प्रताप सिंह पटियाल

जोशीमठ जैसी आपदाओं को प्राकृतिक आपदा का नाम देने से पहले पहाड़ों पर इनसानी दखलअंदाजी से हो रही घटनाओं पर रायशुमारी होनी चाहिए। इनसानी सभ्यता के मुस्तकबिल को महफूज रखने के लिए भूगर्भ वैज्ञानिकों की नसीहत व निर्देशों को संजीदगी से लेना होगा। जोशीमठ को हर कीमत पर बचाना होगा… पृथ्वी पर कुदरत की सबसे

स्मरण रहे विश्व युद्धों में भाग लेने वाले भारतीय सैनिकों का मंजिल-ए-मकसूद भी अंग्रेजों की सफ्फाक हुक्मरानी से भारत की आजादी ही था। बहरहाल सेना दिवस के अवसर पर ‘कायर हुनु भन्दा मर्नु राम्रो’ जैसे ध्येय वाक्य को सार्थक करने वाले सैनिकों को नमन है… ‘कायर हुनु भन्दा मर्नु राम्रो’ अर्थात् कायर की तरह जीने

स्मरण रहे हजारों वर्ष पुरानी गौरवशाली सभ्यता वाला भारत ‘वसुधैव कुटुंबकम’ जैसी आदर्श संस्कृति तथा राष्ट्रभक्ति के विचारों का वारिस रहा है। अत: सियासत का मकसद जो भी हो, मगर जहन में नजरिया राष्ट्रवाद का ही होना चाहिए। हिंद की सरजमीं को अपने रक्त से सींचकर गुलामी की दास्तां से मुक्त करके आजाद भारत का

यदि देश के हुक्मरान सेना की 17वीं डिवीजन के कमांडर मे. ज. ‘सगत सिंह राठौर’ द्वारा 1967 में नाथुला सेक्टर में चीनी सेना पर की गई माकूल कार्रवाई को अमल में लाएं तो जंग की दहलीज पर बैठकर वार जोन में आने के ख्वाब देख रहा डै्रगन अक्साई चिन पर अफसोस जाहिर करेगा। इतिहास साक्षी

आखिर बांग्लादेश के रामना रेसकोर्स गार्डन में भारतीय सेना की ‘पंजाब रेजिमेंट’ के जरनैल ‘जगजीत सिंह अरोड़ा’ ने मशरिकी पाक के सिपाहसालार ‘आमीर अब्दुल्ला खान’ नियाजी को सरेंडर के दस्तावेज पर दस्तखत करने के लिए पेन थमाकर जिन्ना की ‘टू नेशन थ्योरी’ का एहसास पूरी शिद्दत से करा दिया था। पाकिस्तान के 93 हजार जंगी

देश का हर चुनाव किसी की प्रतिष्ठा का प्रश्न बनता है, किसी का सियासी मुस्तकबिल दांव पर लगा होता है। किसी को अपनी सियासी विरासत बचानी होती है, मगर इक्तदार हासिल होने के बाद हुक्मरानों के सियासी आश्वासनों के आगे आम लोगों की उम्मीदें दम तोड़ जाती हैं। इंतखाबी तशहीर में किए वादे अंजाम तक

जघन्य अपराधों के बढ़ते ग्राफ से देश की तमाम व्यवस्थाओं पर सवाल खड़े हो रहे हैं। यौन उत्पीडऩ, धर्मांतरण तथा लव जिहाद जैसी साजिश के चलते महिलाशक्ति के हकूक देश के संविधान तक ही सीमित रह चुके हैं। देश के हुक्मरान महिला सशक्तिकरण की दुहाई जरूर देते हैं, मगर वास्तव में स्थिति कुछ और ही

यदि मुल्क की सियासी कयादत इच्छाशक्ति दिखाए तो विश्व की सर्वोत्तम भारतीय थलसेना सरहदों की बंदिशों को तोडक़र डै्रगन का भूगोल बदलने में गुरेज नहीं करेगी। अत: हमारे हुक्मरानों को समझना होगा कि शांति का मसीहा बनकर अमन की पैरोकारी करने के लिए एटमी कुव्वत से लैस सैन्य महाशक्ति बनना भी जरूरी है। रेजांगला दिवस

हिमाचल की बिजली से हमसाया सूबे रौशन हुए। चरमरा चुकी देश की कृषि अर्थव्यवस्था को नई ऊर्जा मिली। भारत खाद्यान्न क्षेत्र में आत्मनिर्भर बना। मगर बिजली व पानी के लिए कुर्बानी देकर देश के कृषि व औद्योगिक क्षेत्र में इंकलाब लाने वाले भाखड़ा व पौंग के हजारों विस्थापित परिवारों को आखिर क्या मिला… चुनावी मौसम

सैन्यबलों में युवाओं की भर्ती का पैमाना राज्यों की जनसंख्या के आधार पर नहीं चाहिए, बल्कि शौर्य बलिदान की गौरवशाली विरासत, वीरता पदकों के शानदार इतिहास व भौगोलिक परिस्थितियों के आधार पर होना चाहिए। पुलिस स्मृति दिवस पर अर्ध सेना बलों के शहीदों को नमन… भारत के समस्त पुलिस बल 21 अक्तूबर का दिन ‘पुलिस