Daily Archives

Nov 17th, 2017

अब 250 से कम आबादी की बस्तियों को भी सड़क

आधा हिमाचल आज भी पैदल नाहन —  प्रदेश सरकार भले ही राज्य में विकास के नित नए आयाम स्थापित करने के दावे करती है, लेकिन हकीकत इसके एक दम विपरीत है। राज्य के अथाह विकास की पोल प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में खुलती नजर आती है, जहां अभी भी राज्य की…

शिक्षा विभाग 50% ऑनलाइन

जल्द पेपरलैस होगा सारा काम, 20 लाख रुपए होंगे खर्च शिमला —  शिक्षा विभाग का सारा काम जल्द ऑनलाइन होगा। विभाग का 50 प्रतिशत कार्य ऑनलाइन हो चुका है। इस प्रक्रिया पर 20 लाख रुपए खर्च किए जाएंगे। डाटा ऑनलाइन होने के बाद शिक्षा विभाग प्रदेश…

हिमाचल की दवाइयां घटिया

सीडीएससीओ के मानकों पर खरा नहीं उतर पाई आठ फार्मा कंपनियों की मेडिसिन बीबीएन— केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की जांच में हिमाचल के आठ दवा उद्योगों में निर्मित दवाएं सब-स्टैंडर्ड पाई गई हैं। ये दवाएं बद्दी, झाड़माजरी ,…

प्रदेश में खुलेंगे क्रिकेट के 70 सब-सेंटर

क्रिकेट एसोसिएशन सभी केंद्रों के लिए जल्द करवाएगी टेंडर बिलासपुर —  क्रिकेट प्रेमियों के लिए अच्छी खबर है, क्योंकि अब जल्द ही हिमाचल प्रदेश में क्रिकेट के 70 सब-सेंटर स्थापित होने जा रहे हैं। इसके लिए हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन ने अपनी…

अब दोबारा नहीं करेंगे डिप्लोमा

राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ ने डीएलएड शर्त का किया कड़ा विरोध; कहा, फैसला वापस न लिया तो होगा आंदोलन नालागढ़ —  जो अध्यापक पहले से ही डाइट से प्रशिक्षण प्राप्त कर जेबीटी बन चुके हैं और छह सालों से नियमित रूप से स्कूलों में पठन-पाठन का काम…

एनएच 154 हर कदम पर डंपिंग सड़क के बीच पार्किंग

मटौर  —  नेशनल हाई-वे-154 के विस्तारीकरण ने हाई-वे को डंपिंग साइट में बदल दिया है। पुराना मटौर से गगल तक आज कल कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिल रहा है। हाई-वे के दोनों ओर जगह-जगह लगे मिट्टी के ढेरों से आए दिन न केवल जाम के हालात बन रहे हैं…

जेपी यूनिवर्सिटी में खून दान करने के लिए नौजवान क्रेजी

सोलन —  जेपी सूचना एवं प्रौद्योगिकी  विश्वविद्यालय वाकनाघाट में ओमेगा लियो क्लब तथा आईजीएमसी की सहायता से रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया।  शिविर में विश्वविद्यालय के छात्रों तथा शिक्षकों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया। रक्तदान शिविर में शिमला व…

चलाली में एनएच हादसे का घर

देहरा गोपीपुर   —  रानीताल-मुबारिकपुर नेशनल हाई-वे पर चलाली गांव के नजदीक सड़क का एक बड़ा हिस्सा पिछले काफी समय से ध्वस्त हो चुका है। नेशनल हाई-वे होने के कारण यहां ट्रैफिक इतना अधिक है कि हर वक्त किसी बड़ी दुर्घटना का डर बना रहता है।…