आत्म पुराण

इस प्रकार पापी जीव अपने कुटुंब सहित अथवा अकेले ही नरकों में ऐस भयंकर और पीड़ाकारक दंड सहन करते हैं, जिनका वर्णन भी करना कठिन है। जब विकराल स्वरूप वाले ऐसे पापी जीवों को दृढ़ पाशों में बांधकर नरक में ले जाते हैं तो वे उनके पापों का वर्णन…

चतुरस्त्र की दूसरी रेखा पर आठ लोकमाताएं

चतुरस्त्र की दूसरी रेखा पर (चार द्वार तथा चार कोण) आठ लोकमाताएं विराजमान हैं-ब्राह्मी, माहेश्वरी, कौमारी, वैष्णवी, वाराही, ऐंद्री, चामुंडा तथा महालक्ष्मी-ये शक्तियां तमाल के समान श्यामला हैं और रक्तवस्त्रों से सुसज्जित हैं। लाल कमल और…

यूनिक एसिड में खान-पान

आज के समय में यूरिक एसिड बनने के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं।  यह आधुनिक जीवन शैली का एक गंभीर रोग है। शरीर में प्यूरिन के टूटने से यूरिक एसिड बनता है। प्यूरिन एक ऐसा पदार्थ है, जो खाने वाली चीजों में पाया जाता है। खाने वाली चीजों से यह…

परमेश्वर की पूजा

स्वामी विवेकानंद गतांक से आगे...  वह घट-घट में प्रकट हो रहा है, लेकिन मनुष्य को वह मनुष्य रूप में ही दृष्टि गोचर, उपलब्ध होता है। जब उसकी ज्योति, उसका अस्तित्व, उसका ईश्वरत्व मानवी मुखमंडल पर प्रकट होता है, तभी मनुष्य उसकी पहचान कर सकता…

व्रत एवं त्योहार

27 मई रविवार, ज्येष्ठ, शुक्लपक्ष. त्रयोदशी 28 मई सोमवार, ज्येष्ठ, शुक्लपक्ष, चतुर्दशी 29 मई मंगलवार, ज्येष्ठ,  शुक्लपक्ष, ज्येष्ठ पूर्णिमा 30 मई बुधवार,  ज्येष्ठ,  कृष्णपक्ष, प्रथमा 31 मई बृहस्पतिवार, ज्येष्ठ,  कृष्णपक्ष, द्वितीया…

संपूर्ण जगत के  संचालक विष्णु

यह संपूर्ण विश्व भगवान श्रीविष्णु की शक्ति से ही संचालित है। वे निर्गुण भी हैं और सगुण भी। वे अपने चार हाथों में क्रमशः शंख, चक्र, गदा और पद्म धारण करते हैं। जो भी किरीट और कुंडलों से विभूषित, पीतांबर धारी, वनमाला तथा कौस्तुभमणि को धारण…

प्रेत बाधा निवारण को प्रयोग

ओउम नमो नीलकंठाय, श्वेत शरीराय नमः। सर्पलिंकृत भूषणाय नमः। भुजंग परिकराय नागा यज्ञोपवीताय नमः। अनेक काल मृत्यु विनाशनाय नमः।। युग युगांत काल प्रलय प्रचंडाय नमः। ज्वलन्मुखाय नमः द्रष्टा कराल धोर रूपाय नमः। हुं हुं फट् स्वाहा। ज्वालामुखाय…

ऐसे दूर करें सांसों की बदबू

सुबह ब्रश करने के बाद भी कई बार सांसों से बदबू आने लगती है। मुंह से बदबू आने पर कोई भी आपके साथ बैठना और बात करना पसंद नहीं करेगा। यह ऐसी स्थिति होती है जिससे आपको बार-बार शर्मिंदा होना पड़ता है। मुंह से आने वाली बदबू को दूर करने के लिए लोग…

आंतरिक अनुभूति

ओशो वैज्ञानिक कहते हैं कि जब तुम किसी की तरफ  बहुत प्रेम से देखते हो तो तुम्हारे भीतर से एक ऊर्जा उसकी तरफ  बहती है। अब इस ऊर्जा को नापने के भी उपाय हैं। तुम्हारी तरफ  से एक विशिष्ट ऊष्मा, गर्मी उसकी तरफ  प्रवाहित होती है ठीक वैसे ही जैसे…

ब्‍लड प्रेशर दूर करे खीरे का जूस

ब्लड प्रेशर बढ़ जाने पर दिल और किडनी की बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है। हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को हार्ट अटैक, हार्ट फेलियोर, किडनी फेलियोर, कार्डियक अरेस्ट आदि बीमारियों का खतरा ज्यादा रहता है इसलिए हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर के…

विष्णु पुराण

ये त्वनेकवसुप्राजदेवा ज्योति पुरोगमाः। वसवोऽष्टौ समाख्यातास्तेषां वक्ष्यामि विस्तरम। आपो धु्रवश्च सोमश्च धर्मश्चैवानिलोऽनलः। प्रत्यषश्च प्रभासश्च वसवो नामिभः स्मृताः। आपस्या पुत्रो वैंतण्उः श्रमः ध्वनिस्तथा। धु्रवस्य पुत्रो भगवान्कालौ…

गीता रहस्य

स्वामी रामस्वरूप विविध प्रकार के हवन करने वाले योगीजन सर्वव्यापक जगदीश्वर की तथा वेदों की  और सबके उत्पदाक  देव ईश्वर की महान स्तुति रूप सत्य वाणी वेद को जानकर परमेश्वर में मन तथा बुद्धि को समाधिस्थ करते हैं। इस मंत्र का भाव है कि साधक…

हनुमान जी का एक बाल है  1000 शिवलिंगों के बराबर

हनुमान जी ने भी यही कहा कि पुरुषमृगा की गति बहुत तेज है और उसका कोई मुकाबला नहीं कर सकता। उसकी गति मंद करने का एक ही उपाय है। क्योंकि वह शिवजी का परम भक्त है इसलिए यदि हम उसके रास्ते में शिवलिंग बना दंे तो वह उनकी पूजा करने अवश्य रुक जाएगा।…

क्यों मनाया जाता है गंगा दशहरा

जिस दिन मां गंगा पृथ्वी पर अवतरित हुई थीं, उस दिन ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि थी। तभी से इस दिन को गंगा दशहरा के नाम से जाना जाने लगा। माना जाता है कि मां गंगा अपने साथ पृथ्वी पर संपन्नता और शुद्धता लेकर आई थीं। तब से आज तक…

अनेक पुण्य देती है पद्मिनी एकादशी

अधिक मास या पुरुषोत्तम मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को पद्मिनी एकादशी कहते हैं। इसे कमला एकादशी भी कहा जाता है। इस दिन राधा-कृष्ण और शिव-पार्वती की पूजा की जाती है। अन्य एकादशियों के समान ही इस व्रत के विधि-विधान हैं। इस व्रत में दान का…