्रिक दोनों नीतियों से इस कमजोरी को तोड़ना कठिन है।…

कांग्रेस-भाजपा में होगा चुनाव

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक 2017 में सेंट्रल पोल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने थर्मल पावर प्लांट्स को वायु को प्रदूषित करने की पांच साल की और छूट दे दी है। विश्व के अधिकतम वायु प्रदूषित शहर भारत में हैं। वायु प्रदूषण कम करने को भाजपा…

बुनियादी संरचना का गहराता संकट

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक मेरा मानना है कि वित्त मंत्रालय को सूचना थी कि बुनियादी संरचना की मांग में वृद्धि नहीं हो रही है, लेकिन देश-मतदाता को बड़ी योजनाएं लागू करके प्रभावित करने के लिए वित्त मंत्रालय ने इस जानकारी को दबाए…

छोटे उद्योगों को संरक्षण कैसे

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक छोटे उद्योगों को संरक्षण देने का दूसरा आधार उद्यमिता के विकास का है। धीरूभाई अंबानी जैसे महान उद्योगपति किसी समय छोटे उद्योग चलाते थे। यदि छोटे उद्योगों को संरक्षण नहीं दिया जाता, तो धीरूभाई जैसे…

ईंधन तेल का मंडराता संकट

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक ऐसे में हम अमरीका का साथ देकर दोगुना नुकसान करेंगे। एक तरफ वेनेजुएला और ईरान से तेल न खरीद कर, महंगा तेल खरीदेंगे और दूसरी तरफ अमरीका भी हमारी मदद नहीं कर सकेगा। इसके विपरीत यदि हम वेनेजुएला औरईरान…

सौर ऊर्जा का उज्ज्वल भविष्य

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक सौर ऊर्जा के गिरते दाम से हमें थर्मल एवं हाइड्रोपावर एक उत्तम विकल्प मिल गया है, चूंकि अपने देश में सूर्य की रोशनी भी प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है। राजस्थान के रेगिस्तान, गुजरात के कच्छ क्षेत्र और…

बिजली कंपनियां खस्ताहाल क्यों

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक सच यह है कि मेन्युफैक्चरिंग के लिए देश को बिजली की जरूरत कम है, क्योंकि हमारा विकास मुख्यतः सेवा क्षेत्र से हो रहा है, जिसमें बिजली की डिमांड कम होती है।खपत के लिए भी बिजली की डिमांड कम है, क्योंकि…

आर्थिक चुनौतियों की कसौटी पर बजट

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक सरकार को उत्तराखंड में गंगा पर बन रही तीन जल विद्युत परियोजनाएं सिंगोली भटवारी, तपोवन विष्णुगाड और विष्णुगाड पीपलकोटी को तत्काल निरस्त कर देना चाहिए था। साथ-साथ गंगा पर जहाज चलाने की पालिसी को त्याग…

एमएसपी को सीमित करना होगा

डा. भरत झुनझुनवाला आर्थिक विश्लेषक किसान की आय बढ़ाने के लिए फसलों के उत्पादन और मूल्य को बढ़ाने की नीति घातक है, चूंकि देश के पास इतना पानी ही नहीं है। अतः हमें उत्पादन घटाकर किसान की स्थिति में सुधार लाना होगा। इसके लिए हर किसान,…